GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

क्या है लहराती जुल्फों का राज़

अर्पणारितेश यादव

7th July 2016

ग्रीष्म ऋतु अपने साथ बालों से जुड़ी अनेक समस्याओं को लेकर आती है। इसलिए इस ऋतु में बालों के रखरखाव के प्रति अधिक सावधानी बरतनी चाहिए। ग्रीष्म ऋतु में बालों से संबंधित किन-किन समस्याओं से आप छुटकारा पा सकती है। आइए जानें-

क्या है लहराती जुल्फों का राज़

ग्रीष्म ऋतु में हमारे बालों की तैलीय ग्रंथियों में अधिक तेल का निर्माण होता है। यह तेल हमारे सिर की खाल को मुलायम बनाए रखता है। रूसी में इन ग्रंथियों से निकलने वाले तेल की मात्रा बढ़ जाती है। इससे तेल की संरचना में भी परिवर्तन और असंतुलन पैदा होजाता है। इसलिए रूसी की समस्या शुष्क तथा चिकने दोनों प्रकार के बालों में होती है। रूसी दो प्रकार की होती है-खुश्क रूसी और तैलीय रूसी।

खुश्क रूसी :- खुश्क रूसी में बालों में छोटी-छोटी सफेद सूखी-सी पपड़ियां बन जाती है। सिर में खुजली मचती रहती हैं और सिर खुजाने पर या कंघी करने पर ये पपड़ियां झड़ती रहती हैं। इस प्रकार की रूसी अक्सर तेल मालिश से ही ठीक हो जाती है।

उपाय :- 

  • खुश्क रूसी के लिए एक चम्मच कैस्टर आॅयल और एक चम्मच नारियल का तेल मिलाकर अपने सिर पर हल्के हाथों से इस तेल की मालिश कर लें, फिर आधे घंटे तक अपने बालों में तेल लगा रहने दें और फिर उसके बाद बालों में शैंपू कर लें।
  • आधा कप दही में मेथी को भिगोकर उसको बारीक पीसकर केशों की जड़ों तक ठीक तरह से इसका पेस्ट 2 घंटे तक लगाएं रखिए, इसके बाद बालों को शैंपू कर लें।
  • नीम की पत्तियों के रस में नींबू का रस मिलाकर 30 मिनट के लिए सिर में लगा रहने दें, फिर बाल धो लें।
  • एक चम्मच बादाम का तेल और आंवले का रस मिलाकर बालों में लगाने से रूसी नहीं होती है और बाल समय से पूर्व सफेद भी नहीं होते हैं।
  • बालों में नारियल के तेल की मालिश करने के बाद गर्म पानी में भिगोकर निचोड़े हुए तौलिए को सिर पर लपेटें। अगले दिन बालों को शैंपू करें। ऐसा हफ्ते में दो बार करें।

तैलीय रूसी  :-  तैलीय रूसी अधिकतर उन व्यक्तियों को होती है, जिनकी त्वचा तैलीय होती है। इस प्रकार की रूसी में सूक्ष्म सफेद कण सिर में हो जाते हैं। कंघी करते समय या खुजाते समय ये सफेद कण संपूर्ण बालों में फैल जाते हैं। सिर में बहुत खुजली मचती है। कई बार इस तरह की रूसी हल्का पीलापन लिए चिपचिपी सी होती है। इससे सिर में दुर्गंध पैदा हो जाती है। इस तरह की रूसी के अधिक समय तक बने रहने से बाल पतले एवं खुश्क होकर झड़ने लगते हैं।

उपाय :-

  • किसी अच्छे एंटी डैंड्रफ शैंपू से नियमित रूप से अपने बाल साफ करें।
  • शैंपू के बाद नींबू का रस या सिरके मिले पानी से बालों को धोलें। यह बालों से चिकनाई दूर करेगा।
  • तैलीय बालों में कंडीशनर का प्रयोग न करें।
  • बहुत अधिक कंघी न करें और सिर की बहुत अधिक मालिश न करें। इससे तेल ग्रंथियां और अधिक क्रियाशील हो जाती है। बहुत अधिक तनावग्रस्त न रहें, इससे रूसी और बढ़ती है।
  • 2 चम्मच मेथी के बीज रात-भर पानी में भिगोकर रखें और सुबह इसका पेस्ट बनाकर बालों की जड़ों में लगाएं और आधे घंटे बाद बालों को शैंपू कर लें। इस प्रक्रिया को सप्ताह में दोबार दोहराएं।
  • बालों में मुलतानी मिट्टी का लेप लगाकर सूख जाने पर बालों को शैंपू कर लें। मुलतानी मिट्टी से सिर की त्वचा के तैलीय होने से बंद हो गए रोम छिद्र खुल जाते हैं जिससे त्वचा स्वच्छ हो जाती है और तैलीय रूसी दूर हो जाती है।
  • तैलीय बालों के लिए नींबू, पुदीना, नीम, तुलसी तथा मेंहदी युक्त शैंपू सबसे लाभदायक होता है।

बालों की प्राकृतिक चमक खत्म होना :- ग्रीष्म ऋतु में तेज धूप, रोजाना की भाग-दौड़, प्रदूषण व देखभाल की कमी के कारण बाल अपनी चमक खो बैठते हैं।

उपाय :-

  • बालों में चमक वापस लाने के लिए पौष्टिक खाना, ताजे फल एवं सब्जियों का सेवन व व्यायाम करना अति आवश्यक है।
  • तेज धूप में बाहर निकलते समय छाता या टोपी का प्रयोग करें।
  • बालों में हेयर स्टाइलिंग उत्पादों हेयर ड्रायर व अन्य रसायनों के अत्यधिक प्रयोग से बचें।
  • बालों की सफाई नियमित रूप से किसी अच्छे शैंपू से करें।
  • बालों में हेयर सीरम लगाएं इससे बालों में चमक भी आ जाती है। और साथ ही तेज धूप व हेयर स्टाइलिंग उत्पादों से होने वाली हानि से भी बचाव होता है।
  • इसका असर अगली बार बाल धोने तक रहता है। इसको लगाने के पहले बालों को शैंपू करके ठंडे पानी से धो लें। ताकि खुले रोमछिद्र बंद हो जाएं, फिर हेयर सीरम की चार-पांच बूंदें हाथ में लेकर उन्हें बालों में लगाएं और बालों को स्वाभाविक रूप से सूखने दें।
  • नीम में प्रतिरोधक (एंटीसेप्टिक) गुण होते हैं इसलिए बालों को रूसी से बचाने के लिए नीम की पत्तियां डालकर उबाले हुए पानी से बाल धोएं। अन्यथा नीम व मीठा नीम की पत्तियों का पेस्ट लगाकर 15 मिनट इंतजार करें, फिर धो डालें।