GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

प्रेगनेंसी के दौरान वर्कआउट के हैं कई फायदे

गृहलक्ष्मी टीम

14th September 2017

आपको अपना आलस छोड़, दिन में कम से कम आधा घंटा तो व्यायाम करना ही चाहिए। ज्यादातर महिलाएँ इस सलाह को अपनाकर फिट रहती हैं। यदि डॉक्टर मना न करें तो आप भी इस सलाह पर अमल कर सकती हैं। आपको पता होना चाहिए कि इस व्यायाम से आपको व शिशु को कितना लाभ हो सकता है।

प्रेगनेंसी के दौरान वर्कआउट के हैं कई फायदे

पूरे शरीर में तकलीफ है, आप सो नहीं सकतीं, पीठ में तेज दर्द है, टखनों में सूजन है, बुरी तरह से कब्ज है। दूसरे शब्दों में कहें तो आप गर्भवती हैं। आप  इन दुख-तकलीफों को घटाने की थोड़ी कोशिश करें, वैसे दिन में 30 मिनट के व्यायाम से काफी मुश्किलें हल हो सकती हैं। आपको अपना आलस छोड़, दिन में कम से कम आधा घंटा तो व्यायाम करना ही चाहिए। ज्यादातर महिलाएँ इस सलाह को अपनाकर फिट रहती हैं। यदि डॉक्टर मना न करें तो आप भी इस सलाह पर अमल कर सकती हैं। आपको पता होना चाहिए कि इस व्यायाम से आपको व शिशु को कितना लाभ हो सकता है।

नियमित व्यायाम से लाभ

  • कई बार ज्यादा आराम भी आपको थका देता है। थोड़े से व्यायाम से आपकी ऊर्जा का स्तर बढ़ता है।
  • व्यायाम करने से आपकी नींद पहले से काफी बेहतर हो जाती है और आप सोकर उठने के बाद तरोताजा महसूस करती हैं।
  • व्यायाम करेंगी तो गैस्टेशनल मधुमेह से बची रहेंगी।
  • व्यायाम करने से मस्तिष्क से एंडोरफिन का स्राव होता है आप का मूड काफी बेहतर व खुशनुमा रहता है। तनाव व उत्तेजना घटते हैं।
  • पीठ के दर्द व दबाव से राहत पाने का भी अच्छा उपाय है।
  • स्ट्रैचिंग करने से मांसपेशियों को आराम मिलता है व उनकी लोच काफी बढ़ जाती है। मांसपेशियों का तनाव घटता है।
  • ये व्यायाम कहीं भी, कभी भी किए जा सकते हैं। इनके लिए पसीना बहाने की भी जरूरत नहीं पड़ती।
  • 10 मिनट की चहलकदमी भी आपको कब्ज से छुटकारा दिला सकती है।
  • आपका पेट साफ रहता है और चेहरे की ताजगी बनी रहती है।

अगले पेज पर पढ़ें सी सैक्शन से कैसे बचें

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

स्कूलों की सुरक्षा गाइडलाइन को जांचने के बाद ही मिलनी चाहिए मान्यता, क्या आप इससे सहमत हैं?

गृहलक्ष्मी गपशप

अपने इस ऐप के जरिए डॉ. अंजली हूडा सांगवान लोगों को रखती हैं फिट

अपने इस ऐप के जरिए डॉ....

"गृहलक्ष्मी ऑफ द डे"- डॉ. अंजली हूडा सांगवान

रिंग सेरेमनी से दें रिश्ते को पहचान

रिंग सेरेमनी से...

रिंग सेरेमनी, ये एकमात्रा रस्म नहीं बल्कि एक ऐसा मौका...

संपादक की पसंद

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

आओ, हम ही श्रीगणेश...

“मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो” मां...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

रिदम और रूद्राक्ष...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription