GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

सर्दियों में बनाएं रखें बालों की खूबसूरती

अर्पणारितेश यादव

24th November 2015

जाड़े की कंपाने वाली ठंड भी बालों पर अपना पूरा असर डालती है। इससे बालों की सारी प्राकृतिक नमी चली जाती है और बाल बेजान एवं कमजोर हो जाते हैं।

सर्दियों में ठंडी हवा के संपर्क में रहने के साथ-साथ इन दिनों बाल धूप के संपर्क में भी ज्यादा रहते हैं क्योंकि धूप सेंकने के लिए हम ज्यादा देर तक बाहर रहना पसंद करते हैं। टोपी, मफलर और स्कार्फ के अधिक इस्तेमाल से भी बाल टूटते हैं। इतना ही नहीं, ठंड में हम बालों को सुखाने के लिए हेयर ड्रायर का भी ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। इसके अधिक इस्तेमाल से भी बाल कमजोर होते हैं। ठंड के दिनों में आपको बालों की देखभाल के मामले में ज्यादा सावधानी बरतने और अधिक देखभाल करने की जरूरत होती है।

ब्लो ड्रायर का इस्तेमाल कम से कम करें
ठंड के दिनों में बालों को हमेशा सूखा रखने के लिए ब्लो ड्रायर का इस्तेमाल अन्य दिनों की तुलना में कहीं ज्यादा करते हैं। लेकिन विशेषज्ञ बालों पर ब्लो ड्रायर या गर्म आयरन का इस्तेमाल कम से कम करने की सलाह देते हैं क्योंकि इनका बालों की सेहत पर विपरीत असर पड़ता है। ब्लो ड्रायर के इस्तेमाल से सिर के रोमछिद्र खुल सकते हैं और इसमें गंदगी और प्रदूषण प्रवेश कर सकता है, जिससे बालों की जड़ें कमजोर हो जाती है। यह ध्यान रखें कि ब्लो ड्रायर से निकलने वाली गर्म हवा आपके बालों के फोलिकल्स को नुकसान पहुंचाती है।

तेल मालिश करें
सिर की त्वचा और बालों की मालिश गुनगुने ऑलिव ऑयल अथवा नारियल के तेल से करें। इससे बालों में नमी बरकरार रहेगी और रूखापन नहीं आएगा। हालांकि, बहुत ज्यादा तेल लगाना भी ठीक नहीं, क्योंकि ऐसा करने से आपको बार-बार शैंपू लगाना पड़ेगा और इससे बालों को नुकसान होगा। ठंड से पहले और ठंड के महीनों में हफ्ते में दो बार बालों में तेल से मालिश करना ठीक रहता है।

मॉइश्चराइजिंग शैंपू और कंडीशनर इस्तेमाल करें
ठंड में नमी की कमी एक सबसे बड़ी समस्या रहती है। ऐसे में मॉइश्चराइजिंग शैंपू और कंडीशनर का इस्तेमाल करना बेहतर रहता है। दही, अंडे का सफेद भाग, हिना आदि प्राकृतिक कंडीशनर का काम करते हैं और इनसे बाल सुलझे हुए रहते हैं। इससे आपके बाल रूखेपन से बचे रहेंगे और दोमुंहे भी नहीं होंगे। अगर सिर में रूसी है तो नींबू का इस्तेमाल करें और अपने सिर की त्वचा को स्वस्थ रखें।

स्कैल्प रीजुविनेटिंग ट्रीटमेंट लें
अगर आपको गंभीर समस्या है तो आपके लिए बेहतर है कोई स्कैल्प रीजुविनेटिंग मेडिकल थेरेपी लेना, जैसे कि स्टेम सेल थेरेपी, पेप्टाइड थेरेपी लेजर, एलईडी थेरेपी और रीजुविनेटिंग ऑरेंज लाइट थेरेपी। इनसे बालों का विकास तेजी से होता है और बालों में रूसी आदि की समस्या भी नहीं रहती।

जानें विकल्पों के बारे में

ए-लेजर लाइट थेरेपी :

बाल झडऩे और बालों की त्वचा के संक्रमण व बालों के फोलिकल में रक्त संचार ठीक ढंग से नहीं होता है तब हार्मोन के बाईप्रॉडेक्ट डीहाइड्रोटेस्टोस्टेरॉन यानी डीएचटी की समस्या होती है, जिससे हेयर फोलिकल धीरे-धीरे डैमेज हो जाते हैं। हेयर फोलिकल को पुनर्जीवित करने के लिए एक लेजर कॉम्ब के जरिए लेजर फोटोथेरेपी दी जाती है। सिर की त्वचा पर सौम्य तरीके से पोषक लेजर लाइट देने से फोलिकल में आवश्यक विकास के तत्वों की कमी पूरी हो जाती है और बाल सामान्य रूप से उगने लगते हैं। फोटोथेरेपी ट्रीटमेंट से सिर की त्वचा में रक्तसंचार भी बढ़ता है और इससे डीएचटी जैसे खतरनाक तत्व भी खत्म हो जाते हैं।

बालों के लिए हेयर मास्क :

बालों को बाहर से पोषण देने के लिए हेयर मास्क डिजाइन किए जाते हैं, इससे बालों की रंगत सुधरती है और इसमें चमक आती है और बेजान बाल खिल उठते हैं। आमतौर पर यह बालों की कंडीशनिंग बढ़ाने का एक माध्यम होता है। हालांकि हेयर मास्क से बालों में भीतर से कोई बदलाव नहीं आता क्योंकि इनका इस्तेमाल बाहर से होता है। लेकिन इससे गहराई से कंडीशनिंग हो जाती है और बालों की रंगत अच्छी हो जाती है। बाल ज्यादा मुलायम और संभालने योग्य हो जाते हैं। हेयर मास्क में एंटी ऑक्सिडेंट की मात्रा अधिक होती है, जिससे बालों को पोषण मिलता है और ये बालों को नुकसान होने से बचाते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि ठंड में इस्तेमाल किया जाने वाला हेयर मास्क मॉइश्चराइजिंग और नरीशिंग वाला होना चाहिए ताकि सिर की त्वचा की खोई नमी वापस आ जाए। अगर आप केमिकल से बने हेयर मास्क का इस्तेमाल करती हैं तो ऐसा विकल्प चुनें, जो हाइड्रेशन के लिए हो।अगर घर में बना हेयर मास्क इस्तेमाल कर रही हैं तो उसमें शहद, अंडे, दही आदि मिलाएं ताकि पर्याप्त नमी प्रदान हो।

अच्छा आहार और सप्लीमेंट

आपकी अंदरूनी सेहत का असर आपके बालों पर भी दिखता है। अगर आप पोषक आहार लेते हैं तो आपका शरीर स्वस्थ रहता है और स्वस्थ शरीर में ही खूबसूरत त्वचा और खूबसूरत बाल हो सकते हैं। प्रोटीन से भरपूर आहार जैसे- अंडे, नट्स और बादाम, दालें और गाजर आदि खूब खाएं। इनमें भरपूर मात्रा में विटामिन और फोलिक एसिड होता है, जोकि आपके बालों को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है। कई बार आपको आहार के जरिए पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। ऐसे में आपको सप्लिमेंट लेने की जरूरत पड़ती है। अगर ठंड का मौसम आपके बालों को सूट नहीं करता है तो इन दिनों अपने आहार में विटामिन ए, फोलिक एसिड, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, प्रोटीन और कैल्शियम के सप्लीमेंट शामिल करें, जोकि आपके बालों की सेहत के लिए जरूरी है। अगर आपके बाल झड़ रहे हैं तो किसी त्वचा रोग विशेषज्ञ से जरूर मिलें और उनसे अपने बालों के लिए उपयुक्त विटामिन सप्लिमेंट की जानकारी लें।