GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

हनीमून पर क्यों जाते हैं कपल्स

 शिखा जैन   

3rd July 2019

शादी के तुरंत बाद कपल्स हनीमून पर क्यों जाते हैं वाकई यह सवाल सोचने वाला है? जबकि पहले इसका चलन नहीं था लेकिन अब तो शादी की बाकि तैयारियों केे साथ हनीमून की प्लानिंग भ शुरू हो जाती है, उसके लिए टिकट बुक कराना, शापिंग करना आदि सब पहले ही शुरू हो जाता है। आइए जाने क्या वजह है हनीमून पर जाने की- 

अंडरस्टैंडिंग अच्छी होती है- शादी के बाद पाटनर्स अपने परिवार और दोस्तों के बीच रहते हें तो ऑफिस आने जाने और शुरूआत में होने के बीच एक दूसरे को उतना समय नहीं दे पाते कि अंडरस्टैडिंग अच्छी हो सके। साथ पूूरे परिवार के बीच वे एक दूसरे के पसंद नापसंद को भी अच्छी तरह समझ नहीं पाते हें हैं क्योंकि उनका फोकस नए घर परिवार और रिश्तों को समझने में लगा रहता है और वे अपनी साथी की तरफ उतना ध्यान नहीं दे पाते जितना कि देना चाहिए इसलिए वे हनीमून पर जाते हैं ताकि एक दूसरे को अच्छी तरह से समझ सकें।
 
हनीमून को यादगार बनाने के लिए- जिस तरह अपनी शादी को लेकर हर किसी के अपने अलग ख्वाब होते हें उसी तरह से हनीमून को लेकर भी अलग तरह की फीलिंग्स होती है। अपने वहीं सपने पूरे करने के लिए कपल्स हनीमून पर जाते हैं कई लोगों का सपना होता है कि वे सनराइज साथ में देखें। कई लोग रोमांटिंक मौसम में पहाड़ों और प्रकृति के बीच पहला किस करना चाहते हैं ताकि वह यादगार बन सकें। इसके अलावा खूबसूरत जगह की खूबसूरत पिक्चरों के साथ अपने जीवन की नई शुरूआत करना चाहते हैं।
 
तेरा साथ है कितना प्यारा- जीं हां, कपल्स यहीं महससू करने जाते हें कि उन्हें एक दूसरे का साथ कितना प्याा है। पूरे दिन रात एक दूसरे के साथ बिताकर उन्हें साथ रहने की आदत होती है और एक दूसरे की कमी को वो महसूस करते हैं उन्हें अपने साथी की हर बात प्यारी लगती है और इसी साथ साथ के कुछ दिन जो वो हनीमून पर बितते हैं वो उनमें एक रिश्ता कायम कर देते हें जो जिसमें जिंदगी भर साथ निभाने का वादा बिना कुछ कहे ही कपल्स के साथ हो लेता है।
 
रिलेक्स करने- शादी की भागादौड़ी, शापिंग आदि में दूल्हा दुल्हन दोनों ही इतने व्यस्त हो जाते हें कि वह मेंटली और फिजिकली काफी थकान महसूस करने लगते हैं और इस समय उन्हें ऐसे में अपने साथी के साथ कुछ सुकून के पलों की जरूरत होती है जो उन्हें फिर से तरोतोजा कर सकें और हनीमून से आकर वे अपने घर परिवार और नई जिम्मेदारियों के साथ सामंजय बिठा सकें। 
 
इंटीमेसी बढ़ाने में है भी मददगार- इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता है कि शादी के बाद दोनों का एक दूसरे के प्रति शारीरिक आकर्षण होना स्वभाविक है. ऐसे में हनीमून में साथ बिताया गया गया टाइम घर परिवार सो दूर उन्हें एक दूसरे के साथ खुलने का पूरा मौका देता है. वे दूसरे की इच्छाओं और जरूरतों को समझ पाते हैं और बिंदास होकर अपनी फीलिंग्स एक्सप्रेस कर पाते हैं जबकि घर पर उन्हें हमेशा इस बात का डर लगा रहता है कि कोई हमारी बात सुन ना लें या हमें देख ना लें। इसलिए उनका रिश्ता ना चाहते हुए भी एक झिझक के साथ शुरू होता है लेकिन हनीमून पर जाकर एक झिझक खत्म हो जाती हें और दोनों अपनी इच्छानुसार एक दूसरे के करीब आते हैं।                                                                                                                         

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

कम हो गया है...

कम हो गया है अब...

‘‘मैंने सुना है कि आजकल एपिसिओटॉमी का चलन नहीं रहा...

सेक्स ना करन...

सेक्स ना करने के...

यूं तो हर इंसान अपने जीवन में सेक्स ज़रूर करता है,...

संपादक की पसंद

पूजा में बां...

पूजा में बांधा जाने...

किसी भी पूजा की शुरुआत या समाप्ति के बाद या फिर किसी...

इन हाथों में...

इन हाथों में लिख...

हर दुल्हन अपने होने वाले पति का नाम लिखवाना पसंद करती...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription