हिंदी पखवाड़ा मनाना मजबूरी या मोहब्बत

गृहलक्ष्मी टीम

12th September 2019

14 सिम्बर का महीना आते ही साहित्य के गलियारे में सुगबुगाहट तेज हो जाती है, कथित लेखक और बुद्धिजीवी कहलाने वाले लोगों में हिंदी पखवाडा़ मानने की होड़ सी मच जाती है। ऐसे में ये सवाल खड़ा होता है कि हिंदी पखवाड़ा मनाना मजबूरी है या मोहब्बत। वरिष्ठ साहित्यकार और जानमाने व्यंग्यकार अनूप श्रीवास्त्व जी की कविता हिंदी में मुस्कराया इसी सवाल का जवाब है।

हिंदी पखवाड़ा मनाना मजबूरी या मोहब्बत

हिंदी में मुस्कुराया

~~~~
हिंदी पखवाड़ा मनाने की
चख चख के दौरान
मैंने कहा ~बड़े बाबू !
आप साल भर तो
सारा काम काज
अंग्रेजी में निपटाते हैं
लेकिन हफ्ता पन्द्रह दिन के लिए
एकदम बदल जाते हैं
सिफ हिंदी हिंदी चिल्लाते हैं
सच सच बताइये बड़े बाबू
आप को अपने आफिस की कसम
इस बार भी आपको क्या 
हिंदी पखवाड़ा मनाने का ख्याल 
अचानक ही आया है
 बड़े बाबू मुस्कराकर बोले
शोर मत मचाइए
मैंने फिर दोहराया 
लेकिन आप को कैसे पता चला
ऐसे क्योंकि
पिछले साल की ही तरह 
आज फिर हमारा बॉस 
कुर्सी पर बैठते ही 
हिंदी में मुस्कुराया है।
ये भी पढ़ें-

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

हिंदी दिवस 2...

हिंदी दिवस 2019: बॉलीवुड के इन स्टार्स की...

विद्या बालन ...

विद्या बालन की अपकमिंग मूवी 'शकुंतला देवी'...

जानिए हिंदी ...

जानिए हिंदी भाषा पर महान व्यक्तियों के विचार...

कैसे जानें? ...

कैसे जानें? कौन है असली कौन है नकली चेहरा...

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या आप भी स...

क्या आप भी स्किन...

स्किन केयर डिक्शनरी

सुपर फूड्स फ...

सुपर फूड्स फाॅर...

माइग्रेन का सिरदर्द अक्सर सुस्त दर्द के रूप में शुरू...

संपादक की पसंद

क्या आज जानत...

क्या आज जानते हैं,...

आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक नायाब घड़ी के बारे में।...

महिलाएं पीरि...

महिलाएं पीरियड्स...

मासिक धर्म की समस्या

सदस्यता लें

Magazine-Subscription