GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

दूध में पानी या पानी में दूध

रीता मल्होत्रा

23rd June 2017

दूध में पानी या पानी में दूध


बात 35 साल पुरानी है। जब मेरी शादी हुई थी। मैं रसोई में काम करने गई। सास भी आ गई। वह बोली, बेटी जब भी दूध उबालो तो बर्तन में थोड़ा पानी डाल दिया करो। उन्होंने थोड़ा सा पानी डाला और कहा कि पानी डालने से गाय के थन नहीं जलते हैं। कुछ दिनों बाद हमारे यहां 5 किलो दूध आया, मैंने बर्तन में छह गिलास पानी डाला और फिर दूध डालकर उबलने रख दिया। जब सास ने देखा तो बोली, इतना दूध कैसे हो गया? मैंने कहा, आप ने कहा था, पानी डाल दिया करो, उस दिन 1 किलो था, आज दूध ज्यादा था तो मैंने सोचा कि गाय के चारों थन बचाना चाहिए, इसलिए इतना पानी डाल दिया था। उन्हें इस पर हंसी, गुस्सा दोनों आने लगा। वह तो रसोई में खड़ी रही, पर मैं शर्म के मारे वहां से बाहर आ गई। आज वह तो नहीं हैं, पर जब भी दूध उबालती हूं तो मुझे वह बात ध्यान आ जाती है और अपने पर हंसी आती है।

ये भी पढ़ें-

जन्माष्टमी का चंदा

अभी से पढ़ाई में जुट जाती हूं

पॉपकॉर्न तो छोड़ जाए...

 आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकते हैं।