गंगटोक घूमने जा रहे हैं तो जरूर देखें ये 5 जगह

गरिमा अनुराग

25th March 2019

सिक्किम राज्य की राजधानी और मठों की भूमि के रूप में जाना जाने वाला गंगटोक हिमालय पर्वत श्रिखंला के नीचे बसा एक खूबसूरत शहर है। वैसे तो यहां पग-पग पर आपको प्रकृति की खूबसूरती देखने मिलती है, लेकिन ये जगह जितनी खूबसूरत और रुमानी किसी नवविवाहित के लिए है, उतनी ही रोमांचक परिवार को लेकर घूमने वाले लोगों के लिए है। अगर आप फैमिली के साथ गंगटोक घूमने जा रहे हैं, तो इस शहर के इन पांच दर्शनीय स्थलों को जरूर देखें-

त्सोंगमो झील या छंगू झील -  नाथुला पास के रास्ते में पड़ता है छंगू झील। तीन तरफ से पहाड़ों से घिरे इस झील का नज़ारा बेहद मनोरम है। यहां आप याक की सवारी कर थोड़ी ऊंचाई पर जाकर फोटो खिंचवाने का मजा भी ले सकते हैं। अगर आप नवंबर-दिसंबर या फरवरी में इस झील के पास पहुंचे तो आप चारों तरफ से बर्फ से ढ़के पहाड़ों के बीच जमा हुआ छंगू लेक देख सकते हैं।  
 

 

रुमटेक मोनेस्ट्री- जैसा कि हम पहले बता चुके हैं, गंगटोक में छोटे-बड़े कई मठ है। रूमटेक ऐसा ही एक मठ है जहां आप जाकर बौद्ध धर्म के बारे में जानकारी ले सकते हैं। 

 

हिमालयन ज़ूलॉजिकल पार्क- प्रकृति की गोद में बसा ये जुलॉजिकल पार्क काफी बड़े क्षेत्र में फैला है और यहां आपको कई अद्भुत जातियों के पशु पक्षी देखने मिल जाएंगे। हां, यहां घूमने के लिए आपको एक पूरा दिन  चाहिए।
 

 

बन झकरी फॉल्स- गंगटोक स्थित बन झकरी फॉल्स प्रकृति और मानवीय  कलात्मकता का बेहद संतुलित नमूना कहा जा सकता है। पहाड़ों के बीच कहीं फूलों का झूंड, कहीं सीढ़ियां, तो कहीं बैठने की जगह और सीधे बढ़ते जाइए तो ऊंचाई से गिरता पानी...वाकई ये स्थल दर्शनीय है। 
 
सेवन सिस्टर वॉटरफॉल्स- अगर आपको पहाड़, हरियाली, उंचाई से गिरते झरने और पानी पसंद है, तो गंगटोक के मुख्य शहर से 32 किलोमीटर दूर गंगटोक-लाचुंग हाइवे पर ये जगह देखने के लिए सर्वश्रेष्ठ हैं। यहां एक के बाद एक सात झरने अगल-बगल गिरते हैं। यहां घूमने के लिए आपको एक पूरा दिन चाहिए। 
मॉनसून में यहां पर्यटकों का तांता लगा रहता है।

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

जन-जन के प्र...

जन-जन के प्रिय तुलसीदास...

भगवान राम के नाम का ऐसा प्रताप है कि जिस व्यक्ति को...

भक्ति एवं शक...

भक्ति एवं शक्ति...

शास्त्रों में नागों के दो खास रूपों का उल्लेख मिलता...

संपादक की पसंद

अभूतपूर्व दा...

अभूतपूर्व दार्शनिक...

श्री अरविन्द एक महान दार्शनिक थे। उनका साहित्य, उनकी...

जब मॉनसून मे...

जब मॉनसून में सताए...

मॉनसून आते ही हमें डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, जैसी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription