कार्टूंस से बिगड़ते बच्चे

अर्पणारितेश यादव

30th December 2016

आज के बच्चों की जिंदगी कार्टून चरित्रों में इस कदर उलझ कर रह गई है कि वह बड़ों की इज़्जत करना भूल गए हैं साथ ही इससे उनमें हिंसक प्रवृत्ति और मानसिक बिमारियां भी बढ़ती जा रही हैं।

आधुनिक परिवेश में बच्चों के शारीरिक व मानसिक विकास की प्रक्रिया पहले की तुलना में काफी बदल गई है। आजकल बच्चों के पसंदीदा मनोरंजन खेलकूद व राजा-रानी और परियों की कहानियों की जगह कार्टून कैरेक्टर ने ले ली है। गोली-बंदूक व मार-धाड़ करने वाले इन कार्टून चरित्रों को देखकर बच्चों के मन पर वैसा ही उग्र प्रभाव पड़ता है। वे निजी जिंदगी में वैसे ही बनावटी तरीके से बात करने की कोशिश करते हैं। अपने दोस्तों, भाई-बहनों के साथ उसी अंदाज में लड़ाई-झगड़ा करते हैं और डांटने पर बड़ों के साथ बदतमीजी से बात भी करते हैं। इस बारे में फोर्टिस हॉस्पिटल,मेंटल हेल्थ व बीहेवियरल साइंस विभाग के निदेशक, मनोचिकित्सक समीर पारिख कहते हैं कि बच्चे बहुत कोमल होते हैं। आस-पास के परिवेश में होने वाली घटनाओं का बच्चे के मन व मस्तिष्क पर सीधा प्रभाव पड़ता है। आजकल बच्चों की आउटडोर गेम एक्टिविटी तो लगभग खत्म सी हो गई है। उनका ज़्यादातर समय कंप्यूटर पर वीडियो गेम खेलने या फिर कार्टून देखने में गुज़रता है। इन गेम्स व कार्टूंस का उनके जहन पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ रहा है जिसका परिणाम यह हो रहा है कि बच्चों में हिंसक प्रवृत्ति और मानसिक बीमारियां बढ़ती जा रही हैं।

क्या हैं कारण :- आज तकनीकी उन्नति और पारिवारिक संस्था में आए परिवर्तन की वजह से खेल के मैदान का स्थान प्ले स्टेशन व टीवी ने ले लिया है। शिक्षा के लगातार बढ़ते बोझ के कारण खेलकूद और बाहरी क्रियाकलाप को वक्त की बर्बादी समझा जाने लगा है। पढ़ाई के बाद जितना समय मिलता है उसमें बच्चा या तो कार्टून देखता है या वीडियो गेम खेलता है। इसलिए बच्चों में चिड़चिड़ापन, जल्दी गुस्सा आना और बदतमीजी से बात करना आदि एक आम समस्या बनती जा रही है। हालांकि इसे माता-पिता नादानी का नाम देकर नजरअंदाज कर देते हैं। मनोचिकित्सक, डॉ. समीर पारिख का कहना है कि इस स्थिति में माता-पिता को चाहिए कि बच्चे की गलत आदतों को अनदेखा ना करें बल्कि उसके कारणों को जानने की कोशिश करनी चाहिए। हो सकता है कि खेलकूद न कर पाने या कार्टून चरित्रों के प्रभाव के कारण बच्चा स्कूल व घर में झगड़ा और बदजुबानी कर रहा है।

क्या करें :- अक्सर अभिभावक काम की व्यवस्तता और बच्चे की शैतानियों से तंग आकर उसे अकेले बैठकर कार्टून देखने देते हैं लेकिन उनको समझना होगा कि बच्चे के सही दिशा में मानसिक विकास की जिम्मेदारी भी उनकी ही है। इसलिए अगर आपका बच्चा कार्टून नेटवर्क ज्यादा देखता है या उसको देखकर बिगड़ गया है तो इन तरीकों को अपनाएं-

पहचान करें :- यदि आपका बच्चा भी हाइपरएक्टिव है और बदतमीजी करता है तो बेहद जरूरी है कि आप उसकी आदतों को पहचानें। उसके ऐसे व्यवहार के पीछे छिपे कारण को समझने की कोशिश करें। खेलकूद व बाहरी एक्टिविटीज में बच्चे की व्यस्तता बढ़ाएं। अगर बच्चे की रुचि हो तो उसे डांस क्लास ज्चाइन करवाएं।

आउटडोर गेम खिलाएं :- आउटडोर गेम खेलने के लिए बच्चे को बाहर लेकर जाएं।दिनभर टेलीविजन के सामने बैठे रहने की बजाय प्ले-ग्राउंड में खेलने से किस तरह बच्चे चुस्त-दुरुस्त रहते हैं और इसका लाभ क्या है, इस बारे में बच्चे को समझाएं। ऐसा करने से न सिर्फ बच्चे की अतिरिक्त शारीरिक ऊर्जा व्यय होगी साथ ही उसका इम्यून सिस्टम भी मजबूत होगा। आउटडोर गेम्स खेलने से बच्चे का स्टेमिना भी बढ़ता है। इससे भविष्य में दिल संबंधी बीमारी होने की आशंका भी कम हो जाती है। यदि बच्चा रोजाना एक घंटे दौडऩे, भागने या तैरने का खेल खेलता है, तो इससे बच्चे की मांसपेशियां भी मजबूत होती हैं। आउटडोर गेम्स खेलने से बच्चों में प्रतियोगिता की भावना विकसित होती है, जो बच्चों को मानसिक तौर पर मजबूत बनाते हैं, जिससे वे ज्यादा सक्रिय बनते हैं।

आगे पढ़ें- 

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

घर पर वाइट ह...

घर पर वाइट हैड्स...

वाइट हैड्स से छुटकारा पाने के लिए 7 टिप्स

बच्चे पर मात...

बच्चे पर माता-पिता...

आपकी यह कुछ आदतें बच्चों में भी आ सकती हैं

संपादक की पसंद

तोहफा - गृहल...

तोहफा - गृहलक्ष्मी...

'डार्लिंग, शुरुआत तुम करो, पता तो चले कि तुमने मुझसे...

समझौता - गृह...

समझौता - गृहलक्ष्मी...

लेकिन मौत के सिकंजे में उसका एकलौता बेटा आ गया था और...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription