द्रौपदी रह चुकी हो

दिव्या कौशिक

6th September 2019

मुझे नाटकों में भाग लेने और लिखने का शौक बचपन से ही रहा है। इसलिए जब मेरी शादी की बात चली तो अपने होने वाले पति की लेखन क्षमता से प्रभावित होकर मैंने रिश्ते के लिए हां कर दी। शादी के कुछ साल बाद एक रोज हमारा किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ।

द्रौपदी रह चुकी हो

गुस्से में आकर मेरे मुंह से निकला कि मैं तुमसे तंग आ गई हूं, इससे अच्छा तो यह होता कि मैं कुंआरी रह जाती। मेरा इतना कहते ही ये तपाक से बोल पड़े, 'हमने तो सुना था कि तुम कॉलेज के दिनों में स्टेज पर द्रौपदी का रोल कर चुकी हो। जिसने पांच पति संभाले हों वो आज एक अकेले पति से तंग कैसे आ सकती है? उनकी बात सुनते ही मेरा सारा गुस्सा छूमंतर हो गया और मैं शर्म से लाल हो गई। उनकी हंसी में मेरी हंसी और झेंप दोनों शामिल थे।

 

ये भी पढ़ें-

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

हम तो रोज पी...

हम तो रोज पीते हैं

ऐसी कौन सी 6...

ऐसी कौन सी 6 बातें हैं जो महिलाओं को हैं...

जानें पति-पत...

जानें पति-पत्नी एक दूसरे से कैसी शिकायतें...

सौम्या टंडन ...

सौम्या टंडन - बेटा मिरान मेरी दुनिया है

गृहलक्ष्मी गपशप

फिल्में, जो ...

फिल्में, जो करें...

फिल्में...हमारी असल जिंदगी का ही दूसरा रूप। जिन्हें...

सेक्स के समय...

सेक्स के समय अजीब...

बहुत सी बार सेक्स के दौरान कुछ ऐसा हो जाता है जिसकी...

संपादक की पसंद

किसी आलीशान ...

किसी आलीशान महल...

बॉलीवुड के सिंघम अजय देवगन एक फैमिली मैन हैं और अपने...

बच्चों को सि...

बच्चों को सिखाएं...

योगा एक ऐसा प्रयास साबित हो रहा है, जिसके साथ लोगों...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription