फर्क बेटा-बेटी में

तमन्ना सूरी

6th May 2016

एक बालिका द्वारा लिखी गई कविता-

 

क्या फर्क है बेटा-बेटी में
यह बात तो मुझे कभी समझ नहीं आई
लोग क्यों बेटों के लिए दुआ मांगते हैं
कभी बेटियों को भी हौसला दो भाई
बेटियों को तुम बढ़ावा देकर देखो
बेटों को वो पछाड़ देंगी
बेटियों को तुम खुश रखो
तुम्हारा घर आंगन महका देंगी
कौन सा ऐसा क्षेत्र है
जहां बेटी नहीं पहुंच पाई है
वकील, जज, प्रधानमंत्री और
यहां तक कि राष्ट्रपति की पदवी भी उसने पाई है,
क्यों भूल जाते हैं लोग
बेटी बिना यह सृष्टि संभव नहीं
हम सबको जन्म देने वाली मां भी बेटी का ही रूप है
बेटे तुम्हारा साथ देंगे, यह बात हुई पुरानी है।


नाम : तमन्ना सूरी
उम्र : 11½ वर्ष
पता : अंबाला छावनी (हरियाणा)

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

वोट करने क लिए धन्यवाद

सारा अली खान

अनन्या पांडे

गृहलक्ष्मी गपशप

उफ ! यह मेकअ...

उफ ! यह मेकअप मिस्टेक्स...

सजने संवरने का शौक भला किसे नहीं होता ? अच्छे कपड़े,...

लाडली को गृह...

लाडली को गृहकार्य...

उस दिन मेरी दोस्त कुमुद का फोन आया। शाम के वक्त उसके...

संपादक की पसंद

प्रेग्नेंसी ...

प्रेग्नेंसी के दौरान...

प्रेगनेंसी में अक्सर हर कोई अपने क्या पहनने क्या नहीं...

क्रेश डाइट क...

क्रेश डाइट के क्या...

क्रैश डाइट क्या होता है और क्या ये इतना खतरनाक है कि...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription