GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

द्रौपदी रह चुकी हो

दिव्या कौशिक

6th September 2019

मुझे नाटकों में भाग लेने और लिखने का शौक बचपन से ही रहा है। इसलिए जब मेरी शादी की बात चली तो अपने होने वाले पति की लेखन क्षमता से प्रभावित होकर मैंने रिश्ते के लिए हां कर दी। शादी के कुछ साल बाद एक रोज हमारा किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ।

द्रौपदी रह चुकी हो

गुस्से में आकर मेरे मुंह से निकला कि मैं तुमसे तंग आ गई हूं, इससे अच्छा तो यह होता कि मैं कुंआरी रह जाती। मेरा इतना कहते ही ये तपाक से बोल पड़े, 'हमने तो सुना था कि तुम कॉलेज के दिनों में स्टेज पर द्रौपदी का रोल कर चुकी हो। जिसने पांच पति संभाले हों वो आज एक अकेले पति से तंग कैसे आ सकती है? उनकी बात सुनते ही मेरा सारा गुस्सा छूमंतर हो गया और मैं शर्म से लाल हो गई। उनकी हंसी में मेरी हंसी और झेंप दोनों शामिल थे।

 

ये भी पढ़ें-

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

कहां से मुंह काला कराया

default

तो बदल लो

default

जब पत्थर  ने बदल दिया पत्थर दिल

default

पहने या ना पहने