GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

घर में पॉजिटिव एनर्जी चाहिए तो ऐसे करें कपूर का इस्तेमाल

गृहलक्ष्मी टीम

15th November 2017

घर में नकारात्मक ऊर्जा न रहे उसके लिए हम कई उपाये करते हैं, ऐसा ही एक उपाय है कपूर का प्रयोग। जो बहुत ही आसान व प्रभावी है। वास्तुशास्त्री आनंद भारद्वाज बता रहे हैं कि कपूर किस प्रकार नष्ट करता है नकारात्मक ऊर्जा को, आइए जानते हैं ---

घर में पॉजिटिव एनर्जी चाहिए तो ऐसे करें कपूर का इस्तेमाल
जीवन में खुशियां पाने की चाह में मनुष्य हर संभव प्रयास करता है लेकिन ढेरों प्रयत्न करने के बाद भी अक्सर उसके जीवन में खुशियां दस्तक नहीं देतीं। ऐसा अमूमन उसके आसपास फैली नकारात्मक ऊर्जा के कारण होता है। अगर आप चाहते हैं कि आपके घर संसार में खुशियों का वातावरण हो तो सबसे पहले आपको अपने घर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा को सकारात्मक ऊर्जा में परिवर्तित करना होगा। वैसे ऐसा करने के लिए आपको बहुत अधिक मेहनत की आवश्यकता नहीं है। एक छोटा-सा कपूर भी आपकी इस काम में मदद कर सकता है।
 
शायद आपको पता न हो लेकिन कपूर एक प्रकार का फिल्टर है, जो नकारात्मक ऊर्जा को सकारात्मक ऊर्जा में परिवर्तित कर देता है। घर में पॉजिटिव एनर्जी का स्तर बनाए रखने के लिए, अगर कपूर का इस्तेमाल घर में खाली पड़ी जगह व बहुत कम प्रयोग में आने वाले स्थानों में किया जाए तो इन जगहों पर नकारात्मक ऊर्जा को फिल्टर करके वहां सकारात्मकता का संचार किया जा सकता है।
 
 
 
बनी रहे शुद्धता
 
घर में कपूर के प्रयोग का सबसे बड़ा लाभ यह है, कि इसके प्रयोग से वातावरण में शुद्धता आती है। जिससे रुकी हुई ऊर्जा या नकारात्मक ऊर्जा स्वत: ही सकारात्मक ऊर्जा में परिवर्तित हो जाती है और व्यक्ति का मन स्वयं ही प्रफुल्लित हो उठता है। साथ ही यह अपने आस-पास मौजूद ऑक्सीजन की शुद्धि करता है। चूंकि यह वातावरण में शुद्धता बरकरार रखने में मदद रखता है, इसलिए हर इंसान अपनी नित्य पूजा-पाठ से लेकर हवन आदि में इसका प्रयोग अवश्य करता है। अपने वैदिक गुणों के कारण कपूर में घर के किसी भी वास्तुदोष को ठीक करने की क्षमता होती है।
 
 
स्टोर रूम में करें प्रयोग
 
चाहे आप घर में साफ-सफाई का कितना ही ध्यान रखते हों लेकिन फिर भी घर में ऐसे बहुत से कोने होते हैं, जहां पर नकारात्मकता अपनी जड़ें जमा लेती हैं। ऐसे कोनों में से नकारात्मकता को दूर करने के लिए कपूर का उपयोग करना बहुत अच्छा रहता है। स्टोर रूम भी घर का ऐसा ही एक हिस्सा होता है, जहां पर नकारात्मकता बहुत अधिक देखी जाती है। आमतौर पर स्टोर रूम में ऐसा सामान रखा जाता है, जिनका इस्तेमाल रोजमर्रा में नहीं होता। ऐसे में उस कमरे का दरवाजा भी तभी खुलता है, जब वहां से कोई सामान निकालना या रखना होता है। कमरे के बंद रहने व अंधेरा होने के कारण वहां पर ऊर्जा प्रवाह नहीं होता। ऐसे स्टोर रूम में भी यदि कपूर की थोड़ी मात्रा महीने में एक बार रखी जाए, तो वहां पर क्षीण हुई ऊर्जा को दोबारा प्रवाहित किया जा सकता है। वहीं जिनके घर छोटे होते हैं, वे अपना अतिरिक्त सामान रखने के लिए स्टोर रूम के स्थान पर टांड या परछत्ती का  करते हैं। वहां पर भी ऊर्जा के प्रवाह को बरकरार रखने के लिए उसे भी समय-समय पर साफ करना बेहद आवश्यक है। यहां लगभग एक महीने के अंतराल पर कपूर की गोलियां या कपूर के कुछ टुकड़े तोड़कर रखते रहें। इससे घर के कोनों में छिपी नकारात्मकता काफी हद तक कम होती है। वहीं अगर आपके घर में ऐसा कमरा है, जहां पर कोई खिड़की नहीं है या वहां पर हवा के प्रवाह के लिए स्थान बेहद कम है तो वहां पर भी कपूर का प्रयोग अवश्य करें। इससे उस कमरे में कोई भी वास्तुदोष उत्पन्न नहीं होता।
 

 

मुख्य द्वार से आएं खुशियां
 
अगर आप चाहते हैं कि आपके घर के मुख्य द्वार से खुशियां आपके जीवन में दस्तक दें तो रोज सुबह किसी बर्तन में थोड़ा कपूर अवश्य जलाएं। ऐसा करने से घर में सकारात्मकता का संचार आसानी से किया जा सकता है। आमतौर पर लोग घरों के मुख्य द्वार के आसपास पेड़-पौधे, शू-रैक या अन्य सामान भी रख देते हैं और जरूरत से ज्यादा सामान होने पर घर में प्रवेश होने वाली सकारात्मक ऊर्जा बाधित होती है। कपूर का प्रयोग उस बाधा को दूर करने में मदद करता है। वैसे अगर आप बर्तन के स्थान पर बाजार में मिलने वाले कैम्फर-लैंप के नाम से धातु के बने पात्र का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।
 
साथ देगीं सीढ़ियां 
 
जिन लोगों के घर बड़े व दो-तीन या इससे ज्यादा मंजिला होते हैं, वहां पर हर दिन साफ-सफाई करना बेहद मुश्किल होता है। कभी-कभी तो देखने में आता है कि परिवार के सदस्य ग्राउंड या पहली मंजिल पर निवास करते हैं और ऊपर की मंजिलों पर उनका आना-जाना न के बराबर होता है। ऐसे में वहां की सीढ़ियों में रोशनी और साफ-सफाई नगण्य होती है। स्वच्छता के अभाव व अंधेरा होने के कारण वहां पर नकारात्मकता अपने पैर पसार लेती है और यह नकारात्मकता पूरे घर पर अपना विपरीत असर छोड़ती है। ऐसे में सीढ़ियों में मौजूद नकारात्मकता को दूर करने के लिए सिर्फ साफ-सफाई व उचित रोशनी व्यवस्था पर ही ध्यान देना पर्याप्त नहीं है। यदि यहां पर कपूर की एक-दो टिकिया इस प्रकार रखी जाए जो कि धीरे-धीरे उड़ती रहें, तो सीढिय़ों के स्थान में भी सकारात्मकता का संचार बना रहेगा। बस ध्यान रहे कि हर पंद्रह-बीस दिन बाद इस क्रिया को दोहराते रहें।
 
सकारात्मकता का बेस है बेसमेंट
 
घर में कुछ कोने ऐसे होते हैं जो अमूमन उपेक्षा का शिकार होते हैं। फिर चाहे बात बेसमेंट की हो या भवन के पिछले भाग में बने कमरे या गैराज आदि की। अक्सर वहां जाने पर सीलन या अप्रिय गंध का अहसास होता है। अगर आपके घर में भी ऐसे स्थान हैं तो वहां पर सप्ताह में कम से कम एक बार थोड़ा सा कपूर या हवन सामग्री हो जलाकर थोड़ी सी धूनी देते रहें। कपूर की सुगंध वहां पर मौजूद हर प्रकार की नकारात्मकता को दूर कर देगी।