GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

कंप्लेन न करें, इन बातों का ध्यान रखें और खुश होकर जीएं

गरिमा अनुराग

15th April 2019

शिकायत करना क्या है...कोई ऐसी बात जो हमें पसंद नमहीं है, लेकिन हम उसका विरोध भी नहीं कर पाए हों, तो हम शिकायत करते हैं। लेकिन कभी-कभी जिस शिकायत के बाद हम बहुत हल्का महसूस करते हैं, वो अगर आदत में शामिल हो जाए तो इसका नकारात्मक प्रभाव सामने आने लगता है। 

कंप्लेन न करें, इन बातों का ध्यान रखें और खुश होकर जीएं
क्यों करते हैं हम शिकायत
 
जब हमें ये लगने लगता है कि हम बहुत अच्छे हैं, और दूसरों ने हमारे साथ बुरा किया है या जब हमारे मन के अनुसार चीज़ें नहीं होती है और हम बिचारा जैसा महसूस करने लगते हैं। कई बार हम उस समय भी शिकायत करते हैं जब हमें अपना बचाव करना होता है, क्योंकि हम अपनी गलति आसानी से नहीं मान पाते हैं। 
 

कैसे पहुंचाता है नुकसान
 
हमेशा शिकायत करने की आदत व्यक्ति को मेंटली और फिज़िकली दोनों तरह से अस्वस्थ कर सकती है। इसका असर आपके रोज़ मर्रा के लाइफ पर पड़ सकता है। इसका असर सीधे हमारे रिश्ते पर पड़ता है। शिकायत करते रहने का असर न सिर्फ पति-पत्नी, गर्ल बॉयप्रेंड के बीच माधुर्य को खत्म करता है, बल्कि अड़ोस-पड़ोस, दोस्तों के बीच भी तनाव पैदा करने लगता है। ये स्ट्रेस को बढा़ता है और दिमाग के उस हिस्से पर प्रभाव डालता है जो सीखने और याददाश्त से जुड़ी होती है। 
 
 
कैसे रोकें खुद को शिकायत करने से
 
1. हमेशा याद रखें कि जीवन में आपको बहुत कुछ मिला है जो दूसरों को नहीं मिला। आभार महसूस करें।
2. किसी चीज़ की शिकायत करने की जगह उसका हल ढूंढे।
3. आसानी से हार नहीं माने।
4.  खुद से कहें कि आपने बहुत झेला है और अब आप चीजों को बदलेंगे।