घर पर भूलकर भी न लगाएं ये 5 तस्वीरें, होता है ये नुकसान

गृहलक्ष्मी टीम

9th December 2017

जानिए कौन-सी हैं वो तस्वीरें....

 
अक्सर हम में से ज्यातार लोग बिना सोच-समझे किसी भी तस्वीर या पेटिंग को अपने घर में एक जगह देते हैें। ताकि हमारे घर का वो कोना खूबसूरत दिखे। लेकिन वहीं दूसरी तरफ हम इसके परिणाम से बिल्कुल अंजान होते हैं। वास्तु के अनुसार सभी तस्वीरें या पेटिंग आपके घर या दुकान के लिए शुभ नहीं होती है। इनमें कुछ तस्वीरें आपके सौभाग्य को दुर्भाग्य में बदल सकती है। अगर आपके घर में इन 5 तस्वीरों जैसी कोई भी पेटिंग या फोटो है तो उसे तुरंत हटा दें -
 
 
 
हिंसक जानवरों की तस्वीर
 
प्रभाव - इस तरह की तस्वीरें रखने से घरवालों का स्वभाव हिंसक एंव गुस्सैल प्रवृत्ति का होने लगता है।
 
 
 
महाभारत की तस्वीर
 
प्रभाव - भले ही महाभारत हिंदू धर्म का सबसे महत्वपूर्ण ग्रंथ लेकिन इसे घर में रखना अशुभ माना जाता है। क्योंकि ये एक तरह से पारिवारिक झगड़े और क्लेश की कहानी है। जिसे घर में रखने से लड़ाई-झगड़े होते रहते हैं।
 
 
 
रोते हुए बच्चे की फोटो
 
प्रभाव - मॉर्डन आर्ट के नाम पर आजकल किसी भी तरह की कोई भी तस्वीर चलन का हिस्सा बन जाती है लेकिन ये सही नहीं है। रोते हुए बच्चे की फोटो तकलीफ को दर्शाती है इस लिए ऐसी पेटिंग बिल्कुल भी न लगाएं।
 
 
 
ताजमहल की तस्वीर
 
प्रभाव - एकतरफ ताजमहल प्यार की निशानी है लेकिन दूसरी तरफ ये भी सच है कि वो एक कब्रगाह है। जिसकी तस्वीर या शो-पीस रखने से घर में नाकारात्मकता बढ़ जाती है।
 
 
  
डूबते हुए जहाज की तस्वीर
 
प्रभाव - इस तरह की तस्वीर सौभाग्य को भी दुर्भाग्य में बदल देती है। दरअसल इस तरह की तस्वीरें पूरी तरह से चीजों का नष्ट होने का संकेत देती है। इससे दांपत्य जीवन पर भी विपरीत प्रभाव पड़ता है।
 
 
 

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

घर पर वाइट ह...

घर पर वाइट हैड्स...

वाइट हैड्स से छुटकारा पाने के लिए 7 टिप्स

बच्चे पर मात...

बच्चे पर माता-पिता...

आपकी यह कुछ आदतें बच्चों में भी आ सकती हैं

संपादक की पसंद

तोहफा - गृहल...

तोहफा - गृहलक्ष्मी...

'डार्लिंग, शुरुआत तुम करो, पता तो चले कि तुमने मुझसे...

समझौता - गृह...

समझौता - गृहलक्ष्मी...

लेकिन मौत के सिकंजे में उसका एकलौता बेटा आ गया था और...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription