GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

5 योगासन जो आपके हार्ट को बनाएं हेल्दी:5 Yoga Poses For Healthy Heart

गीता सिंह

20th June 2018

आज के समय की जिंदगी इतनी भागदौड़ वाली है कि इंसान को सही से आराम करने का समय तक नहीं मिल पाता है। घड़ी की कांटे की तरह इंसान भी एक काम से दूसरे काम को निपटाने के लिए बाध्य रहता है जिसके चलते हर तीसरा व्यक्ति तनाव का शिकार रहता है। यही कारण है कि कम उम्र में लोग हृदय संबंधित बीमारियों को शिकार हो रहे हैं। 20-25 साल की उम्र में भी हार्ट-अटैक आने के कारण युवा मौत का शिकार हो रहे हैं। और यह सब दिन-ब-दिन खराब होती जीवनशैली व बढ़ते तनाव की वजह से हो रहा है। और इस तनाव को दूर करने के लिए लोग दवाईयों का सहारा लेने पर मजबूर हो रहे हैं किंतु वे ये नहीं जानते हैं कि दवाईयां कुछ क्षण लिए ही दिमाग को शांत रख सकती हैं ये इसका स्थायी इलाज नहीं हैं।

5 योगासन जो आपके हार्ट को बनाएं हेल्दी:5 Yoga Poses For Healthy Heart
तनाव को दूर करने व हृदय को स्वस्थ रखने के लिए योग बहुत ही प्रभावी रहता है यानी लगातार योग करने से तन और मन दोनों पूर्णत स्वस्थ रहते हैं इसलिए एक व्यक्ति को दिन में कम से कम 20 से 30 मिनट योग जरूर करना चाहिए। हम आपको बता रहे हैं 5 ऐसे योगासन जिन्हें प्रतिदिन कुछ मिनट करने से हृदय से जुड़ी परेशानियों का समाधान हो जाता है साथ ही व्यक्ति स्ट्रेस फ्री रहता है। 
 
हेल्दी हार्ट के लिए योगासन 
 
1. भुजंगासन योग
 
भुजंगासन को करने के लिए पेट के बल लेट जाइये तथा पैरों को सीधा व लम्बा फैला दीजिए। अपने हथेलियों को कंधों के नीचे जमीन पर रखिये  तथा अपने सिर को जमीन से छूने दीजिये। पीठ की मांसपेशियों को शिथिल कीजिये। अब  धीरे-धीरे सिर व कंधों को जमीन से उपर उठाइये और सिर को जितना पीछे की तरफ ले जा सकें ले जाइये। यह क्रिया शुरूआत में दो से तीन बार कीजिए फिर धीरे-धीरे करने का समय बढाते जाइये। यह आसान प्रतिदिन करने से हृदय मजबूत बनता है व दिल और फेफड़ों का मार्ग भी इसे करने से साफ होता है। इसके अलावा भुजंगासन  अस्थमा के रोगियों के लिए भी बहुत फायदेमंद रहता है। 
 
 
2. वृक्षासन योग
 
वृक्षासन  को शांत व संतुलित करता है। शांत मन के लिए यह मुद्रा काफी फायदेमंद है। इसे करने से हृदय प्रणाली बेहतर रहती है। इस आसन को करने के लिए पहले आप सीधे तरह तनकर खड़े हो जाएं और अपने शरीर का भार बाएंस पैर पर डाल दें फिर अपने दाएं पैर को बाएं पैर पर मोड कर रखें। गहरी सांस लते हुए अपने हाथों को सिर के उपर की ओर खींजिए। अब इस मुद्रा में कुछ सेकेण्ड तक बने रहे। इस मद्रा को को 5 बार दोहराएं। 
 
 
3. वीरभद्र योग
 
वीरभद्र आसन करने के लिए सबसे पहले एक पैर को पीछे की तरफ ले जाएं , वहीं दूसरे पावं को 90 डिग्री एंगल पर स्ट्रेच करें। दोनों हाथों को उपर लेे  जाकर जोड़ें, एकदम एक पहाड़ की शेप जैसा। फिर धीरे-धीरे दोनों हाथों को सामने की ओर लाएं  और पीछे के पैर को और पीछे की तरफ स्ट्रेच करें। ध्यान रहे दूसरे पैर को उसी अवस्था में रहने । अब बारी-बारी से दोनों पैरो से इस आसन को करें। वीरभद्र आसन हमारे शरीर  को शक्ति और दृढ़ता प्रदान करता है। यह एक ऐसा आसन ही जिससे हमारा तनाव दूर होता है और शरीर में शक्ति का प्रवाह होता है। 
 
 
4. अंजली मुद्रा योग
 
अंजली मुद्रो  आसन करने के लिए सीधे खड़े जाएं और दोंनो हाथों को जोड़कर छाती के बीचों-बीच रखें। फिर आंखे बंद कर सीधें से सांस अंदल लें, थोड़ी देर सांस रोकें फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ें। यही पैटर्न कुछ मिनटों तक दोहराएं। अंजली मुद्रा आसन प्रतिदिन करने से हमारी श्वसन प्रणाली दुरुस्त रहती है और शरीर में आॅक्सीजन की मात्रा पर्याप्त होने लगती है। जिसका सीधा असर हमारे ब्लड सर्कुलेशन पर पड़ता है और हृदय स्वस्थ रहता है और बेहतर तरीके से काम करता है। 
 
 
 
5. तड़ासन योग
 
तड़ासन करने के लिए आप अपनी एड़ियों को ऊपर की ओर उठाएं। आपको लगना चाहिए कि कोई आपको ऊपर की तरफ खींच रहा है। इस आसन को करते समय आपके शरीर का सारा भार आपकी पैरों की अंगुलियों पर होगा। इस अवस्था में अपने शरीर को पूरी तरह खींचिए और धीरे-धीरे एड़ियों को जमीन पर वापस लाइये। तड़ासन करने के दौरान उठते समय श्वास अंदर की ओर और नीचे आते हुए श्वास बाहर की ओर छोड़िए। तड़ासन न केवल पैरों के दर्द को दूर करता है बल्कि आपके हृदय रोग के लिए भी फायदेमंद है।