GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

फर्नीचर खरीदने से पहले ध्यान रखें

नीलम शुक्ला

2nd July 2016

किसी भी घर के लुक उसका फर्नीचर तय करते हैं। बाज़ार में इस समय इनकी ढेरों वेराईटी मौजूद है। ऐसे में आपके घर के लिए कौन सा फर्नीचर सही रहेगा, ये आपको तय करना है। पर जो भी चुनें ये सोचकर चुनें कि वो किफायती होने के साथ टिकाऊ और फैशनेबल भी हो तभी आपका पैसा वसूल होगा।

पीचट्री होम एसेट्स प्राइवेट लिमिटेड के एमडी शरद जैन कहते हैं कि घर के फर्नीचर की खरीददारी के दौरान हमारी नज़र पहले फर्नीचर की खूबसूरती व उसकी कीमत पर जाती है। लेकिन इन दो बातों पर गौर करके आप बेहतरीन फर्नीचर का चयन नहीं कर पाएंगे। आपको फर्नीचर ऐसा चुनना होगा जो सालों साल आपका साथ निभाए और साथ ही फैशन के अनुरूप भी हो। तो आइये जानें फर्नीचर खरीदने से पहले क्या क्या रखना चाहिए ध्यान 

फर्नीचर मार्केट 

अगर आपने कुछ समय पहले ही अपना फर्नीचर खरीदा है पर अब आप इससे बोर हो गई हैं तो फर्नीचर की खरीदारी के लिए फर्नीचर मार्केट का रूख कीजिए। ज्यादातर हर शहर में फर्नीचर के अलग मार्केट होते हैं जहां आपको अपनी जेब के मुताबिक पसंदीदा सामान मिल जाता है। इन बाजारों में बढिय़ा टिकाऊ फर्नीचर सही दाम में मिल जाता है।

अच्छी हो क्वालिटी
बेशक फर्नीचर महंगा हो, लेकिन क्वालिटी से समझौता न करें। जितनी अच्छी क्वालिटी लकड़ी की होगी, उतना ही भारी फर्नीचर होगा, इसलिए फर्नीचर खरीदते वक्त इसके वजन का अंदाज जरूर करें। खरीदने से पहले फर्नीचर पर बैठकर जरूर देखें ताकि आप यह अंदाजा लगा सकें कि यह कुर्सी या सोफा कितना आरामदायक है। लेदर से बना सोफा सेट बेशक देखने में मॉडर्न लगता हो, पर यह ज्यादा टिकाऊ नहीं होता। 

पॉलिशिंग पर दें ध्यान 

पॉलिशिंग से फर्नीचर में चमक आती है लेकिन अधिक पॉलिशिंग कमियों को छिपाने के लिए की जाती है। लकड़ी के फर्नीचर में पेन्ट से अक्सर लकड़ी पर ब्रश के निशान छूट जाते हैं तथा यह लकड़ी को इतना मुलायम भी नहीं बनाता है।जबकि पॉलिशिंग लकड़ी को हमेशा के लिए नया बनाए रखता है। रॉट आयरन का फर्नीचर भी पॉलिश से टिकाऊ बनता है। इसलिए पॉलिशिंग पर ध्यान देना जरूरी है।

 


हर पेंच जांचें
फर्नीचर पर की गई कारीगरी पर भी ध्यान दें। फर्नीचर में लगाए गए पेंच पूरी तरह से टाइट होने चाहिए। फर्नीचर पर लगाए गए नट, स्क्रू व बोल्ट भी फर्नीचर की पॉलिश के रंग में रंगे होने चाहिए। फर्नीचर खरीदते समय सिर्फ उसकी खूबसूरती पर ही ना हों बल्कि उसे अच्छी तरह देखें। खूबसूरत बनावट, परिष्करण, सीधी वेल्डिंग, हार्डवेयर के काम को छिपाती सुंदरता एक अच्छी गुणवत्ता वाले फर्नीचर की पहचान है।


फर्नीचर हो ट्रेंडी
फर्नीचर का चयन अपने कमरे के आकार के हिसाब से करें। यदि कमरा छोटा है तो फर्नीचर भी हल्का होना चाहिए जबकि बड़े कमरे के लिए बड़े और भारी फर्नीचर सही रहते हैं। आमतौर पर लोग ऐसा फर्नीचर पसंद करते हैं जो कम स्थान घेरे तथा जिनमें घर का कुछ सामान भी रखा जा सके। इसे ध्यान में रखते हुए बाजार में लेदर, फैब्रिक और वुडन और प्लास्टिक फैब्रिक के फर्नीचर उपलब्ध हैं, जो ट्रेंडी होने के साथ ही स्टाइलिश भी हैं। यहां डायनिंग टेबल, डबल बेड, ड्रेसिंग टेबल और कई प्रकार के दीवान व सोफा की वैरायटीज़ हैं। आजकल लाइट इंगलिश कलर से लेकर मल्टी कलर्स व डार्क शेड और सिल्क, कॉटन, रेग्जीन व जूट के अलावा मैट से तैयार सोफे का ट्रेंड है।

माडर्न लुक वाला फर्नीचर
आजकल मल्टीयूज और पोर्टेबल फर्नीचर भी काफी पसंद किए जा रहे हैं। ऐसे फर्नीचर न सिर्फ कम जगह घेरते हैं बल्कि देखने में भी आकर्षक होते हैं जिससे घर को माडर्न लुक मिलता है। मल्टीयूज फर्नीचर चीन, जापान और ताइवान जैसे देशों की देन हैं जहां घर छोटे होते हैं। वहां अधिकतर छोटा, मल्टीयूज और कम ऊंचाई वाला फर्नीचर इस्तेमाल किया जाता है, जो अधिक जगह नहीं घेरता। इनकी कीमत भी बहुत ज्यादा नहीं बैठती क्योंकि एक ही फर्नीचर के कई उपयोग होने की वजह से अलग-अलग फर्नीचर खरीदने का खर्च बच जाता है।


बच्चों के साथ बढ़ता फर्नीचर
जब घर में बच्चा होता है तो जैसे-जैसे बच्चा बड़ा होता है, उसकी जरूरतें भी बदल जाती हैं। इसी के साथ ही फर्नीचर की जरूरतें भी पहले जैसी नहीं रह सकतीं। लिहाजा नया फर्नीचर खरीदना पड़ता है। इस खर्च से बचने के लिए अच्छा है कि पहले ही मल्टीपर्पज फर्नीचर खरीदा जाए। बच्चों के लिए मेज-कुर्सी का सेट इस तरह बना हो जो समय के साथ बड़ा-छोटा और ऊंचा-नीचा हो सके। बेड ऐसा हो जिसमें बच्चे के कपड़े और खिलौने भी रखे जा सकें। ब्लॉक स्टाइल फर्नीचर को सिटिंग, स्टोरेज और पढ़ाई करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।


हाई क्वालिटी का सामान
अगर आप महंगी चीजों की शौकीन हैं पर अपने सीमित बजट के कारण आपको अपना मन मारना पड़ता हैं तो आपको बड़े होटलों और दूतावासों में बिकने वाले सामान को खरीदने के बारे में सोचना चाहिए। चूंकि दूतावासों और होटलों को थोड़े-थोड़े समय के बाद नया लुक देना होता है, इसलिए पुराने से लेकर कुछ महीने पहले तक खरीदे गए सामान को सस्ते दामों पर सेल में बेच दिया जाता है।


ध्यान रखें पुराने स्टॉक पर
आप फर्नीचर और अपहोलस्ट्री का सामान बेचने वाली नामी गिरामी दुकानों की स्टॉक क्लीयरिंग सेल की ओर भी रूख कर सकते हैं। इन दुकानों में समय-समय पर सेल लगाती रहती हैं। बस आपको इस बारे में जानकारी होनी चाहिए। अखबार-टीवी के विज्ञापनों से इस बारे में जानकारी मिलती रहती है।


थोडा ज्यादा स्पेस
बुक शेल्फ को आप दीवार से सटाकर आठ नौ फीट की ऊंचाई तक तैयार कर सकते हैं। एडीशनल स्टोरेज के लिए शेल्फ में दरवाजे भी लगवाए जा सकते हैं। किचन शेल्फ को भी इसी तरह तैयार किया जा सकता है। खुली हुई शेल्फ में जार रख सकते हैं, जबकि रोटेटिंग ट्रे में रोजमर्रा की दूसरी जरूरी चीजें रखी जा सकती हैं। 

 

कैसा हो फर्नीचर

  • गोल-घुमावदार कटवाला फर्नीचर न लें यह महंगा तो होगा ही साथ ही इसके रखरखाव की ओर भी खास ध्यान देना पड़ता है।
  •  सीधे कट और डिजाइन वाला फर्नीचर लें यह सदाबहार भी है और महंगा भी नहीं होता।
  •  रॉट-आयरन का फर्नीचर अब फैशन में नहीं है पर रॉट-आयरन और लकड़ी के सम्मिश्रण से तैयार फर्नीचर खूबसूरत लगता है।
  •  फर्नीचर के रंग के लिए या तो लकड़ी को आधार मान कर चलें या फिर फर्नीचर के कपड़े को।
  •  फर्नीचर प्राकृतिक टीकवुड के रंग का ही हो, तो बेहतर है। यदि प्राकृतिक टिकवुड रंग देखने में अच्छा न लगे, तो उसमें गहरे रंग का टच दे सकते हैं।
  •  चाहें तो इसमें वॉलनट का हल्का सा टच दे सकते हैं। साथ में पीतल का नॉब लगा देने से विपरीत रंगों के संयोजन से देखने में भला सा लगता है।
  •  ध्यान रखें कि सारा फर्नीचर गहरे रंग का न हों। रोजवुड के रंग से बचें। इससे भी फर्नीचर देखने में भारी-भरकम लगता है।

ये भी पढ़ें-

घर को दें एक नया चेहरा

ये घर बहुत हसीन है

अपनी कला से सजाएं घर

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकते हैं।

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

सुख शांति बन...

सुख शांति बनाए रखनी...

कई बार ऐसा होता है कि घर में रखी बहुत सी सीआई चीज़ें...

आलिया भट्ट क...

आलिया भट्ट कि तरह...

लॉकडाउन में लगभग सभी सेलेब्स घर पर अपने परिवार के साथ...

संपादक की पसंद

क्या है  COV...

क्या है COVID-19...

दुनियाभर में कोरोना वायरस का मुद्दा बना हुआ है। हर...

लॉकडाउन के द...

लॉकडाउन के दौरान...

आज देश की स्थिति कोरोना की वजह से बेहद चिंताजनक हो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription