हिंदी पखवाड़ा मनाना मजबूरी या मोहब्बत

गृहलक्ष्मी टीम

12th September 2019

14 सिम्बर का महीना आते ही साहित्य के गलियारे में सुगबुगाहट तेज हो जाती है, कथित लेखक और बुद्धिजीवी कहलाने वाले लोगों में हिंदी पखवाडा़ मानने की होड़ सी मच जाती है। ऐसे में ये सवाल खड़ा होता है कि हिंदी पखवाड़ा मनाना मजबूरी है या मोहब्बत। वरिष्ठ साहित्यकार और जानमाने व्यंग्यकार अनूप श्रीवास्त्व जी की कविता हिंदी में मुस्कराया इसी सवाल का जवाब है।

हिंदी पखवाड़ा मनाना मजबूरी या मोहब्बत

हिंदी में मुस्कुराया

~~~~
हिंदी पखवाड़ा मनाने की
चख चख के दौरान
मैंने कहा ~बड़े बाबू !
आप साल भर तो
सारा काम काज
अंग्रेजी में निपटाते हैं
लेकिन हफ्ता पन्द्रह दिन के लिए
एकदम बदल जाते हैं
सिफ हिंदी हिंदी चिल्लाते हैं
सच सच बताइये बड़े बाबू
आप को अपने आफिस की कसम
इस बार भी आपको क्या 
हिंदी पखवाड़ा मनाने का ख्याल 
अचानक ही आया है
 बड़े बाबू मुस्कराकर बोले
शोर मत मचाइए
मैंने फिर दोहराया 
लेकिन आप को कैसे पता चला
ऐसे क्योंकि
पिछले साल की ही तरह 
आज फिर हमारा बॉस 
कुर्सी पर बैठते ही 
हिंदी में मुस्कुराया है।

 

यह भी पढ़ें -एहसास - गृहलक्ष्मी कहानियां

-आपको यह कहानी कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रियाएं जरुर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही आप अपनी कहानियां भी हमें ई-मेल कर सकते हैं-Editor@grehlakshmi.com

-डायमंड पॉकेट बुक्स की अन्य रोचक कहानियों और प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं को खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-https://bit.ly/39Vn1ji  

 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

जानिए हिंदी ...

जानिए हिंदी भाषा पर महान व्यक्तियों के विचार...

शिक्षक के लि...

शिक्षक के लिए महान व्यक्तियों के अनमोल विचार...

वीरा या प्रे...

वीरा या प्रेरणा - गृहलक्ष्मी कहानियां

मानवता 

मानवता 

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

कोरोना काल म...

कोरोना काल में आज...

शक्ति का नाम नारी, धैर्य, ममता की पूरक एवम्‌ समस्त...

मनी कंट्रोल:...

मनी कंट्रोल: बचत...

बचत करना जरूरी है लेकिन खर्च भी बहुत जरूरी है। तो बात...

संपादक की पसंद

कोलेस्ट्रॉल ...

कोलेस्ट्रॉल कम करने...

कोलेस्ट्रॉल कम करने के आसान तरीके

सिर्फ एक दिन...

सिर्फ एक दिन में...

एक दिन में कोई शहर घूमना हो तो आप कौन सा शहर घूमना...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription