GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

प्रेगनेंसी को लेकर है अगर कोई कंफ्यूजन तो ये बातें जरूर जान लें

गृहलक्ष्मी टीम

14th July 2017

प्रेगनेंसी को लेकर महिलाओं को कई तरह की कंफ्यूजन रहती है, जिसके चलते उनको ये पता नहीं लग पता की वो प्रेगनेंट हैं की नहीं ? आखिर क्या है प्रेगनेंसी को लेकर महिलाओं के सवाल, आइये जानें-

प्रेगनेंसी को लेकर है अगर कोई कंफ्यूजन तो ये बातें जरूर जान लें

अक्सर देखा जाता है कि ज्यादातर महिलाओं प्रेगनेंसी को लेकर कई प्रकार के डाउट होते हैं जैसे -वो गर्भावस्था का पता किस तरह से लगाएं, अगर घर पर टेस्ट कर भी लिया तो क्या दोबारा टेस्ट करना जरूरी है आदि जैसे कई  सवाल महिलाओं के दिमाग में होते हैं, जिसमें वो उलझी रहती हैं ।प्रेगनेंसी से संबंधित महिलाओं के सवालों के जवाब क्या हैं जरा जानें-

‘मैं यह पक्का पता कैसे लगाऊं कि मैं गर्भवती हूं या नहीं?’’

सबसे पहले तो अपने मन की बात सुनें। इसी से आपको कुछ-कुछ अंदाजा हो जाएगा। वैसे वही अंदाजे के लिए चिकित्सा विज्ञान तो टेस्ट अधिक संवेदनशील होते हैं।  यह भी याद रखें कि गर्भावस्था में प्रतिदिन एच.सी.जी. का स्तर बढे़गा यदि आप बहुत जल्दी टेस्ट कर रही है तो रेखा हल्की ही आएगी। दो दिन बाद फिर से देखें । आपका सारा शक दूर हो जाएगा।

‘‘मेरा पहला प्रेगनेंसी टेस्ट पाॅजिटिव था लेकिन कुछ देर बाद निगेटिव नतीजा आया फिर मेरे पीरियड हो गए। यह क्या हो रहा है?’’

लगता है कि आपको कैमिकल प्रेगनेंसी हुई थी। ऐसी गर्भावस्था शुरू होने से पहले ही खत्म हो जाती है। इस गर्भावस्था में अंडा फर्टिलाइज होकर गर्भावस्था में इम्प्लांट होने लगता है लेकिन पूरी तरह इंप्लांट नहीं हो पाता। गर्भावस्था में बदलने की बजाय यह पीरियड में खत्म हो जाता है। विशेषज्ञों का अनुमान है कि सभी गर्भाधानों में से करीब 70 प्रतिशत कैमिकल ही होते हैं, अधिकतर महिलाओं को पता तक नहीं चल पाता कि वे गर्भवती हुई थीं (होम प्रेगनेंसी टेस्ट नहीं थे तो महिलाओं का पता तक नहीं चलता था ) जल्दी से प्रेगनेंसी टेस्ट कर लेना और पीरियड का देर से होना, इसी वजह से कैमिकल प्रेगनेंसी के लक्षण सामने आते हैं। मेडिकल के नजरिए से, कैमिकल प्रेगनेंसी एक चक्र की तरह होती है, जिसमें प्रेगनेंसी में कोई गर्भपात नहीं होता आप जैसी भावुक महिलाओं के लिए यह दूसरी की कहानी हो जाती है, जो बहुत पहले टेस्ट कर लेती हैं। हालांकि यह तकनीकी रूप से गर्भावस्था का नुकसान नहीं है। बस एक वादा टूट जाता है, जो आपको और आपके साथी के दिल को दुखा देता है।

‘‘मुझे लगा कि मैं गर्भवती हूं, लेकिन मेरे तीनों टेस्ट निगेटिव आए। मुझे क्या करना चाहिए?’’

यदि आपको तीन निगेटिव टेस्ट के बावजूद लग रहा है कि आप गर्भवती हैं तो कुछ भी पक्का पता लगने तक वे सभी सावधानियां बरतें, जो एक नई गर्भवती स्त्री को ध्यान रखनी चाहिए। अपनी उसी तरह देखभाल करें। हो सकता है कि आपका शरीर, उस टेस्ट से कहीं ज्यादा अच्छे तरीके से जानता हो। एक सप्ताह तक इंतजार करने के बाद दोबारा टेस्ट करें हो सकता है कि आपने पहले बहुत जल्दी टेस्ट कर लिया हो। अपने चिकित्सक से रक्त की जांच भी करवा सकती हैं वह ज्यादा संवेदनशील से मूत्र में एच.सी.जी. के स्तर के बारे में बता देगा। संभव हो सकता है कि सभी लक्षण महसूस करने के बावजूद गर्भवती न हों। यदि टेस्ट निगेटिव आते रहें और पीरियड भी न हुए हों तो डाॅक्टर से कहें कि वे इन लक्षणों के दूसरे जैविक कारण का पता लगाएं। हो सकात है कि आप भावनात्मक कारणों से यह लक्षण महसूस कर रही हों। कई बार मन की इच्छा शरीर पर इतनी हावी हो जाती है कि गर्भावस्था न होने के बावजूद उसके लक्षण दिखने लगते हैं। 

‘‘जब मैंने घर में होम प्रेगनेंसी टेस्ट किया तो उसमें सिर्फ हल्की सी रेखा दिखाई दी।क्या मैं गर्भवती हूं।’’

आपके रक्त या मूत्र में एच.सी.जी. का स्तर दिखने पर ही इस टेस्ट में पॉजिटिव नतीजे दिखाई देते हैं। यह आपके शरीर में तभी बनता है, जब आप गर्भवती होती हैं। टेस्ट में चाहे हल्की सी रेखा क्यों न आ रही हो, आप गर्भवती हैं। आपको गाढ़ी की बजाय हल्की रेखा इसलिए दिखी होगी क्योंकि आप जो टेस्ट कर रही हैं, वे संवेदनशीलता के स्तर पर अलग-अलग होते हैं। गर्भावस्था में एच.सी.जी. का स्तर हर रोज बढ़ता है। यह भी देखना होगा कि गर्भधारण किए कितना समय बीत गया है।यदि आपने बहुत जल्दी जांच की है तो उसमें एच.सी.जी.का हल्का संकेत ही मिलेगा। अपने प्रेगनेंसी टेस्ट की संवेदनशीलता जांचने के लिए पैकेट के पीछे दिए माप व मात्राओं को ध्यान से पढ़ें। इसमें मिली इंटापैशनल यूनिट पर लीटर की मात्रा जितनी कम होगी,टेस्ट उतना ही संवेदनशील होगा। 50 मिली की बजाय 20 मिली वाला टेस्ट आपको जल्दी और बेहतर नतीजे दे सकता है। ज्यादा मंहगे टेस्ट अधिक संवेदनशील होते हैं। यह भी याद रखें कि गर्भावस्था में प्रतिदिन एच.सी.जी.का स्तर बढ़ेगा। यदि आप बहुत जल्दी टेस्ट कर रही हैं तो रेखा हल्की ही आएगी। दो दिन बाद फिर से देखें। आपका सारा शक दूर हो जाएगा।

ये भी पढ़ें -

नौ महीने और आपका खान-पान

स्टेरॉयड के सेवन से हो सकती है इनफर्टिलिटी

मां बनना है तो ओव्यूलेशन का रखें ख्याल 

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

स्कूलों की सुरक्षा गाइडलाइन को जांचने के बाद ही मिलनी चाहिए मान्यता, क्या आप इससे सहमत हैं?

गृहलक्ष्मी गपशप

अपने इस ऐप के जरिए डॉ. अंजली हूडा सांगवान लोगों को रखती हैं फिट

अपने इस ऐप के जरिए डॉ....

"गृहलक्ष्मी ऑफ द डे"- डॉ. अंजली हूडा सांगवान

रिंग सेरेमनी से दें रिश्ते को पहचान

रिंग सेरेमनी से...

रिंग सेरेमनी, ये एकमात्रा रस्म नहीं बल्कि एक ऐसा मौका...

संपादक की पसंद

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

आओ, हम ही श्रीगणेश...

“मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो” मां...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

रिदम और रूद्राक्ष...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription