GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

हर घर की जरूरत वाटर प्यूरिफायर्स

नीरा कुमार

28th October 2015

हमारे जीवन में पानी जितना अमूल्य है, उससे ज्यादा जरूरी है उसकी स्वच्छता। यही वजह है जिससे वाटरप्यूरिफायर्स इतने लोकप्रिय होते जा रहे हैं।

हर घर की जरूरत वाटर प्यूरिफायर्स

पानी पीना केवल एक आदत नहीं बल्कि यह हमारे स्वास्थ्य के लिए अतिआवश्यक है। पानी ही हमारे जीवन का आधार है। उचित मात्रा में शुद्ध पानी पीने से कई बीमारियां तो स्वत: ही दूर हो जाती हैं और अशुद्ध पानी पीने से शरीर कई बीमारियों से ग्रसित हो जाता है। आज के समय में पानी इतना प्रदूषित हो गया है कि वाटर प्यूरीफायर हर घर की जरूरत बन गए हैं।

अब वह दिन लद गए जब पानी की गंदगी को दूर करने के लिए वाटर फिल्टर प्रयोग में लाए जाते थे। क्योंकि आज के समय में पानी में अलग-अलग प्रकार की अशुद्धियां पाई जाने लगी हैं। मसलन मेटल, लेड, केमिकल, पॉल्यूशन, माइक्रो ऑर्गेनिजम पॉल्यूशन आदि। इनको साधारण फिल्टर से दूर नहीं किया जा सकता। यदि एक लीटर पानी में खारापन 300 मिलीग्राम से ज्यादा व घुलनशील अशुद्धि 500 मिलीग्राम से ज्यादा हो तो वह पानी पीने के लिए ठीक नहीं। उपरोक्त सीमा से अधिक पाई जाने वाली अशुद्धियां सेहत के लिए खतरा न जाती है।

अब सवाल यह है कि यदि शुद्ध पानी पीना है तो किस प्रकार के वाटर प्यूरीफायर का चुनाव करें। आजकल बाजार में कई ब्रांडों के वाटर प्यूरीफायर मौजूद हैं जैसे- टाटा स्वच्छ, यूरेका फोब्र्स, केंट, प्यूरिट आदि।

इलेक्ट्रानिक वॉटर प्यूरीफायर्स
लगभग तीन दशक से भी पहले यूरेका फोब्र्स द्वारा भारत में एक्वॉगार्ड के नाम से इलेक्ट्रॉनिक वॉटर प्यूरीफिकेशन सिस्टम की शुरुआत की गई थी। आज लगभग दस से भी अधिक नामी ब्रांडों के प्यूरीफायर्स बाजार में उपलब्ध हैं, यह इलेक्ट्रॉनिक वाटर फिल्टर मुख्यत: दो तरह के होते हैं-

1 अल्ट्रावॉयलेट फिल्टर
अल्ट्रावॉयलेट किरणों द्वारा पानी में मौजूद पेस्टीसाइड्स, बैक्टीरिया, आर्गेनिक केमिकल्स आदि को नष्ट करता है। इसकी ई-बॉइल+टेक्नोलॉजी पानी की हर बूंद को उतना ही शुद्ध व सुरक्षित बनाती है, जितना बीस मिनट उबालने पर पानी शुद्ध होता है। अल्ट्रावॉयलेट किरणें सूर्य की किरणों की तरह ही प्राकृतिक व रसायनमुक्त होती है। पर इससे पानी में मौजूद खारापन दूर नहीं होता है। अत: शहर में जहां खारा पानी आता हो वहां यह टेक्नोलॉजी कामयाब नहीं है। इससे पानी तो साफ होगा, पर खारापन नहीं। समय-समय पर इसकी सफाई भी जरूरी है। अल्ट्रावॉयलेट फिल्टर एक समय में लगभग 2000 लीटर पानी को साफ करता है।

 

2. रिवर्स ओस्मोसिस प्यूरीफायर्स
जब पानी में टीडीएस यानी टोटल डिसॉल्वड सॉल्ट्स ज्यादा हों, पानी बेस्वाद हो जाए वहां आरओ सिस्टम पानी के स्वाद को बनाए रखने के साथ-साथ इसे पूरी तरह शुद्ध व सुरक्षित भी बनाता है। इसमें कार्बन फिल्टर भी होता है और मेम्ब्रेन भी, जिससे हानिकारक खनिज और बहुत सूक्ष्म विषाणु निकल जाते हैं। यह खराब पानी को दूसरे रास्ते से निकाल देता है और पानी 100 प्रतिशत स्वच्छ और सुरक्षित मिलता है। इसमें नुकसान सिर्फ इतना है कि कुछ जरूरी खनिज भी पानी से निकल जाते हैं। इस आरओ प्यूरीफिकेशन सिस्टम को सिर्फ वहीं इस्तेमाल किया जाना चाहिए, जहां टीडीएस की मात्रा 500 मिली ग्राम प्रति लीटर से ज्यादा हो।

खरीदने से पहले क्या देखें
ठ्ठ सबसे जरूरी यह है कि वाटर प्यूरिफाइंग सिस्टम खरीदने से पहले पानी में प्रदूषण की मात्रा का पता करें। प्रयोगशाला में पानी की जांच करवाएं। इससे पता चलेगा कि पानी में कौन से हानिकारक बैक्टीरिया, नाइट्रेट और पेस्टीसाइड्स टीडीएस है और उनकी मात्रा कितनी है। उसके बाद ही तय किया जाएगा कि आरओ लेना है या कोई दूसरा वाला।
ठ्ठ बाजार में उपलब्ध असंख्य ब्रांडों में से कुछ को चुनिए और फिर उसकी गुणवत्ता को परखिए। कुछ संस्थाएं हैं जैसे- नेशनल सेनिटेशन फाउंडेशन, वॉटर क्वालिटी एसोसिएशन, फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन, जो वाटर प्यूरीफायर को अंक देती है और इस हिसाब से उसकी गुणवत्ता के बारे में पता चलता है।

टाटा स्वच्छ, यूरेका फोब्र्स, केंट, प्यूरिट आदि कई नामी ब्रांड बाजार में उपलब्ध हैं। कई वाटर प्यूरीफायर दो-तीन तकनीक को मिलाकर बनाए जाते हैं जैसे- यूरेका फोब्र्स के एक्वागार्ड प्रोटेक्ट प्लस में आरओ फिल्टर और अल्ट्रावायलेट किरणों के साथ साफ करने की सुविधा है। हिंदुस्तान लीवर के प्यूरिट में एक्टीवेटेड कार्बन फिल्टर के साथ अल्ट्रावायलेट किरणों से पानी साफ होता है। कहने का अर्थ है कि आधुनिक इलेक्ट्रॉनिक वाटर प्यूरीफायर्स कई तकनीकों से युक्त होते हैं और यह 8 से 15 हजार रुपये व इससे ज्यादा में भी मिल जाते हैं।

इन बातें पर ध्यान दें

  • घर पर ही पानी के विश्लेषण व सैंपल को टेस्ट करने की सुविधाएं प्राप्त हों।
  • कितनी देर में फिल्टर और मेम्ब्रेन बदलने पड़ते हैं।
  • वारंटी-गारंटी की क्या सुविधा उपलब्ध है।
  • तय समय में यह कितनी मात्रा में साफ पानी देता है।
  • प्रोडक्ट एनएसएफ, डब्लूएसए, एफडीए से प्रमाणित है या नहीं।
  • ऑफ्टर सेल सॢवस कैसी है।