आपकी फूड सेफ्टी आपके हाथ

विजया मिश्रा

16th January 2016

किसी भी खाद्य पदार्थ खरीदते वक्त हम उसकी पैकिंग देखते हैं। एक्सपायरी देखते हैं। साथ ही यह देखते हैं कि कंपनी कौन सी हैं। लेकिन अब आप यह भी देख लें कि वह उत्पाद एफएसएसएआई द्वारा प्रमाणित है या नहीं। आखिरकार आपके सेहत का सवाल है।

आपकी फूड सेफ्टी आपके हाथ


क्या है एफएसएसएआई


भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा संचालित एफएसएसएआई आपके उपयोग के लिए पौष्टिक भोज्य पदार्थ के उत्पादन, भंडारण, वितरण, बिक्री और आयात की सुरक्षित उपलब्धता निर्धारित करता है ताकि आप सुरक्षित खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकें। दिल्ली में स्थित एफएसएसएआई अलग-अलग राज्‍यों के खाद्य सुरक्षा अधिनियम के विभिन्‍न प्रावधानों को लागू करने का काम करता है। एफएसएसएआई सभी राज्‍यों और जिला स्तर पर खाद्य पदार्थों के उत्पादन और बिक्री को तय मानकों में रखने में सहयोग के साथ-साथ खुदरा और थोक खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता की जांच भी करता है।


कब हुई शुरुआत


केंद्र सरकार ने खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम, 2006 के तहत भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण का गठन किया जिसको 1 अगस्‍त, 2011 में केंद्र सरकार के खाद्य सुरक्षा और मानक विनिमय (पैकेजिंग एवं लेबलिंग) के तहत अधिसूचित किया गया। एफएसएसएआई का काम लोगों को पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराना एवं इसके तय मानकों को बनाए रखना है। एफएसएसएआई के गठन के बाद से खाद्य पदार्थों को लेकर उपभोक्ताओं की चिंता दूर हुई है। ग्राहक खाद्य पदार्थ के पैकेट पर एफएसएसएआई की मुहर देखकर समझ जाते हैं कि यह प्रोडक्ट पूरी तरह सुरक्षित है।


एफएसएसएआई की ताकत


भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण यानि एफएसएसएआई के पास देश में मानव उपभोग के लिए निर्मित सभी प्रकार के खुदरा एवं थोक उत्पादों की निगरानी का अधिकार है। एफएसएसएआई केंद्र सरकार और राज्‍य सरकारों के विभिन्‍न मंत्रालयों और विभागों के खाद्य पदार्थों से संबंधित मुद्दों को भी देखता है। यदि किसी कंपनी ने तय मानकों के अनुसार अपने प्रोडक्ट का उत्पादन नहीं किया है तो उसके प्रोडक्ट की बिक्री पर एफएसएसएआई प्रतिबंध लगा सकता है। हाल ही में मैगी को लेकर एफएसएसएआई ने कड़े कदम उठाए थे। तो वहीं पतंजलि के नूडल्स को एफएसएसएआई की मंजूरी न मिलने के चलते विवाद हुआ था।


कैसे करें खाद्य पदार्थों की जांच

अगर किसी फूड प्रोडक्ट में कोई शिकायत आती है तो उसे केंद्रीय प्रयोगशाला में भेजा जाता है। यहां यह तय किया जाता है कि फूड प्रोडक्ट की गुणवत्ता कैसी है, उसमें मिलावट तो नहीं है और तय मानक का पालन किया गया है अथवा नहीं। इस जांच के लिए देश में अलग अलग हिस्सों के लिए चार जगहों पर प्रयोगशालाएं बनाई गई हैं। ये प्रयोगशालाएं कोलकाता, मैसूर, गाजियाबाद पुणे में हैं। इसके तहत स्‍थानीय क्षेत्र, राज्‍य संघ राज्‍य क्षेत्रों को शामिल किया गया है।भारत भर में 72 स्थानीय प्रयोगशालाएं हैं। अगरकिसी प्रोडक्ट को लेकर उपभोक्ता की शिकायतआती है तो एफएसएसएआई उस खाद्य पदार्थ का सैंपल लेकर इन लैब में जांच करवाता है। जांचके बाद आई रिपोर्ट के आधार पर आगे का फैसला लिया जाता है।फूड प्रोडक्ट बनाने का इरादा अगर आप फूड प्रोडक्ट के उत्पादन की प्लानिंग रहे हैं तो इसके लिए पहले आपको एफएसएसएआई में रजिस्‍ट्रेशन करवाना होगा। देशमें किसी भी खाद्य पदार्थ के उत्पादन और बिक्री से पहले किसी भी कंपनी को एफएसएसएआई के तहत अपना रजिस्‍ट्रेशन कराना होता है, जो कानून तौरजरूरी है। इस रजिस्ट्रेशन के बादकंपनी अपने प्रोडक्ट को बाजार में बेचने के लिए स्वतंत्र है। इतना ही नहीं कंपनी को अपने प्रोडक्ट पर उसके बनाए जाने की तारीख, एक्सपाइरी डेट औरप्रोडक्ट में इस्तेमाल किए गए रासायनिक तत्वोंकी मात्रा का उल्लेख भी करना होता है। इससे खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता की जानकारी उपभोक्ता को आसानी से मिल जाती है।


प्रोडक्ट में क्या देखें

अगर आप एफएसएसएआई के बारे में जानकारीरखते हैं तो इससे आप लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा कर सकते हैं। अगर किसी भी फूड प्रोडक्ट मेंकुछ गड़बड़ है तो इसका नुकसान शारीरिक तौर पर भी हो सकता है। लिहाजा जागरुक रहें और प्रोडक्ट लेते वक्त कुछ बातों को जरूर देखें।

  •  न्यूट्रीशनल वैल्यू
  •  शेल्फ लाइफ एंड एक्सपाइरी डेट।
  •  वेजटेरियन या नॉन वेजटेरियन स्टैंप
  • (वेजिटेरियन है तो हरा रंग या नॉनवेज है तो लाल रंग का स्टैंप होगा)।प्रोडक्ट पर एफएसएसएआई का लोगो साथ में लाइसेंस नंबर जरूर चेक कर लें। 

मिलावट के इस युग में आपका खाद्य कितना सुरक्षित है इसका पता होना
आवश्यक है। खाद्य की पूरी तहकीकात करके उस पर गुणवत्ता
की मुहर लगाता है एफएसएसएआई।

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

वोट करने क लिए धन्यवाद

सारा अली खान

अनन्या पांडे

गृहलक्ष्मी गपशप

उफ ! यह मेकअ...

उफ ! यह मेकअप मिस्टेक्स...

सजने संवरने का शौक भला किसे नहीं होता ? अच्छे कपड़े,...

लाडली को गृह...

लाडली को गृहकार्य...

उस दिन मेरी दोस्त कुमुद का फोन आया। शाम के वक्त उसके...

संपादक की पसंद

प्रेग्नेंसी ...

प्रेग्नेंसी के दौरान...

प्रेगनेंसी में अक्सर हर कोई अपने क्या पहनने क्या नहीं...

क्रेश डाइट क...

क्रेश डाइट के क्या...

क्रैश डाइट क्या होता है और क्या ये इतना खतरनाक है कि...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription