GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

मेरे लाल तुझ में तो कोई कमी ही नहीं

सीमा धीर

11th December 2017

मेरे लाल तुझ में तो कोई कमी ही नहीं
 
एक दिन मेरी सासू मां ने मुझे बहुत बुरा-भला कहा। शाम को पति के घर आते ही मैंने अपना सारा गुस्सा इन पर निकाल दिया। सासू मां के साथ-साथ मैंने इनका पूरा खानदान लपेट में ले लिया। इतने में मेरा बेटा खेल कर वापस आया और अपना होमवर्क मेरे पति को दिखाता हुआ बोला, 'पापा निबंध लिखना है, 'मैं और मेरी कमियां। मैं लाड से बेटे से बोली, 'मेरे लाल, तुझ में तो कमी है ही नहीं। मेरे पति यह सुन कर बोले, 'बेटे, बड़ा हो जा, शादी कर ले, फिर देख कैसे बीवी तेरी तो क्या, पूरे खानदान की कमियां गिनवाती है। यह सुन बेटा तो बेचारा निरुत्तर खड़ा रहा और मैं शर्म से लाल हो गई।
 

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

अच्छे शारीरि...

अच्छे शारीरिक, मानसिक...

इलाज के लिए हर तरह के माध्यम के बाद अब लोग हीलिंग थेरेपी...

आसान बजट पर ...

आसान बजट पर पूरा...

आपकी शादी अगले कुछ दिनों में होने वाली है। आपने इसके...

संपादक की पसंद

आध्यात्म ऐसे...

आध्यात्म ऐसे रखेगा...

आध्यात्म को कई सारी दिक्कतों का हल माना जाता है। ये...

बच्चों को हा...

बच्चों को हाइड्रेटेड...

बच्चों के लिए गर्मी का मौसम डिहाइड्रेशन का कारण बन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription