GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

पहली बार हुआ गरीबी का एहसास

रवि कुमार

7th September 2017

पहली बार हुआ गरीबी का एहसास

तब मैं सरस्वती शिशु मंदिर में 5 वीं कक्षा का विद्यार्थी था। हर रोज की तरह मैं स्कूल के लिए तैयार हुआ। उस वक्त आसमान बादल से घिर गया था और हम सब बच्चे स्कूल के छुट्टी और बारिश में भीगने का इंतजार कर रहे थे। छुट्टी  हो गई तो एक दोस्त के साथ साइकिल लेकर बारिश में भीगते हुए घर की ओर जा रहा था। हमारे पास 2 रुपये थे जिससे हमने रास्ते में पडऩे वाली एक दुकान पर कुछ खाने के लिए लेने की बात सोची। तभी दुकान से एक बूढ़ी औरत 1 किलो आटा लेकर निकली। वह कुछ ही दूर चली होगी कि उसकी पन्नी फट गई और सारा आटा पानी में फैल गया। हम उसे देखने लगे। वो बूढ़ी औरत वहीं रास्ते में बैठकर आटे को बारिश के पानी के साथ समेटने लगी। यह देखकर हमें देखकर बहुत ही खराब लगा। तब हमें पहली बार गरीबी का एहसास हुआ था। आज भी यह घटना याद आ जाती है तो दिल दुखी हो जाता है।


ये भी पढ़ें-

लाल फूल जैसा ब्लडीफूल

जन्माष्टमी का चंदा

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

स्कूलों की सुरक्षा गाइडलाइन को जांचने के बाद ही मिलनी चाहिए मान्यता, क्या आप इससे सहमत हैं?

गृहलक्ष्मी गपशप

अपने इस ऐप के जरिए डॉ. अंजली हूडा सांगवान लोगों को रखती हैं फिट

अपने इस ऐप के जरिए डॉ....

"गृहलक्ष्मी ऑफ द डे"- डॉ. अंजली हूडा सांगवान

रिंग सेरेमनी से दें रिश्ते को पहचान

रिंग सेरेमनी से...

रिंग सेरेमनी, ये एकमात्रा रस्म नहीं बल्कि एक ऐसा मौका...

संपादक की पसंद

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

आओ, हम ही श्रीगणेश...

“मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो” मां...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

रिदम और रूद्राक्ष...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription