GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

सुपर हैल्दी बनने के 8 आसान टिप्स

कविता देवगन (न्यूट्रीशनिस्ट व डोंट डाइट)

19th June 2019

हम वर्ष की आधी अवधि तक पहुंचने वाले हैं और आपके सभी संकल् प ठंडे बस् ते में जा चुके हैं (नए बन भी रहे हैं)। इनमें से कुछ किए जाने योग्य नहीं थे, कुछ सहज नहीं थे (जैसे कि मिठाई खाना बिल् कुल छोडऩा, वाकई), लेकिन अब संकल् प बनाने और तोडऩे का समय नहीं है, बल्कि इसे सही ढंग से करने का है। सबसे स्वस्थ होने के लिए इन सरल और शोध आधारित बिंदुओं पर ध्यान दें।

सुपर हैल्दी बनने के 8 आसान टिप्स

दिन की शुरुआत में प्रोटीन लें

दिन की शुरुआत में प्रोटीन लेने से ग्लूकोज और इंसुलिन पर नियंत्रण बेहतर रहता है, उन लोगों की तुलना में, जो कम प्रोटीन या बिना प्रोटीन वाला आहार लेते हैं। टोस्ट पर मक्खन की जगह पीनट बटर लगाएं, परांठे की जगह अंडा खाएं और प्लेन जूस के बजाय योगर्ट से बना स्मूथी लें। ये बदलाव आपके नाश्ते में प्रोटीन भर सकते हैं और आपको अधिक स्वस्थ बना सकते हैं।

स्मार्ट स्नैक

मफिन (और कार्बोहाइड्रेट से प्रचुर अन्य स्नैक्स जैसे कुकीज वगैरह) को बादाम के साथ रोज खाएं। रोज 1.5 ओंस (लगभग 40 ग्राम) बादाम खाने से एलडीएल और टोटल कॉलेस्ट्रोल बेहतर होता है और इससे मोटापा भी बहुत तेजी से कम होता है।

मक्खन और घी से डरें नहीं

शोध ने इस दावे को खारिज किया है कि संतृप्त वसा से हृदय रोग होते हैं। नया मंत्र यह है कि एसएफ को एकदम पूरी तरह से बंद न करें, सहजता से लें।

डाइट ड्रिंक्स को ना कहें

कई अध्ययन डाइट पेयों के सेवन को हृदय रोग, आघात और बढ़ती मृत्युदर से जोड़ते हैं। आंकड़े भी बड़े हैं- शोधकर्ताओं ने कार्डियोवैस् कुलर स्थिति में 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी बताई है और स्ट्रोक जैसी संबंधित स्थिति से मौत का जोखिम 50 प्रतिशत बढ़ जाता है।

चिप्स की जगह सेब लें

शोध बताते हैं कि कभी फल न खाने वाले लोगों की तुलना में प्रतिदिन फल खाने वाले लोग हृदय रोग के जोखिम को 25 से 40 प्रतिशत तक कम करते हैं। खूब फल खाने वाले लोगों का ब्लड प्रेशर कभी फल नहीं खाने वालों की तुलना में बहुत कम रहता है।

ट्रांस फैट्स से बचें

वैज्ञानिक कहते हैं कि ट्रांस फैट्स हृदय के साथ स्मृति (मैमोरी) के लिए भी बुरे हैं। खूब ट्रांस फैट खाने वाले लोगों का वर्ड मैमोरी टेस्ट में प्रदर्शन बहुत खराब रहता है। इन्हें अपने आहार से बाहर करना जरूरी है। यह कृत्रिम मक्खन, फास्ट फूड, बेक्ड गुड स्नैक फूड और पार्शियली हाइड्रोजिनैटेड ऑयल्स से बने भोजन में मौजूद होते हैं।

चावल छोटी चीज नहीं है

जो लोग चावल (सफेद या भूरा) प्रतिदिन खाते हैं, उनके आहार की गुणवत्ता और पोषक तत्व बेहतर रहते हैं। शोधकर्ताओं ने पाया है कि जो लोग चावल खाते हैं, उन्हें फल, हरी/नारंगी सब्जी, अनाज, मांस और बीन तथा कम शक्कर खाना पसंद होता है।

अपने मस्तिष्क के लिए हरित बनें

हरित आहार लेने से हृदय रोग दूर रहते हैं, कैंसर की रोकथाम होती है और बोध क्षमता बेहतर होती है। अध्ययन की रिपोर्ट कहती है कि ग्रीन टी पीने से मस्तिष्क के पैरियेटल और फ्रंटल कोर्टेक्स की कनेक्टिविटी बढ़ती है और कार्य में प्रदर्शन अच्छा होता है। यहां बताए गए तरीके एकदम से अपनाना थोड़ा मुश्किल है। ऐसे में आप धीमे-धीमे इन तरीकों को अपनी आदत में शामिल कर सकती हैं। शुरुआत हेल्दी ब्रेकफास्ट से करिए और यह ध्यान रखिए कि नाश्ता पूरे दिन का सबसे महत्वपूर्ण आहार है। नाश्ता ना करना सबसे बड़ी गलती है, साथ ही कोशिश करिए कि दिनभर में जंक फूड या ऐसी चीजों का सेवन ना करें, जो आपके शरीर को और आपके हेल्दी डाइट प्लान को नुकसान पहुंचा सकती हो। ये डाइट प्लान फॉलो करना इतना भी मुश्किल नहीं है। बस जरूरत है जरा सी कोशिश की।