GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

साइबर अपराध: अतिरिक्त सावधानी बरतें महिलाएं

वीणा सबलोक पाठक

5th September 2017

भारत में साल 2011 से पांच साल की अवधि के दौरान महिलाओं के साथ होने वाले साइबर अपराधों की संख्या में पांच गुना की बढ़ोतरी हुई है...

साइबर अपराध: अतिरिक्त सावधानी बरतें महिलाएं

पिछले दिनों मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में एक सनसनीखेज और निर्मम हत्या के केस का खुलासा हुआ जिसमें एक युवक ने अपनी लिविंग पार्टनर की गला घोटकर हत्या करने के बाद उसके शव को पॉलीथिन में डाल कर लिविंग रूम में दफना दिया और उसके ऊपर पक्का प्लास्टर करवा दिया, जब पुलिस ने इस केस की तहकीकात की तो तथ्यों से पता चला कि भोपाल में रहने वाले युवक ने कलकत्ता में रहने वाली पढ़ी लिखी नौकरी पेशा युवती के साथ फेसबुक पर पहले दोस्ती की और फिर उसे अमरीका में नौकरी दिलाने के नाम पर भोपाल बुला लिया, दोनों वहां साथ रहने लगे।

युवक ने अपनी फेसबुक प्रोफाइल में न्यूयार्क में नौकरी करने का दावा किया था, लेकिन जल्द ही युवती को युवक के झूठ का पता चल गया। जिस बात पर दोनों में आये दिन झगड़े होने लगे और एक दिन युवक ने युवती को बेरहमी से कत्ल कर दिया। पुलिस तहकीकात में यह भी पता चला कि युवक ने अलग अलग नामों से कई फेक अकाउंट बना रखे हैं जिसमें उसकी बहुत सी लड़कियों के साथ दोस्ती है। कुछ लड़कियों को ब्लैकमेल करने और उनको अश्लील मैसेज भेजने का भी खुलासा हुआ। इसके साथ ही युवक द्वारा कुछ साल पहले माता-पिता की हत्या करने का भी पता चला।

वास्तव में सायबर अपराध सुशिक्षित वर्ग द्वारा सुशिक्षित वर्ग के साथ होने वाले अपराध हैं, जिन्होंने महानगरों के साथ-साथ छोटे बड़े शहरों को भी अपनी चपेट में ले लिया है। सूचना प्रौद्योगिकी ने आप लोगों के जीवन को सरल सुगम और आसान बना दिया है। इंटरनेट की सहायता से अब दुनिया भर की जानकारी आपकी मुट्ठी में है। अब न देश-विदेश की दूरियां है और न सात समंदर पार की मजबूरियां। इंटरनेट ने दुनिया को छोटा कर दिया है, लेकिन यह सुविधा अपने साथ कुछ खामियां भी लेकर आई है। इंटरनेट के माध्यम से किसी भी व्यक्ति की  निजी जानकारी भी आसानी से ली जा सकती है, जिसका जमकर दुरूपयोग किया जाता है।

समाज ने भले ही कितनी भी तरक्की क्यों न कर ली हो परंतु आधुनिकता के बावजूद महिलाओं को लेकर समाज की सोच में कोई ज्यादा फर्क नहीं आया है। आपसी दुश्मनी का मामला हो या फिर किसी से बदला लेने की बात हो अथवा आपसी रंजिश, अधिकांश घटनाओं में महिला ही सबसे आसान और सुगम जरिया बनती है। पिछले दिनों ऐसा ही एक मामला उजागर हुआ था जहां एक लड़के और लड़की के प्रेम सम्बन्ध का खामियाजा लड़के की बहन को भुगतना पड़ा। लड़की का परिवार दोनों के रिश्ते का विरोध कर रहा था जब दोनों ने शादी कर ली तो बदला लेने के लिए लड़की के भाई ने उस युवक की बहन की अश्लील तस्वीरे इंटरनेट पर अश्लील कमेंट के साथ डाल दी।

आजकल ऐसे ढेरों उदाहरण देखने को मिलते हैं जब महिलाओं के अश्लील एमएमएस बना कर उन्हें नेट पर अपलोड कर दिया जाता है। एक सर्वे के अनुसार करीब 63% मामलों में तलाक अथवा ब्रेकअप के बाद पति अथवा बॉयफ्रेंड इस प्रकार की हरकत करते हैं। साथ ही महिलाओं को इंटरनेट के माध्यम से ब्लैकमेल करने की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। ऐसे अधिकतर मामलों में पहले फेसबुक पर दोस्ती होती है, युवती की इंफार्मेशन इकट्ठी कर ली जाती है और फिर शुरू होता है ब्लैकमेलिंग का सिलसिला।

इसके अलावा युवतियां जहां से फोन रीचार्ज करवाती हैं वहां से उनका नम्बर लेकर अश्लील मैसेज आदि किये जाते हैं। इसके साथ ही शॉपिंग मॉल्स अथवा दुकानों के चेंजिंग रूम्स में कैमरे लगे होने की घटनाएं आए दिन अखबारों की सुर्खियां बनती हैं। अलग-अलग नामों से फेक अकाउंट बना कर महिलाओं को निशाना बनाया जाता है। इस तरह और इससे जुड़ी सारी घटनाएं सायबर अपराध की श्रेणी में आती हैं। ये शारीरिक नहीं बल्कि मानसिक अपराध होते हैं, जो सीधे महिला के दिल और दिमाग पर वार करते हैं। 

 

ये भी पढ़ें 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

स्कूलों की सुरक्षा गाइडलाइन को जांचने के बाद ही मिलनी चाहिए मान्यता, क्या आप इससे सहमत हैं?

गृहलक्ष्मी गपशप

अपने इस ऐप के जरिए डॉ. अंजली हूडा सांगवान लोगों को रखती हैं फिट

अपने इस ऐप के जरिए डॉ....

"गृहलक्ष्मी ऑफ द डे"- डॉ. अंजली हूडा सांगवान

रिंग सेरेमनी से दें रिश्ते को पहचान

रिंग सेरेमनी से...

रिंग सेरेमनी, ये एकमात्रा रस्म नहीं बल्कि एक ऐसा मौका...

संपादक की पसंद

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

आओ, हम ही श्रीगणेश...

“मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो” मां...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

रिदम और रूद्राक्ष...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription