लो कैलोरी ब्रिंजल राईस

गृहलक्ष्मी टीम

3rd December 2016

सर्व- 3-4, तैयारी में समय- 10 मिनट बनने में समय 35-40 मिनटl

लो कैलोरी ब्रिंजल राईस

सामग्री :

  • अच्छी क्वालिटी का बासमती चावल 1 कप,
  • लंबे पतले बैगन 2,
  • जीरा 1 छोटा चम्मच,
  • राई ½ छोटा चम्मच,
  • दालचीनी ½ इंच टुकड़ा,
  • साबुत बड़ी इलायची 1,
  • तेजपत्ता, 
  • चबरी फूल 1,
  • लौंग 4 नग,
  • हल्दी पाउडर ½ छोटा चम्मच,
  • हींग पाउडर चुटकीभर,
  • लंबाई में कटी 3 हरीमिर्च और नमक स्वादानुसार,
  • ऑलिव ऑयल ½ छोटा चम्मच,
  • और सजावट के लिए थोड़ा-सा हरा धनिया।

सूखा मसाला पाउडर :

  • साबुत धनिया 2 छोटा चम्मच,
  • जीरा 1 छोटा चम्मच,
  • शाहजीरा ½ छोटा चम्मच,
  • साबुत लाल मिर्च 1,
  • सफेद तिल 1 बड़ा चम्मच और लौंग 2 नग।

विधि :

  1. चावलों को साफ पानी से धोयें और छलनी में पंद्रह मिनट डालकर रख दें। एक तवे को गरम करके पाउडर बनाने वाले मसालों को डालकर एक मिनट के लिए धीमी गैस पर भूनें और ठंडा करके पाउडर बना कर रख लें।
  2. एक प्रेशर पैन में साबुत सभी मसालों को एक मिनट भूनें l 
  3. फिर उसमें दो कप पानी, नमक, हरी मिर्च, करीपत्ता व हल्दी पाउडर डालकर एक उबाल आने तक पकायें।
  4. इसमें चावल डालकर प्रेशरपैन का ढक्कन लगाएं और एक सीटी आते ही बंद कर दें।
  5. बैंगनों के गोल पतले टुकड़े काटें और चिकनाई लगे नॉनस्टिक तवे पर उलट-पलट कर धीमी गैस पर सेकें।
  6. चावलों को प्रेशर पैन से निकाल कर बैंगन केकतले व सूखा मसाला पाउडर एक कांटे से चावलों में मिलाएं और प्रेशरपैन का ढक्कन लगाकर गरम तवे पर पांच मिनट के लिए रख दें।
  7. फिर पांच मिनट बाद ढक्कन खोलें।
  8. सर्विंग डिश में ब्रिंजल राइस पलटें और हरे धनिये से सजाकर सर्व करें।

और भी पढ़ें-

ऑयल फ्री तंदूरी मशरूम

पकौड़ी की सब्जी

दाल कचौरी

बेक्ड क्वलि स्टार्ट

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर  सकती हैं। 

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription