GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

पीरियड्स दर्दरहित रहे तो जरूरी है एक्सरसाइज

शिवानी गुप्ता(फिटनेस व जुंबा एक्सपर्ट)

3rd October 2019

पीरियड्स में अगर आप यह सोचती है कि इस समय एक्सरसाइज नहीं करना चाहिए तो यह बिलकुल गलत है, क्योंकि बीइंग फिट फिटनेस सेंटर की फिटनेस व जुंबा एक्सपर्ट शिवानी गुप्ता का कहना है कि अगर आप पीरियड्स में एक्सरसाइज व योगा करती हैं तो उस दौरान उस समय होने वाले दर्द, ऐंठन और तनाव से छुटकारा मिलता है।

पीरियड्स दर्दरहित रहे तो जरूरी है एक्सरसाइज

अमेरिकन कांग्रेस ऑफ आब्स्टट्रिशन एंड गाइनकालॉजिस्ट के अनुसार कार्डियो व्यायाम जैसे वॉकिंग, एरोबिक्स और डांसिंग से पीएमएस के लक्षण कम होते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि जब आप व्यायाम करते हैं तो आपका शरीर एंड्रोफिन नामक हार्मोन स्त्रावित करता है, जो तनाव, मरोड़, सिरदर्द और मासिक धर्म के कारण होने वाले दर्द से राहत पहुंचाने में सहायक होता है।

पीरियड्स में एक्सरसाइज करने के फायदे है

  • माहवारी में होने वाले दर्द, थकान, तनाव को दूर करने के लिए एक्सरसाइज करने पर एंडोॢफन नामक रसायन दर्द निवारक की तरह काम करता है और दर्द और थकान को कम करने में बहुत मदद करता है।
  • एक्सरसाइज करने से एंडोॢफन का स्तर बढ़ता है और पीरियड्स में होने वाले दर्द से राहत मिलती है। महिलाओं में पीरियड के दौरान फीमेल हॉर्मोन की कमी हो जाती है जिसकी वजह से थकान और कमजोरी लगती है, लेकिन अगर आप पीरियड्स के समय में भी एक्सरसाइज करेंगी तो आपको अपने शरीर में ताकत का अनुभव होगा और थकान, कमजोरी जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।
  • एक शोध में पता चला है की मासिक धर्म में व्यायाम करने से आपका मूड हमेशा अच्छा रहता है क्योंकि एक्सरसाइज करने से थकान, चिड़चिड़ाहट और दर्द से आराम मिलता है। और फीमेल हॉर्मोन में आई कमी से होने वाली समस्या को भी पीरियड के दौरान एक्सरसाइज से कम किया जा सकता।
  • मासिक धर्म या पीरियड में दर्द, थकान और ऐंठन से छुटकारा पाने के लिए आप कुछ योगासन भी कर सकती है। योग मुद्राएं माहवारी में होने वाले दर्द, मूड स्विंग्स और कमजोरी से निजात दिलाते है, जिससे शरीर की उर्जा बनी रहती है।

पीरियड्स के दौरान ये एक्सरसाइज

  • एरोबिक्स
  • वाकिंग
  • लेग लिफ्ट एक्सरसाइज
  • साइड लंजेस
  • प्लैंक एक्सरसाइज
  • स्ट्रेचिंग

पीरियड्स के दौरान ये योगासन

  • धनुर्आसन
  • मत्स्यासन
  • उस्त्रासन
  • पासासन
  • वज्रासन
  • पर्वतासन

ये भी पढ़ें -

नवरात्रि में ये वास्तु टिप्स लाएंगे आपके घर में सुख-समृद्धी

वेश्यालय की मिट्टी से क्यों बनाई जाती है मां दुर्गा की मूर्ति

शारदीय नवरात्रि 2019: नौ दुर्गा पूजन की ऐसे करें तैयारी

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

कहीं आप भी तो नहीं हैं पीरियड्स से जुड़े...

default

यदि आपके हाथ-पैर बार-बार सुन्न हो जाते हैं...

default

शर्म छोडि़ए... बेटी से करें पीरियड्स पर बात...

default

सेक्सुअल डिज़ीज़ेस को अनदेखा ना करें

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

कम हो गया है...

कम हो गया है अब...

‘‘मैंने सुना है कि आजकल एपिसिओटॉमी का चलन नहीं रहा...

सेक्स ना करन...

सेक्स ना करने के...

यूं तो हर इंसान अपने जीवन में सेक्स ज़रूर करता है,...

संपादक की पसंद

पूजा में बां...

पूजा में बांधा जाने...

किसी भी पूजा की शुरुआत या समाप्ति के बाद या फिर किसी...

इन हाथों में...

इन हाथों में लिख...

हर दुल्हन अपने होने वाले पति का नाम लिखवाना पसंद करती...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription