गणेश जी को क्यों प्रिय हैं मोदक, जानिए इसके पीछे की पौराणिक मान्यता

यशोधरा वीरोदय

2nd September 2019

वैसे ये तो सभी भक्तजन जानते हैं, गणेश जी को मोदक पसंद है, पर ऐसा क्यों है ये बहुत कम लोग जानते हैं। आज हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं गणेश जी को मोदक क्यों प्रिय है।

गणेश जी को क्यों प्रिय हैं मोदक, जानिए इसके पीछे की पौराणिक मान्यता

 

भगवान गणेश देवो के देव माने जाते हैं, मान्यता है कि कोई भी पूजा अर्चना तब तक फलित नहीं होती, जब तक गणेश जी की अराधना ना हो। ऐसे में किसी भी पूजन कार्य और अनुष्ठान की शुरूवात गणेश जी की पूजा-वंदना के साथ ही होती है और जोकि विशेष फलदायी मानी जाती है। खासकर गणेश महोत्सव के दौरान तो गणेश पूजा का खास महत्व होता है, भक्तजन अपने घरों में भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करते हैं और पूरे विधि-विधान से 10 दिनों तक पूजा करते हैं और फिर ग्यारहवें दिन मूर्ति विसर्जन करते हैं। गणेश पूजा के दौरान भोग का विशेष महत्व होता है, जैसा कि गणेश जी को मोदक प्रिय है, तो उन्हें मोदक के भोग लगाए जाते हैं।
वैसे ये तो सभी भक्तजन जानते हैं, गणेश जी को मोदक क्यों पसंद है, पर ऐसा क्यों है ये बहुत कम लोग जानते हैं। आज हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं गणेश जी को मोदक क्यों प्रिय है। दरअसल, इसके पीछे कई सारी पौराणिक मान्यताएं प्रचलित हैं... तो चलिए जानते हैं ऐसे ही कुछ प्रसंग के बारे में...

 

पहली कथा

 

इसके पीछे जो सबसे प्रचलित मान्यता है, वो ये कि एक बारपरशुराम से युद्ध के दौरान गणेश जी का दांत टूट गया था। जिसके कारण उनके दांत में काफी तेज दर्द उठा और ऐसे में उनके लिए खासतौर पर ऐसा व्यंजन तैयार किया गया, जिसे खाने में कोई दिक्कत ना हो और वो था मोदक। मोदक खाने में जितने स्वादिष्ट होते हैं उतने ही नर्म और मुलायम भी, ऐसे में भगवान गणेश को ये मोदक काफी पसंद आए और तभी से ये उनके प्रिय हो गएं।

 

दूसरी कथा

 

दूसरी कथा ये है कि एक बार पार्वती जी ने विशेष लड्डू यानी मोदक बनाएं और अपने दोनों पुत्रों कार्तिकेय और गणेश जी से कहा कि जो भी अपने ज्ञान, बुद्धिमत्ता और शक्ति का परिचय देगा, वो ही इन मोदक का असली हकदार होगा। ऐसे में कार्तिकेय अपनी श्रेष्ठता साबित करने के लिए पूरे ब्रह्माण्ड की परिक्रमा करने निकल पड़ें, वहीं गणेश जी ने अपने माता-पिता शिव-पार्वती की परिक्रमा कर ये तर्क दिया उनके लिए उनके माता-पिता ही सारा संसार है। ऐसे में गणेश जी के इस तर्क से शिव जी और मां पार्वती काफी खुश हुएं और उन्हें तीनों लोकों में ज्ञान, विज्ञान और कला में सबसे निपुण होने का आशीर्वाद दिया। इसके साथ ही देवी पार्वती के हाथों बनाए गए मोदक भी गणेश जी के हो गए और तभी से उनके प्रिय भोग में मोदक शामिल हो गया।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

गणेश जी क्यो...

गणेश जी क्यों कहलाए एकदंत धारी, जानिए इसके...

रुद्राभिषेक ...

रुद्राभिषेक से पूरी होगी मनोकामना, रखें इन...

क्यों नहीं क...

क्यों नहीं करने चाहिए गणेश जी की पीठ के दर्शन...

गणेश चतुर्थी...

गणेश चतुर्थी: ऐसे करें गणपति को प्रसन्न,...

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

समृद्धिदायक ...

समृद्धिदायक लक्ष्मी...

यू तो लक्ष्मी साधना के हजारों स्वरूपों की व्याख्या...

कैसे करें लक...

कैसे करें लक्ष्मी...

चौकी पर लक्ष्मी व गणेश की मूर्तियां इस प्रकार रखें...

संपादक की पसंद

कैसे दें घर ...

कैसे दें घर को फेस्टिव...

कैसे दें घर को फेस्टिव लुक

घर पर भी सबक...

घर पर भी सबकुछ और...

‘जब से शादी हुई है सिर्फ लाइफ मैनेज करने में ही सारी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription