GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

योग से पाएं चमकती त्वचा

अर्पणारितेश यादव

21st June 2016

अगर आप चाहती हैं अंदरूनी सुंदरता तो अपनाएं सौंदर्य बढ़ाने वाले योगासन ताकि आपका सौंदर्य चेहरे से झलके ना कि मेकअप से।

योग से पाएं चमकती त्वचा

नियमित तौर पर योग करने से न सिर्फ आपका तनाव कम होता है, बल्कि शरीर भी स्वस्थ बना रहता है और नींद भी अच्छी आती है। इससे शरीर से विषैले तत्व बाहर निकल जाते हैं, जिससे आपकी त्वचा में भी एक प्राकृतिक चमक आ जाती है। एक्सपर्ट्स की मानें तो योग की मदद से चर्म रोग से संबंधित समस्याओं जैसे- कील-मुहांसों से छुटकारा मिलता है और हमारी त्वचा अंदर से साफ हो जाती है। डॉ. निवेदिता कहती हैं कि किसी की त्वचा उसके स्वास्थ्य की सूचक होती है और त्वचा को स्वस्थ दिखने के लिये उसे भरपूर मात्रा में रक्त संचार की आवश्यकता होती है। शरीर को पर्याप्त ऑक्सीजन की जरूरत होती है, ताकि सभी आन्तरिक अंग ठीक ढंग से काम करें। सुचारु रक्त संचार के जरिये त्वचा को आवश्यक पोषक तत्व मिलने लगते है और त्वचा धीरे-धीरे स्वस्थ और निखरने लगती है, इसके अतिरिक्त योग आपके शरीर से विषैले तत्वों को निकालने में मदद करता है फलस्वरूप शरीर में स्फूर्ति और त्वचा में रंगत आ जाती है। आइये जानते हैं कौन-कौन सी योग मुद्राओं से आप कैसे निखार सकती हैं अपनी सुंदरता।

हास्य योग :- 

जब भी समय मिले तब बहुत जोर-जोर से और खुलकर हंसें क्योंकि हंसने से शरीर की एक साथ 600 मांसपेशियों की कसरत होती है। ठहाके मारकर हंसने से हमारा इम्यून सिस्टम बेहतर होता है, फेफड़ों में ऑक्सीजन जाती है, रक्त शुद्ध होता है और चेहरा गुलाब की तरह खिल जाता है।

शीर्षासन या हेडस्टैंड :-

इस आसन से हमारे शरीर में रक्त का उल्टा संचार होने लगता है यानी पैर से सिर तक। इससे हमारे चेहरे को एक स्वस्थ चमक मिलती है। इस आसन को नियमित रूप से करने से हमारी त्वचा झुर्रियों से मुक्त रहेगी। इस आसान में सिर के बल खड़े होना होता है, इस वजह से यह आसान करने में थोड़ा कठिन होता है लेकिन इसके नियमित अभ्यास से रक्त संचार सुधरता है और त्वचा में कसाव और चमक आती है।

कपालभाति प्राणायाम :-

यदि आपकी त्वचा की रंगत गोरी है, लेकिन त्वचा के बेजान होने के कारण आपकी सुंदरता फीकी पड़ जाती है, तो कपालभाति प्राणायाम आपके लिए एक बेहतर विकल्प है। कपालभाति सांस लेने की एक क्रिया है, जिसे करने से फेफड़े बिल्‍कुल साफ हो जाते हैं। इस आसन को करने से ज्‍यादा से ज्‍यादा ऑक्‍सीजन शरीर के अंदर जाती है और कार्बन डाइऑक्‍साइड बाहर आती है। यदि आप इस आसन को 4-5 महीने तक लगातार करते हैं तो आपकी त्वचा पर चमक और लालिमा आ जाएगी।

उत्तानासन :-

ये भी एक ऐसा आसन है, जिसमें हमारे शरीर में रक्त का संचार नीचे से ऊपर की ओर यानी हमारे चेहरे और स्कैल्प तक होता है। इससे चेहरे में चमक आती है और यह आंखों के लिए भी हितकर होता है।

पश्चिमोत्तानासन :-

यह आगे की तरफ झुकने वाली मुद्रा होती है जिसमें चेहरे में रक्त संचार होता है। इसके अलावा इसे उदर बेहतर कार्य करता है, जांघ की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और पीठ तथा बांहों को आराम मिलता है। ध्यान रहे यदि आपको पीठ या रीढ़ सम्बन्धी किसी प्रकार की समस्या है तो इसे कदापि न करें। इसके साथ ही धीरज से काम लें, हो सकता है कि आप अपने माथे को घुटने से न छुआ पाएं। इस बात को जान लें कि यदि आप ऐसा कर पाते हैं तो आप अपना लचीलापन वापस पा सकते हैं और मुद्रा को बेहतर ढंग से कर पाएंगे।