GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

जब मुंह फूल गया

तनु सिंह

12th July 2017

जब मुंह फूल गया


मेरी शादी को 2 महीने ही हुए थे। मुझे मीठा खाने का बहुत शौक है, पर मेरे पति को मीठा बिल्कुल भी पसंद नहीं है। खाना खाने के बाद बिना मीठा खाए मैं रह नहीं पाती। बात कुछ दिन पहले की है। रात को डिनर करने के बाद आदतानुसार मैंने पति से पूछा कि आपको मीठा खाना है, तो इन्होंने मना कर दिया। इनके मना करने के बाद मेरी हिम्मत नहीं हुई कि मैं अकेले मीठा खाऊं। मैं सोच रही थी कि अगर मैंने मीठा खाया तो पति बोलेंगे कि कितना मीठा खाती है। मैं बुझे मन से किचन की सफाई करने लगी। मेरा काम में दिल नहीं लग रहा था। हुड़क सी हो रही थी मीठा खाने की। कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूं। जब दिल नहीं माना तो मैंने पहले पति को देखा कि वो क्या कर रहे हैं। उनको टीवी देखता देख मैं समझ गई कि अब ये किचन में नहीं आएंगे। मैंने फ्रिज खोलकर रसगुल्ला मुंह में डाल लिया और बरतन साफ करने लगी। अचानक तभी मेरे पति किचन में आए और बात करने लगे। मैं कुछ नहीं बोल पा रही थी, क्योंकि मुंह में रसगुल्ला था। जब काफी देर तक मैं नहीं बोली तो उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी तरफ मेरा चेहरा किया। मेरा चेहरा देखकर वो बोले कि अरे ये क्या हुआ, तुम्हारा गाल तो फूला हुआ है। अभी तो ठीक था। ये जबरदस्ती मेरा मुंह खोलने लगे कि देखें क्या हो गया है। पर जैसे ही उनका हाथ मेरे गाल में आया, मैं मुंह चलाने लगी। तब मेरे पति को समझ आया कि मैं कुछ खा रही हूं। फिर क्या था, वह खूब हंसे। उनको हंसता देखकर मैं शर्म से लाल हो गई।

ये भी पढ़ें-

लैपटॉप के सामने रोमांस

भाभी आप तो बिलोरन निकली

कहां से मुंह काला कराया

 

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकते हैं।

 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

स्कूलों की सुरक्षा गाइडलाइन को जांचने के बाद ही मिलनी चाहिए मान्यता, क्या आप इससे सहमत हैं?

गृहलक्ष्मी गपशप

अपने इस ऐप के जरिए डॉ. अंजली हूडा सांगवान लोगों को रखती हैं फिट

अपने इस ऐप के जरिए डॉ....

"गृहलक्ष्मी ऑफ द डे"- डॉ. अंजली हूडा सांगवान

रिंग सेरेमनी से दें रिश्ते को पहचान

रिंग सेरेमनी से...

रिंग सेरेमनी, ये एकमात्रा रस्म नहीं बल्कि एक ऐसा मौका...

संपादक की पसंद

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

आओ, हम ही श्रीगणेश...

“मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो” मां...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

रिदम और रूद्राक्ष...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription