GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

पुत्र- प्रेम का घुन

नीरू यादव

3rd March 2017

 

पुत्र-प्रेम में शिखा द्वार पर खड़ी हाथ हिलाती ही रह गई, और टैक्सी तेजी से चली गई। वह उसे तब तक देखती रही, जब तक वह दिखाई दी। जब टैक्सी दिखाई देनी बंद हो गई तब उसने घर में प्रवेश किया। घर आधुनिक सज्जा से भरा-पूरा होने के बावजूद उसका मन स्थिर नहीं हो पा रहा था। सन्नाटा उसे काटने को आता था। बड़ा बेटा पुनीत पहले ही अपनी इच्छा से विवाह करके दूर रहने लगा था, शिखा ने भी कभी जानने की कोशिश नही की।

और आज छोटे बेटे मनन को भी वह विदा करके लौटी थी। आज अचानक उसे याद आया कि कैसे उसके पति की अकस्मात मृत्यु के बाद इन बच्चों के ही सहारे उसका जीवन कटा। सुरेश शिखा और अपने बच्चों से बहुत प्यार करता था, परन्तु जीवन-मृत्यु किसके हाथ में है। बीमारी ने ऐसा घेरा कि दो महीनों के अन्दर ही उसकी जीवन लीला समाप्त हो गई।

शिखा के मध्यम वर्गीय परिवार को शिखा कभी बोझ नही लगी, कुछ साल जब तक बच्चे पढाई कर अपने पैरों पर खड़े हुए, तब तक शिखा अपने परिवार के साथ ही रही । शायद रिश्तों के यही मायने हैं। माता-पिता और भाई-भाभी के साथ रहकर उसे कभी महसूस नहीं  हुआ कि वो अब पराये घर की है।  फिर भी उसने नौकरी करना सही समझा ताकि वो उपने घर पर बोझ न बने। पढी-लिखीं तो थी ही, नौकरी भी आसानी से मिल गई। इस बीच शादी के कई रिश्ते आये पर उसने यह सोचकर लौटा  दिये कि अगर उसने मेरे बच्चों को न अपनाया तो... और मै इनके बिना एक पल भी नहीं रह सकती। यही तो उनकी आखिरी निशानी हैं। मैं अपने बच्चों को नही छोड सकती।

पुनीत तब 6ठीं क्लास में था और मनन 4थी में था। पुनीत अपनी मां के दर्द को खूब समझता था, इसलिए मन लगाकर पढ़ता और घर में किसी को शिकायत का मौका नहीं देता। मनन चंचल था लेकिन सभी उसे प्यार करते थे इसलिए उसकी चंचलता को लेकर समझा देते। 

धीरे-धीरे समय बीतने लगा, पुनीत ने कॉलेज में प्रवेश करते ही एक नौकरी ज्वॉइन कर ली और मनन ने भी अपने दोस्त के साथ मिलकर बिजनेस शुरू कर दिया, साथ ही पढ़ाई भी जारी रखी। दोनों भाइयों ने मेहनत करके एक मकान खरीद लिया और सब उसमें शिफ्ट हो गए।

पुनित की मुलाकात तृष्णा से हुई। वह बहुत ही सुन्दर आधुनिक विचारों वाली लडकी थी। वह अपनी शर्तों पर जीना चाहती थी, इसलिए नौकरी करके स्वाधीनता-पूर्वक घर से अलग रह रही थी। पुनीत ने अपनी मां को बताया कि वह उससे शादी करना चाहता है। शिखा हैरान रह गई, वह पुनीत को खुश तो देखना तो चाहती थी, पर वह चाहती थी कि पुनीत उस लडकी से शादी करे जो उसके मामा ने उसके लिए देखी थी। परन्तु पुनीत अपनी बात से टस से मस भी ना हुआ। सुरेश की कमी शिखा को बहुत खल रही थी। उसे लगा कि अगर आज सुरेश होते तो बात को सम्भाल लेते। वहीं तृष्णा के घर वालों को भी यह रिश्ता पसन्द नही था, इसलिए दोनों ने भागकर शादी कर ली और कहीं दूर रहने लगे, पुनीत एक बार भी अपनी मां के पास ना आया हालांकि शिखा ने उसे अपनी बहू स्वीकार कर लिया था।
 
मनन ने अपनी मां की नौकरी पहले ही छुडवा दी थी। वह अपनी मां का बहुत ख्याल रखता, जब तक वह खाना ना खा लेती खुद भी ना खाता। तभी एक दिन उसे एक खत मिला। इसमें उसके नाम एक विख्यात विदेशी कम्पनी का कॉल लेटर था। देखते ही शिखा के पैरों के नीचे मानों जमीन ही खिसक गई। अपने बेटे की कामयाबी पर वो खुश होना चाहती थी। पर उसे खो देने का उसे ज्यादा डर था। अब उसे कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा था। इसलिए वह मनन की पैकिंग में मदद करने लगी। मनन अपनी मां के मन का हाल जान गया था, उसका मन भी जाने को ना था, पर वह इतना सुनहरा मौका भी नहीं खोना चाहता था। उसने कहा कि मां वहां सेटल होते ही मैं तुम्हें भी वहीं बुला लूंगा, बस तुम अपना ख्याल रखना। दो दिन बाद मनन का जाने का समय आ गया। जल्दी ही हाथ हिलाता मनन उसकी आंखों से ओझल हो गया।

अभी वो सब कुछ सोच ही रही थी कि अचानक डोर बेल बजी, उसको जैसे कोई झटका लगा। उसने दरवाजा खोला, सामने उसकी मां खडी थी। वह उन्हें अंदर लेकर आई और उन्हें बैठा कर खुद किचन में चाय बनाने चली गई। शिखा की मां उसके पीछे किचन में आ गई। शिखा के कंधों पर जैसे ही उन्होंने हाथ रखा तो वो चौंक गई। मां ने कहा, शिखा मैं तुमसे पहले ही कहती थी, शादी कर लो, तब तुम्हारीे उम्र ही क्या थी। मां की बात ने उसे एक बार फिर सोच के सागर में डुबो दिया। मां लगातार बोले जा रही थी, पर उसे मानो कुछ सुनाई ही नहीं दे रहा था। वह ना तो कुछ बोलने की स्थिति में थी, और न ही समझने की। उसने चाय बनाई, पर पी नही पाई।

मां ने उसे अपने साथ ले जाना चाहा, पर वो नहीं गई, इस पर मां उसके सिर पर हाथ रख कर चली गई। इस घटना को 5 वर्ष बीत गए। वह मनन को लगातार खत लिखती, मनन भी तुरन्त ही जवाब दे देता। पर फिर 2-3 खतों का एक बार जवाब देता और धीरे-धीरे खतों का सिलसिला बंद हो गया। शायद वह जानती थी क्यों, पर वह अपने को बहलाती कि वह व्यस्त होगा, इसलिए जवाब नहीं दे पाता। 

शिखा ने बाहरी दुनिया से सम्पर्क लगभग तोड़ दिया, घर पर काम करने आने वाली सुनीता को भी काम से हटा दिया। माता- पिता के पास भी ना जाती। जाने कौन सा घुन उसे खा रहा था। शायद यह पुत्र- प्रेम का घुन था। एक दिन शिखा अपने कमरे में बैठी पंखे को ताक रही थी। उस पंखे को देखते-देखते उसकी आंखें खुली की खुली रह गई और शरीर निष्प्राण हो गया। आखिरी समय में भी उसकी जीवन ज्योति उसके समीप नही थी।

 

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

कम हो गया है...

कम हो गया है अब...

‘‘मैंने सुना है कि आजकल एपिसिओटॉमी का चलन नहीं रहा...

सेक्स ना करन...

सेक्स ना करने के...

यूं तो हर इंसान अपने जीवन में सेक्स ज़रूर करता है,...

संपादक की पसंद

केविनकेयर के...

केविनकेयर के "इनोवेटिव...

भारतीय एफएफसीजी ग्रुप केविनकेयर ने अभिनेता अक्षय कुमार...

इन व्यंजनों ...

इन व्यंजनों को बनाकर,...

सभी भारतीय त्यौहारों के उपवास और अनुष्ठानों के बाद...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription