द्रौपदी रह चुकी हो

दिव्या कौशिक

6th September 2019

मुझे नाटकों में भाग लेने और लिखने का शौक बचपन से ही रहा है। इसलिए जब मेरी शादी की बात चली तो अपने होने वाले पति की लेखन क्षमता से प्रभावित होकर मैंने रिश्ते के लिए हां कर दी। शादी के कुछ साल बाद एक रोज हमारा किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ।

द्रौपदी रह चुकी हो

गुस्से में आकर मेरे मुंह से निकला कि मैं तुमसे तंग आ गई हूं, इससे अच्छा तो यह होता कि मैं कुंआरी रह जाती। मेरा इतना कहते ही ये तपाक से बोल पड़े, 'हमने तो सुना था कि तुम कॉलेज के दिनों में स्टेज पर द्रौपदी का रोल कर चुकी हो। जिसने पांच पति संभाले हों वो आज एक अकेले पति से तंग कैसे आ सकती है? उनकी बात सुनते ही मेरा सारा गुस्सा छूमंतर हो गया और मैं शर्म से लाल हो गई। उनकी हंसी में मेरी हंसी और झेंप दोनों शामिल थे।

 

ये भी पढ़ें-

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

हम तो रोज पी...

हम तो रोज पीते हैं

ऐसी कौन सी 6...

ऐसी कौन सी 6 बातें हैं जो महिलाओं को हैं...

जानें पति-पत...

जानें पति-पत्नी एक दूसरे से कैसी शिकायतें...

उसे हॉट एंड ...

उसे हॉट एंड सॉर सूप समझकर पी गई

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

कोरोना काल म...

कोरोना काल में आज...

शक्ति का नाम नारी, धैर्य, ममता की पूरक एवम्‌ समस्त...

मनी कंट्रोल:...

मनी कंट्रोल: बचत...

बचत करना जरूरी है लेकिन खर्च भी बहुत जरूरी है। तो बात...

संपादक की पसंद

कोलेस्ट्रॉल ...

कोलेस्ट्रॉल कम करने...

कोलेस्ट्रॉल कम करने के आसान तरीके

सिर्फ एक दिन...

सिर्फ एक दिन में...

एक दिन में कोई शहर घूमना हो तो आप कौन सा शहर घूमना...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription