GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

झांसी की रानी

गार्गी अग्रवाल

6th September 2019

यह बात उन दिनों की है जब मेरी आयु लगभग छह वर्ष की रही होगी। एक बार मैं अपनी मम्मी के साथ अपनी मौसी के घर रहने के लिए गई।

झांसी की रानी

एक दिन मेरी मौसी का बेटा 'झांसी की रानी कविता जोर से बोल कर याद कर रहा था। मैं बड़े ध्यान से उसे सुन रही थी, तभी उसने ये पंक्तियां बोली, 'नाना के संग पढ़ती थी वो नाना के संग खेली थी, लक्ष्मी बाई नाम पिता की वह संतान अकेली थी। मैं यह सुनकर तुरंत उठ कर अपनी मम्मी के पास आई और कहा कि मुझे तुरंत नानू से बात करनी है। मम्मी ने भी तुरंत फोन मिला कर रिसीवर मेरे हाथ में दे दिया। उधर से नानू ने पूछा, 'बेटा, क्या बात है मैंने बड़ी मासूमियत से कहा, 'आपने मुझे कभी नहीं बताया कि लक्ष्मी बाई आपकी क्लास में पढ़ती थी और आपके साथ खेलती थी? मेरी बात सुनकर मां व मौसी जोर से हंस पड़े, मां ने रिसीवर लेकर कविता वाली बात बताई तो वो भी हंस पड़े। आज भी इस कविता को सुनती हूं तो मुस्कुराए बिना नहीं रह पाती।

ये भी पढ़ें-

गोटा लेने की जिद

आइब्रो का मुंडन

मम्मी पापा की चटनी बना रही हैं

चोटी में डोरी फंसाकर खिड़की से बांध दी

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

झूठ बोलने से शर्मिंदगी लगी

default

कांटों का उपहार - पार्ट 46

default

दादी की मिली सीख

default

मम्मी पापा की चटनी बना रही हैं