GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

पीकू ने मुझे अवॉर्ड से ज्यादा रिवॉर्ड दिए- दीपिका पादुकोण

गरिमा चन्द्रा

9th July 2016

दीपिका पादुकोण की गिनती फिल्म इंडस्ट्री की नम्बर वन और सबसे ज्यादा कमाने वाली हिरोइनों में होती है। 2007 में ‘ओम शान्ति ओम’ से अपने कैरियर की शुरूआत करने वाली दीपिका ने कम समय में ‘पिकू’ और ‘बाजीराव मस्तानी’ जैसी फिल्में करके दर्शकों का प्यार और ढेर सारे अवार्ड जीते हैं। हाल ही में दीपिका अपनी हालीवुड फिल्म ‘एक्सएक्सएक्स: द रिटर्न ऑफ जैंडर केज’ की शूटिंग कम्पलीट करके वापस आई हैं।

पीकू ने मुझे अवॉर्ड से ज्यादा रिवॉर्ड दिए- दीपिका पादुकोण


दीपिका ने साल 2015 में मेन्टल हेल्थ अवयरनेस के लिये ‘लिव लव लाॅफ' फांउडेशन की स्थापना भी की है। रणवीर सिंह के साथ अपने सम्बन्धों को लेकर भी दिपिका अकसर चर्चा में रहतीं हैं। पेश है ‘‘वोग आई वियर'' ब्रांड की फोटो शूट के दौरान दीपिका से हुई एक मुलाकात के कुछ अंश-   

1. ‘‘वोग आई वियर'' के साथ आपका एसोसियेशन तीन साल पुराना हो गया है किसी ब्रांड के साथ इतने लम्बे समय तक जुड़े रहने का क्या कारण हैं?

मैं सबसे पहले ब्रांड की गुणवत्ता देखती हूं फिर किसी भी ब्रांड से एक       रिलेशनशिप हो जाती है, एक तरह का इमोशनल इन्वेस्मेंन्ट हो जाता है, ब्रांड की तरक्की हो तो खुशी होती है। साथ काम करने से एक तरह का जुड़ाव हो जाता है।

2. आजकल चश्मा पहनना फैशन हो गया है? आप भी चश्मा पहनतीं हैं। आपका फेवरेट स्टाइल क्या है?

जी, मैं भी चश्मा पहनती हूं और मुझे उससे कोई दिक्कत नहीं होती। दरअसल इस बात का क्रेडिट वोग आई वियर को जाता है। हर तरह के चश्मे चाहें वह रिडिंग ग्लासेस हो या पावर वाले चश्मे या फैशन गाॅग्लस हो सब इतने खूबसूरत और स्टाइलिस्ट आने लगे हैं कि अब चश्मा पहनना बुरा नहीं लगता। अब तो चश्मा पहनना कूल माना जाता है। वैसे तो सभी चश्मे बहुत कम्फर्टेबल हैं, लेकिन  मेरी पर्सनल च्वाइस क्लासिक है, वह भी ब्लैक या टरटल कलर में।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

3. अपने फ्री टाइम में आप क्या करना पसंद करती हैं?

रोजमर्रा की जिन्दगी में जब शूटिंग नहीं कर रही होती, तो मैं बालकनी में बैठकर एक कप चाय पीना पसन्द करती हूं, कभी कोई बुक पढ़ती हूं, कुछ खाना बनाती हूं, म्यूजिक सुनती हूं, वर्क आउट करती हूं या (हंसकर) बस सो जाती हूं।

4. छुट्टियों में कहां घूमने जाना चाहेंगी?

दरअसल मुझे तो ट्रैवलिंग का ही बहुत शौक है, विभिन्न जगहों पर जाना, वहाॅं की सभ्यता के बारे में जानना और वहाॅं का खाना खाना, मुझे सब बहुत पसन्द है। हाॅलीडे के बाद जब घर वापिस आती हूं, तो मुझे वह फीलिंग भी बहुत अच्छी लगती हैं। अभी तो मुझे सिर्फ अपने घर बैंगलोर जाने का मन है।

5. हाॅलीवुड का अनुभव कैसा रहा?

हाॅलीवुड का अनुभव बहुत अच्छा था। विदेश में विदेशियों के बीच काम कर रही थी इसके अलावा कोई फर्क नहीं था। उनका काम करने का तरीका, क्रिएटिविटी सब अपने जैसा ही है। हां, मैं अपनी फिल्म के लिये बहुत उत्साहित हूं। बस, अब तो इन्तजार है कि कब फिल्म रिलिज हो और कब सब लोग उसे देखें।

 

6. आपके लिये अवार्ड ज्यादा महत्वपूर्ण है या रिवार्ड?

अवार्ड तो सभी को पसन्द आते हैं। लेकिन ‘पिकू' फिल्म के बाद मुझे बहुत सारे कम्पलीमेन्ट मिले, इस फिल्म के बाद जब मैं किसी बंगाली फैमिली से मिली तो उन्हें लगता था कि मेरा जन्म बंगाली परिवार में ही हुआ है। सबने बहुत तारीफ की, ज्यादातर लोगों ने उस किरदार से अपने आप को रीलेट किया। पिकू से लोगों ने अपने बड़ों की इज्जत करना सीखा, उसने कई लोगों की जिन्दगी को बहुत करीब से छुआ तो मेरे लिये किसी भी अवार्ड से ज्यादा यह रिर्वाड महत्वपूर्ण हो गया।

7. आप स्वयं बहुत स्टाइलिश हैं, अपने फैन्स से क्या कहना चाहेंगी?

मैं कहूंगी कि आप जैसे हैं वैसे ही रहिये। किसी और को अपने ऊपर हावी नहीं होने दीजिये। कोई भी स्टाइल आपकी पर्सनलिटी का हिस्सा होना चाहिए, सिर्फ फैशन के पीछे नहीं भागना चाहिए कई बार बड़े ब्रांड आपको आकर्षित करते हैं लेकिन जरूरी नहीं कि वह आपको सूट करें। मुझे निजि जिन्दगी में सफेद रंग पहनना पसन्द है, तो मैं पहनती हूं।

 

 

ये भी पढ़े-

सिचुएशनल कॉमेडी है फिल्म 'हाउसफुल 3'- अभिषेक बच्चन

जानिए पर्पल लिपस्टिक के बारे में क्या कहती हैं ऐश्वर्या 

अभी बहुत कुछ करना बाकी है- डायना हेडन

ब्रेकअप की खबरों पर रणवीर ने कुछ ऐसे लगाया विराम 

मैं बहुत सिम्पल और बोरिंग लड़की हूं-दीपिका पादुकोण

 

 

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकते हैं।