GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

सुसाइड के लिए उकसाता है घर का वास्तु ! जानें, कहीं आपका घर भी तो नहीं है ऐसा

मोना

19th June 2018

सुसाइड की खबरें हमें लगभग रोज पढ़ने, देखने या सुनने को मिल जाती हैं। हाल के दिनों में आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज के सुसाइड करने की घटना ने देश भर को हैरान कर दिया।

सुसाइड के लिए उकसाता है घर का वास्तु ! जानें, कहीं आपका घर भी तो नहीं है ऐसा
 
एक अवधारणा है कि आमतौर पर आर्थिक रूप से परेशान लोग ही आत्महत्या जैसा कदम उठाते हैं। हालांकि, ऐसा नहीं है कि हर कोई आर्थिक परेशानियों की वजह से ही अपनी जान लेता है। खुदकुशी करने की सबकी अलग-अलग वजह होती है। मगर आपको जानकर हैरानी होगी कि घर का वास्तु भी सुसाइड की वजह बन सकता है। आइये आपको इसके बारे में विस्तार से बताते हैं।
 
घर के वास्तुदोष सुसाइड के लिए बनाते हैं परिस्थितियां
 
वास्तु विशेषज्ञों के मुताबिक, घर में कुछ ऐसे वास्तु दोष होते हैं, जो किसी व्यक्ति के सुसाइड  करने के लिए परिस्थितियां बनाते हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि जिस घर का पूर्व दिशा में मुख्य द्वार हो और चारदीवारी के अग्नेय कोण की पूर्व दिशा में एक और द्वार हो, ऐसे घर में रहने वाले खुदकुशी कर सकते हैं। जिस घर की ईशान दिशा कट गई हो और वायव्य में कुंआ या पानी स्रोत हो, ऐसे घर में रहने वाले परिवार के लोग भी आत्महत्या जैसा कठोर कदम उठा सकते हैं। 
 
 
ये बन सकते हैं बदनामी और खुदकुशी का कारण 
 
जानकारों का मानना है कि घर का मुख्य द्वार पूर्व दिशा में हो और कंपाउंड वॉल में अग्नेय कोण में द्वार हो और घर का ईशान कोण कट गया हो, तो ऐसे घर में रहने वाले लोग बदनामी, जेल जाने, दुर्घटना या खुदखुशी का शिकार होते हैं। नैऋत्य ब्लॉक में स्थित घर का ईशान कोण कट गया हो या उत्तर और पूर्व की सड़कों के कारण अगर उस घर का ईशान कोण कट गया हो, इसके साथ ही नैऋत्य कोण किसी प्रकार से नीचा हो, तो ऐसे घर में रहने वाले लोग आर्थिक रूप से संपन्न होने पर भी रिश्तों को महत्व नहीं देते। अकेलेपन से जूझते हैं और खुदखुशी जैसा कदम उठा सकते हैं।
 
आत्महत्या, लंबी बीमारी और अकाल मृत्यु का योग
 
वास्तु विशेषज्ञ बताते हैं कि इसके अलावा अगर घर के नैऋत्य (पश्चिम-दक्षिण का हिस्सा) में पश्चिम की तरफ ढलान, नीचा स्थान या नैऋत्य की दक्षिण दिशा में दरवाजा हो, तो ऐसे घर में रहने वाला कोई सदस्य आत्महत्या कर सकता है। साथ ही अगर नैऋत्य कोण घर के ईशान कोण की तुलना में नीचा हो या इस कोण में भूमिगत पानी का स्रोत हो, तो घर में आत्महत्या, लंबी बीमारी और अकाल मृत्यु के योग बनते हैं।