GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

गर्भवती महिलाएं प्रदूषण फैलाने वाले कारकों से दूर रहें

गृहलक्ष्मी टीम

4th August 2017

शहरों में बढ़ता वायु प्रदूषण गर्भवती महिलाओं के लिए खतरनाक है इसलिए गर्भवती महिलाओं को अपने और बच्चे दोनों का ध्यान रखना चाहिए और घर में हवा साफ करने वाले यंत्रों को प्रयोग में लाना चाहिए।

वायु प्रदूषण गर्भवती महिलाओं के लिए ये बेहद खतरनाक साबित हो सकता है.शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक ताजा अध्ययन के अनुसार, वायु प्रदूषण का गर्भ में पल रहे बच्चे पर बुरा असर पड़ता है और इसके कारण जन्म के समय उसमें विकृति भी पैदा हो सकती है

‘‘क्या शहरी प्रदूषण मेरे शिशु को नुकसान पहुंचा सकता है?''
एक गहरी सांस लें। यह गहरी सांस काफी हद तक सुरक्षित ही है। करोड़ों गर्भवती महिलाएं इसी गहरी हवा में सांस ले रही हैं और स्वस्थ बच्चों को जन्म देती आ रही हैं। वैसे आपको हवा में प्रदूषण फैलाने वाले कारकों से थोड़ी सावधानी तो बरतनी ही होगी।
  • धुएं से भरे कमरे में न बैठें। तंबाकू का धुआं भ्रूण के विकास पर बुरा असर डाल सकता है। अपने मित्रों, परिवार के सदस्यों व सहकर्मियों से कहें कि वे आपके निकट धूम्रपान न करें। सिगरेट के साथ-साथ सिगार व पाइप से भी दूर रहें क्योंकि इनके इस्तेमाल से ज्यादा धुआं निकलता है।
  • अपनी कार के ईंधन की जांच कराएं। गैराज का दरवाजा बंद करके गाड़ी चालू न करें।जब इंजन चालू हो तो गाड़ी का दरवाजा व खिड़की का शीशा बंद कर लें।
  • आपके शहर में अधिक प्रदूषण हो तो ज्यादा समय घर पर ही बिताएं। खिड़कियां बन्द रखें व ए.सी. चला दें। स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा दिए गए सभी निर्देशों का पालन करें। यदि वर्क आउट करना चाहें तो जिम जाएं या किसी इनडोर मॉल में सैर करें।
  • चाहे कोई भी मौसम हो, गंदे प्रदूषित वातावरण में न तो दौड़ें और न ही साइकिल चलाएं। इस तरह आप ज्यादा प्रदूषित हवा भीतर ले जाएंगी। कोई ऐसा रास्ता चुनें-जहां पार्क हो या सड़क के किनारे घने पेड़ हों, मेन रोड से न जाएं। वृक्ष किसी भी स्थान की वायु को शुद्ध करते हैं।
  • आपके घर में फायरप्लेस, गैस स्टोव व लकड़ी के चूल्हे के धुएं की निकासी की पूरी व्यवस्था होनी चाहिए। फायरप्लेस में आग जलाने से पहले उसकी चिमनी खोल दें।
  • हमारे बताए ग्रीन-ग्रीन सुझाव आजमाएं,वे भी काफी कारगर हैं।
 
ग्रीन-ग्रीन टिप्स
घर की हवा को खुशनुमा बनाना चाहती हैं। अपने घर को हरियाली से भर दें।पौधे घर के प्रदूषण को मिटाकर ऑक्सीजनतो देंगे ही, साथ ही आपकी आंखों को भी ठंडक मिलेगी। ‘फिलोडेनड्रॉन' या ‘इंग्लिश आईवी' जैसे जहरीले पौधे न लगाएं। हालांकि जब शिशु घुटनों के बल चलने लगेगा तो आपको इस योजना में कुछ फेरबदल करनी पड़ सकती है।

 

ये भी पढ़ें - 

गर्भावस्था में छोटी-छोटी बातों का रखें खास ध्यान

प्रेगनेंसी में ध्यान से करें हीटिंग पैड व इलैक्ट्रिक कंबल का इस्तेमाल

माइक्रोवेव ओवन में पका खाना गर्भावस्‍था के लिए सुरक्षित

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।

 

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

गृहलक्ष्मी गपशप

पहली बार घर ...

पहली बार घर रहे...

लाॅकडाउन से पहले अक्षय कुमार की फिल्म सूर्यवंशी रीलीज़...

अनलाॅक 2 में...

अनलाॅक 2 में 31...

मिनिस्ट्री आफ होम अफेयर्स ने कहा है कि जो डोमैस्टिक...

संपादक की पसंद

गुरु एक सेतु...

गुरु एक सेतु है,...

गुरु तो एक सेतु है, एक संभावना है। गुरु एक तरह की रिक्तता...

दिल जीत लेंग...

दिल जीत लेंगे जयपुर...

जयपुर को गुलाबी शहर कहा जाता है लेकिन ये महलों का शहर...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription