GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

शिल्पा शेट्टी ने बताया कैसे बिना जिम गए भी रह सकते हैं फिट 

आभा यादव

12th June 2018

फिटनेस फ्रीक कही जाने वाली बॉलीवुड ऐक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी फ़िल्म इंडस्ट्री में करीब ढाई दशक का सफर पूरा कर चुकी है। उनकी हेल्थ और फिटनेस आधारित किताब 'द ग्रेट इंडियन डाइट' काफी फेमस हुई। अब उनकी दूसरी किताब 'द डायरी ऑफ आ डोमेस्टिक दिवा' आयी है उसमें उन्होंने झटपट बनने वाली हेल्दी रेसिपीज दी है। 
महिलाओं की फिटनेस के बारे में शिल्पा का कहना है। हमारे देश में महिलाएं फैमिली के लिए पहले सोचती है खुद के लिए बाद में। लेकिन घर परिवार की व्यवस्तताओ के बीच व्यायाम और अपनी हेल्थ पर ध्यान दे। अगर वे हेल्दी और खुश रहेंगी तो परिवार का भी बेहतर ख्याल रख सकेंगी। शिल्पा शेट्टी का मानना है कि 'कूल' दिखने के लिए जिम में पसीना बहाने की जरूरत नहीं है. बल्कि, 'फिटनेस' को जीवन का एक तरीका बनाना जरूरी है. लाइफ में लक्ष्य रखना एक बात होती है लक्ष्य की तरफ काम करना और बरकरार रखना दूसरी। लोग लक्ष्य से कई बार भटक जाते हैं। भले काम का मामला हो या फिटनेस, फोकस कायम रहना चाहिए। अनुशासन होना बहुत जरूरी होता है। अनुशासन का अर्थ डाइटिंग से नहीं है। 

 
वो कहती  हैं," मैं खाने में फाइबर, प्रोटीन युक्त चीज़ें शामिल करती हूं। योग और ब्रीदिंग एक्सरसाइज करती हूं। ऐसे कई लोग हैं, जो जिम जाते हैं क्योंकि अब यह एक 'सनक' बन गयी है। लेकिन मेरे लिए यह हमेशा ही एक अनुशासित जीवनशैली का हिस्सा रहा है। फिटनेस मेरे लिए जीवन है. यह मेरे लिए कुछ ऐसी चीज नहीं है, जो मैंने कूल दिखने के लिए किया हो. आज जिम जाना एक फैशन जैसा हो गया है.

 
मैं ऐसे परिवार से हूं जो स्वस्थ जीवन जीने में यकीन रखता है। मैं अपने स्कूल के दिनों में, विभिन्न खेलों में भाग लिया करती थीं. मैं राज्यस्तरीय वॉलीबॉल खिलाड़ी थी और अपने स्कूल में ताइक्वोंडो का भी अभ्यास करती थी। मेरे माता-पिता ने फिटनेस पर जोर दिया। मेरे लिए जिम जाना कोई विलासिता नहीं थी, बल्कि एक जरूरत थी।  अब मैं फिटनेस के साथ जुड़ी हुं। और इस मामले में पथप्रदर्शक बनना चाहती हूं। मैंने अस्वस्थ जीवन जीने वाले लोगों में जागरूकता लाने की सोची है। नई पीढ़ी को स्वस्थ जीवनशैली देना बहुत जरूरी है।"

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

जानिए बॉलीवु...

जानिए बॉलीवुड की...

चलिए जानते हैं कुछ एक्ट्रेसेस के बारे में जिन्होंने...

चाणक्य के अन...

चाणक्य के अनुसार...

सदियों से ये सोच चली आ रही है महिलाएं शारीरिक और मानसिक...

संपादक की पसंद

रामायण: घर-घ...

रामायण: घर-घर में...

रामानंद सागर की 'रामायण' लॉकडाउन में जब दोबारा प्रसारित...

खाद्य पदार्थ...

खाद्य पदार्थ जो...

आजकल आप थके-थके रहते हैं। रोमांस करने की आपकी इच्छा...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription