GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

ये हैं इंडिया के टॉप 10 वाइल्ड लाइफ डेस्टिनेशन

अर्चना चतुर्वेदी

11th January 2016

भागदौड़ भरी जिंदगी के बीच यदि आप कुछ दिन प्रकृति के गोद में बिताना चाहते है तो इंडिया में ऐसे कई वाइल्ड डेस्टिनेशन हैं, जहां आप जंगल की सैर करने जा सकते हैं।

ये हैं इंडिया के टॉप 10 वाइल्ड लाइफ डेस्टिनेशन

सर्दियों की धूप में वाइल्डलाइफ सेंचुरी की छाँव

 

रोमांच प्रेमियों को यह जगह बेहद आकर्षित करती है। वाइल्ड लाइफ सेंचुरी में जानवरों को उनके बेफिक्र अंदाज में देखना आपको बिल्कुल अद्भुत अनुभव करवाएगा। सर्दियों का मौसम यहां के पर्यटन के हिसाब से सबसे सुहाना समझा जाता है। दरअसल गर्मियों में जानवर गर्मी और धूप से बचने के लिए किसी छायादार आश्रय में छिपे रहना चाहते हैं और खुले जगाहों पर बहुत कम ही नजर आते हैं। इस कारण सर्दियों में इन दस वाइल्ड लाइफ सेंचुरी की सैर की जा सकती है।

 

 


1. रणथम्भौर नेशनल पार्क/टाइगर रिजर्व , राजस्थान

सवाईमाधोपुर जिले में स्थित रणथम्भौर नेशनल पार्क अरावली और विंध्याचल पहाड़ियों के संगम स्थल पर फैला है। रणथम्भौर नेशनल पार्क को टाइगर रिर्जव परियोजना के तहत जाना जाता है। यहां टाइगरों की अच्छी खासी संख्या भी है। यहां की सबसे खास बात यह है कि समय-समय पर जब यहां बाघिन शावकों को जन्म देती हैं तो ऐसे मौके यहां के वन विभाग ऑफिसरों और कर्मचारियों के लिए किसी उत्सव से कम नहीं होते। यहां बड़ी संख्या में अन्य वन्यजीवों की मौजूदगी भी है। इनमें तेंदुआ, नील गाय, जंगली सूअर, सांभर, हिरण, भालू और चीतल आदि शामिल हैं।

कैसे पहुँचे यहाँ -

बाए एअर - नजदीक एअरपोर्ट कोटा (110 कि.मी)
बाए ट्रेन- नेशनल पार्क सवाईमाधोपुर शहर के रेलवे स्टेशन से 11 कि.मी. की दूरी पर है। सवाईमाधोपुर रेलवे स्टेशन से नजदीकी जंक्शन कोटा है, जहाँ से मेगा हाइवे के जरिए भी रणथंभौर तक पहुंचा जा सकता है।

 

 


2. कॉर्बेट नेशनल पार्क, उत्तराखंड
 

जो प्रकृति की शांत गोद में आराम करना चाहते हैं उन वन्य जीव प्रेमियों के लिए कॉर्बेट नेशनल पार्क एक स्वर्ग है। यह उत्तराखंड के पहाड़ों में स्थित है। इसे भारत का पहला नेशनल पार्क भी कहा जा सकता है।
नैनीताल के खूबसूरत वादियों में स्थित यह पार्क 521 वर्ग किलोमीटर में फैला है। कार्बेट नेशनल पार्क टाइगर प्रोजेक्ट के अंतर्गत एक टाइगर रिजर्व भी है। आज इसमें टाइगरों की संख्या 200 से अधिक है। इसके अलावा यहां भालू, तेंदुआ, जंगली सूअर, पैंथर, बारहसिंगा, नीलगाय, सांभर, चीतल, हाथी और कई अन्य प्राणी देखे जा सकते हैं। यहाँ पर पक्षियों की 600 से अधिक प्रजातियां भी पाई जाती हैं। पर्यटक कॉर्बेट वॉटरफॉल्स (पानी के झरने) का आनंद भी उठा सकते हैं जो यहाँ से लगभग 60 फुट की ऊँचाई पर स्थित हैं। पहले इसे जिम कॉर्बेट के नाम से जाना जाता था। साल 1957 में इसका नाम कॉर्बेट नेशनल पार्क रखा गया।

कैसे पहुँचे यहाँ -

बाए एअर - नजदीक एअरपोर्ट देहरादून (154.7 कि.मी)
बाए ट्रेन- यहाँ पहुँचने के लिए दो रेलवे स्टेशन हैं- रामनगर और हल्द्वानी। रामनगर से धिकाला के लिए 47 कि.मी. की पक्की सड़क है। जिससे कॉर्बेट नेशनल पार्क पहुँचा जा सकता है।
बाए रोड- यह जगह दिल्ली से मात्र 240 किलोमीटर दूर है। सड़क मार्ग से 290 किलोमीटर है। बसों, टैक्सियों और कार द्वारा यहाँ 5-6 घंटे में पहुँचा जा सकता है।

 अगले पेज पर जाने के लिए यहाँ किल्क करें....