GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

Knee Replacement के बाद करें ये तीन आसान योगासन

सुचि बंसल, योगा एक्सपर्ट एवं डाइटीशियन

25th June 2018

घुटने सही हों तो बुढ़ापा भी अच्छे से गुजरता है क्योंकि रोज़मर्रा के कामों को करने के लिए सहारे की जरूरत नहीं पड़ती। आजकल की लाइफ स्टाइल में तो युवा वर्ग भी घुटनों की समस्या से पीड़ित रहता है, कई बार तो बहुत कम उम्र में ही नी रिपलेसमेंट की नौबत आ जाती है।

 

नी रिपलेसमेंट सर्जरी में उस डिसीज्ड जाइंट को आर्टिफ़िशियल से बदल दिया जाता है। ज़्यादातर तभी किया जाता है जब मरीज को चलने-फिरने और बिस्तर तक से उठने में बहुत अधिक समस्या होने लगती है। यह एक सीरियस प्रोसीजर होता है जिसमें हीलिंग में समय लगता है। सर्जरी के बाद घुटने बहुत ही नाजुक स्थिति में होते हैं। योगा का अभ्यास इनकी हीलिंग की प्रक्रिया को तेजी से करता है, साथ ही घुटने और उसके आसपास के मसल्स को मजबूती देता है।

सेतु बंधासन

पीठ के बल सीधा लेट जाएँ। अपने घुटनों को मोड़ें तथा तलवों को अपने कूल्हों के नजदीक रखने का प्रयास करें। अपने हाथों को शरीर के बगल में रखते हुए हथेलियों से अपनी ऐडियों को पकड़ने का प्रयास करें। श्वास लेते हुए अपनी कमर वाले भाग को ऊपर की ओर उठाएँ। यहाँ यह ध्यान रखना आवश्यक है कि कंधे जमीन पर ही रहें, केवल कमर वाले भाग को जितना ऊपर उठा सकते हैं, उठाना है। फिर श्वास छोड़ते हुए धीरे से वापस आ जाएँ। यदि संभव हो तो कमर को जब ऊपर उठायें तो थोड़ी देर वही रुकने का प्रयास करें। यह आसन जांघों की hamstring मसल्स पर काम करता है और हिप्स की मसल्स को स्ट्रेच करता है। इससे घुटनों की मसल्स को स्ट्रेंथ मिलती है, जिससे वे जल्दी मजबूत होकर सामान्य अवस्था में वापस आते हैं।

 

अधोमुख श्वानासन 

अपने हाथ और पैरों के बल आ जाएँ। अपने शरीर से पर्वत या पहाड़ की आकृति बनाते हुए अपनी कमर को ऊपर की ओर उठाएँ। घुटनों और कोहनियों को मजबूती देते हुए उल्टा "V" बनाने की कोशिश करें। दोनों हाथ कंधों के जितनी दूरी पर हों तथा पैर कमर की दूरी के बराबर एक- दूसरे के समानांतर हों। अपने हिप्स को छत की ओर ऊपर उठाएँ और हो सके तो अपनी ऐडियों को जमीन से लगाने की कोशिश करें। बाजुओं और पीठ को सीधा रखते हुए छाती को जमीन की ओर जितना ले जा सकते हों ले जाएँ। 5 बार श्वास अंदर लें तथा बाहर छोड़ें ताकि थोड़ी देर इसी स्थिति में रह सकें। यह आसन पैरों, ऐडियों और तलवों की मांसपेशियों पर इफेक्ट डालता है। यह शरीर का बैलेंस बनाने में मदद करता है, साथ ही नए आर्टिफ़िशियल घुटनों पर खड़े होने के लिए आपको कॉन्फ़िडेंस देता है।

 

वीर भद्रासन

इस आसन को करने के लिए दोनों पैरों को कुछ दूरी तक फैलाएँ। अपने बाएँ पैर को बायीं ओर घुमाएँ, फिर बाएँ घुटने को 90 डिग्री तक मोड़ें। इस समय दायाँ पैर पीछे की तरफ खिचा हुआ रहेगा। दोनों हाथों को सिर के ऊपर ले जाकर प्रणाम की मुद्रा में रखें और पीठ को खिंचाव दें। 10-15 सेकेंड इसी स्थिति में रहने की कोशिश करें। फिर इसी अभ्यास को दायीं तरफ से करें। यह आसन Quadriceps मसल्स को स्ट्रेंथ देता है, साथ ही जांघों, पिंडलियों और टखनों की मांसपेशियों को मजबूत करता है और इनमें खिंचाव लाता है।

 

ये भी पढ़ें -

सिर्फ 'सूर्य नमस्कार' करके भी आप रह सकते हैं फिट

योगा के जरिए ये सेलिब्रिटीज़ हुए फैट से फिट

जानिए किस रोग में कौन सा आसन करें

योग कहां और कैसे करें?

आप हमें फेसबुकट्विटर और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकते हैं।

 

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

जानिए बॉलीवु...

जानिए बॉलीवुड की...

चलिए जानते हैं कुछ एक्ट्रेसेस के बारे में जिन्होंने...

चाणक्य के अन...

चाणक्य के अनुसार...

सदियों से ये सोच चली आ रही है महिलाएं शारीरिक और मानसिक...

संपादक की पसंद

रामायण: घर-घ...

रामायण: घर-घर में...

रामानंद सागर की 'रामायण' लॉकडाउन में जब दोबारा प्रसारित...

खाद्य पदार्थ...

खाद्य पदार्थ जो...

आजकल आप थके-थके रहते हैं। रोमांस करने की आपकी इच्छा...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription