GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

मन, मस्तिष्क और आत्मा के लिए बेहतरीन स्थान इज़राइल

ऋचा कुलश्रेष्ठ

12th April 2017

मन, मस्तिष्क और आत्मा के लिए बेहतरीन स्थान इज़राइल
 
इज़राइल एक ऐसा देश है जिसके बारे में लोगों ने सुन तो बहुत रखा है लेकिन एक टूरिज्म डेस्टिनेशन के रूप में इसकी अद्भुत वैभवशाली संपदा के बारे में कम ही लोग जानते होंगे। जीवंत और आधुनिक देश इज़राइल दक्षिण पश्चिम एशिया में स्थित है जो दक्षिणपूर्व भूमध्य सागर के पूर्वी छोर पर स्थित है। इसके उत्तर में लेबनॉन, पूर्व में सीरिया और जॉर्डन तथा दक्षिण-पश्चिम में मिस्र है। विविध संस्कृति और जैव विविधता वाला इज़राइल हर किस्म के पर्यटक के लिए चित्ताकर्षक गतिविधियों और हर तरह के लुभावने आकर्षण पेश करता है। पर्यावरण की बात करें तो इज़राइल दुनिया का पहला और एकमात्र ऐसा देश है, जहां पिछली सदी की तुलना में इस सदी अधिक वृक्ष हैं, यानी इज़राइल शक्ति में तो आगे है ही, लेकिन पर्यावरण के मामले में भी बहुत ज्यादा सजग है। विविध खूबसूरत प्राकृतिक दृश्यों वाला यह देश आकार में काफी छोटा है, यहां तक कि आप इसके उत्तरी हिस्से से दक्षिण तक की ड्राइव सिर्फ 7 घंटे में और पूर्वी छोर से पश्चिमी छोर तक सिर्फ 2 घंटे में पहुंच सकते हैं। किसी भी पर्यटक के लिए यहां घूमने का अनुभव हमेशा के लिए यादगार हो सकता है। पर्यटक कम समय में और छोटे से क्षेत्र की बेमिसाल खूबसूरती और अनेक तरह के यादगार लम्हे हमेशा के लिए समेट सकता है।

 

 
पवित्र शहर यरुशलम
यरुशलम का पवित्र शहर एक धार्मिक स्थल है, जहां मॉडर्न रहनसहन और दुनिया के पुरातन ऐतिहासिक आकर्षण के बीच विरोधाभास का अनुभव किया जा सकता है। आप जैसे ही इस पुराने जादुई शहर में प्रवेश करते हैं, 4500 साल पहले पहुंच जाते हैं। ऐसा लगता है, जैसे अनेक तरह के इतिहास और संस्कृति का अनोखा मेल एक ही जगह पर आ मिले हों। एक ऐसी जगह जहां बहुत से महत्वपूर्ण घटनाएं घटती हैं, जिसे आप अपने हर कदम पर महसूस कर सकते हैं। बीते हुए समय के अनुभव के साथ-साथ आप नये मॉडर्न जमाने को भी एन्जॉय करते हैं, जहां एक अनोखी दुनिया में दीवारों से परे पुरातन का नये से संगम होता है। यरुशलम इज़राइल देश की राजधानी है, जो यहूदी, ईसाई और इस्लाम, तीनों धर्मों की पवित्र नगरी है। यरुशलम प्राचीन यहूदी राज्य का केन्द्र और राजधानी रहा है। यहीं यहूदियों का परम पवित्र सुलेमानी मन्दिर हुआ करता था, जिसे रोमनों ने नष्ट कर दिया था। ये शहर ईसा मसीह की कर्मभूमि रहा है। यहीं से हज़रत मुहम्मद स्वर्ग गए थे।

 महत्‍वपूर्ण पर्यटन स्‍थल

 

राजधानी होने के अलावा यरुशलम एक महत्‍वपूर्ण पर्यटन स्‍थल भी है। इस शहर में 158 गिरिजाघर तथा 73 मस्जिदें स्थित हैं। इन गिरिजाघरों और मस्जिदों के अलावा भी यहां देखने लायक बहुत कुछ है। द इज़राइल म्‍यूजियम, याद भसीम, नोबेल अभयारण्य, अलअक्‍सा मस्जिद, कुव्‍वत अल सकारा, मुसाला मरवान, सोलोमन टेंपल, वेस्‍टर्न वॉल, डेबिडस गुम्‍बद आदि यहां के प्रमुख दर्शनीय स्‍थल हैं। इज़राइल की राष्ट्र भाषा हिब्रू है तथा कहा जाता है कि मध्यकाल में हिब्रू भाषा का अंत हो गया था तथा इस भाषा को कोई भी सीखने वाला नहीं बचा था। इज़राइल की स्थापना के बाद राष्ट्र भक्त यहूदियों ने अपनी भाषा हिब्रू को इज़राइल की अधिकारिक भाषा बनाया और इस प्रकार हिब्रू का पुनर्जन्म हुआ। अब इज़राइल की दो अधिकारिक भाषा है, हिब्रू और अरबी।