GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

सोने नहीं देते

तन्वी कौशिक 'रुद्राक्ष

9th December 2017

 
मुझे शुरू से ही दोपहर का भोजन करने के बाद थोड़ी देर लेटने की आदत रही है। शादी के बाद ससुराल आने पर घर के काम निपटाकर सोने की आदत बनी हुई थी। दिन में सोने को मेरी सासुमां आलस्य का घर मानती थी। इसलिए यह आदत उन्हें पसंद नहीं थी। इशारों से जब बात नहीं बनी तो एक दिन उन्होंने टोक ही दिया। उनके द्वारा टोका जाना मुझे रास नहीं आया और मैंने भी गुस्से में कह डाला, 'मां जी, रात में तो ये (पतिदेव) मुझे सोने नहीं देते और दिन में आप। अब मैं कहां, कब और कैसे सोऊं?
पतिदेव पास ही में खड़े थे। मेरा जवाब सुनकर मंद-मंद मुस्कुराने लगे। सासुमां को बात समझ में आई तो उन्होंने भी ठहाका लगा दिया। बची मैं, तो बात का मतलब समझ में आते ही झेंप गई और शर्म से लाल हो गई। 
 

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

अच्छे शारीरि...

अच्छे शारीरिक, मानसिक...

इलाज के लिए हर तरह के माध्यम के बाद अब लोग हीलिंग थेरेपी...

आसान बजट पर ...

आसान बजट पर पूरा...

आपकी शादी अगले कुछ दिनों में होने वाली है। आपने इसके...

संपादक की पसंद

आध्यात्म ऐसे...

आध्यात्म ऐसे रखेगा...

आध्यात्म को कई सारी दिक्कतों का हल माना जाता है। ये...

बच्चों को हा...

बच्चों को हाइड्रेटेड...

बच्चों के लिए गर्मी का मौसम डिहाइड्रेशन का कारण बन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription