GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

प्रकृति का ये कैसा करिश्मा?

Neha Dogra

5th September 2019

आज हम बात करेंगे हिमाचल प्रदेश के उन दों अद्भुत मंदिरों के बारे में जहां पर भगवान का चमतकार आज भी बरकरार है।

प्रकृति का ये कैसा करिश्मा?
यूं तो ये धरती ही भगवान की बनाई हुई किसी करिश्मे से कम नहीं हैं। लेकिन आज हम बात करेंगे हिमाचल प्रदेश के उन दों अद्भुत मंदिरों के बारे में जहां पर भगवान का चमतकार आज भी बरकरार है। हम बात कर रहे हैं हिमाचल में स्थिक कालका जी मंदिर और मनिकर्ण मंदिर की। 
जी हां, यह दोनों मंदिर ऐसे हैं जिनमें आप जा कर भगवान की कुदरत देख हैरान हो जाएंगे। क्योंकि एक मंदिर में खुद ब खुद ज्वाला जल रही हैं तो वहीं दूसरे मंदिर में जमीन से उबलता हुआ गर्म पानी निकल रहा है। 
पहले बात करते हैं ज्वाला जी मंदिर की, इस मंदिर में ऐसी कई जगह हैं जहां बिना तेल जोती और दिए के ‘लौ जल' रही हैं। इस भगवान के कुदरती करिश्में को देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं। मंदिर के पुजारी जल रही कुदरती लौ पर भक्तों को दिखाने के लिए पानी भी डाल कर दिखाते हैं। चौंकने की बात तो यह है कि पानी डालने के बाद भी लौ को कोई फर्क नहीं पड़ता है।  
अब हम बात करेंगे मनिकर्ण मंदिर की, यह मंदिर बेहद विशाल पहाड़ों के बीच में हैं। लेकिन चमतकारी बात ये है कि यहां जमीन से खौलता हुआ पानी निकलता है। इस पानी से वहां के गुरुद्वारें का खाना भी पकाया जाता है। इससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह पानी कितना गर्म होता होगा। सोचने वाली बात तो ये है कि यह पानी खुद ब खुद इतना ज्यादा गर्म कैसे हो रहा है जिसमें खाना भी बनाया जा रहा है? अब कुछ भी हो, यह तो साफ है कि भगवान का करिश्मा आज भी बरकरार है। 
यह तो हो गई इन दों मंदिरों कि बातें लेकिन आपको बता दें हिमाचल में ऐसे कई मंदिर हैं जहां भगवान का करिश्मा आज भी देखने को मिलता है। जिसे देखने लोग दूर-दूर से जाते हैं।  
 
यह भी पढ़िए- 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

जन्माष्टमी पर जाएं कान्हा के धाम

default

बर्फ की इन ऊंची पहाड़ीयों से बहता है आग का...

default

घूमने जाएं गंगा किनारे जहां विराजते हैं स्वयं...

default

विश्व में इकलौता है ये देवी सीता का मंदिर...

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

जानिए बॉलीवु...

जानिए बॉलीवुड की...

चलिए जानते हैं कुछ एक्ट्रेसेस के बारे में जिन्होंने...

चाणक्य के अन...

चाणक्य के अनुसार...

सदियों से ये सोच चली आ रही है महिलाएं शारीरिक और मानसिक...

संपादक की पसंद

रामायण: घर-घ...

रामायण: घर-घर में...

रामानंद सागर की 'रामायण' लॉकडाउन में जब दोबारा प्रसारित...

खाद्य पदार्थ...

खाद्य पदार्थ जो...

आजकल आप थके-थके रहते हैं। रोमांस करने की आपकी इच्छा...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription