GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

अगर बचना है वायरल फीवर से तो इन 5 घरेलू नुस्खों को आजमाएं

प्रीती कुशवाहा

17th August 2019

वायरल के संक्रमण बहुत तेजी से एक इंसान से दूसरे इंसान तक पहुंचते हैं, इसलिए बहुत जरुरी है कि वायरल फीवर के वायरल फीवर के लक्षण जैसे ही इंसान वायलर फीवर की गिरफ्त में आता है।

मॉनसून में मौसम का मजा लेना किसे पसंद नहीं हैै। लेकिन इस मौसम में कई बीमारियों के होने का खतरा होता है। मॉनसून में वायरल फीवर सबसे ज्यादा हावी होता है। वहीं इसी के साथ खांसी, जुकाम, बुखार, पेट में दर्द और बॉडी पेन जैसी कई समस्याएं भी होती हैं। इन बीमारियों के चलते हमारे शरीर का इम्यूनिटी सिस्टम काफी कमजोर हो जाता है। इसी की वजह से हमारे शरीर में बीमारियों से लड़ने की क्षमता कमजोर हो जाती है और हमारी जरा सी लापरवाही के चलते हम बार-बार बीमार हो जाते हैं। यही नहीं अगर हम बीमार व्यक्ति के संपर्क में आते हैं तब भी हम बहुत जल्दी बीमार हो जाते हैं। वायरल फीवर में  घरेलू उपायों से आप कैसे बच सकते हैं ? आइये जानें -
 
 
वायरल फीवर के लक्षण
जैसे ही इंसान वायलर फीवर की गिरफ्त में आता है ये लक्षण नज़र आने लगते हैं जैसे-
  • आंखों का लाल होना
  • जोड़ों में दर्द
  • सिरदर्द
  • गले में दर्द 
  • खांसी
  • थकान 
  • उल्टी और दस्त होना
  • माथे का बहुत तेज गर्म होना आदि।
आपको बता दें कि बड़ों के अलावा वायरल की चपेट में सबसे ज्यादा बच्चे और बुर्जुग आते हैं। क्योंकि उनके शरीर में इन बीमारियों से लड़ने की क्षमता कम होती है। इसलिए इस मौसम में इनका विशेष ध्यान रखना होता है । 

 

 
इन घरेलू नुस्खों से बचाएं अपनों को :—
 
 
नींबू और शहद
नींबू वैसे तो कई बीमारियों के लिए रामबाण माना जाता है। फिर चाहे वो वजन कम करने को लेकर हो या फिर खांसी के लिए। आपको करना ये है कि नींबू का रस और शहद को मिलाकर इसका करना है। ये वायरल फीवर के असर को कम करता है। वैसे आप शहद और नींबू का रस का सेवन कभी भी कर सकते हैं।
 
हल्दी और सौंठ का पाउडर
अदरक में एंटीऑक्सिडेंट पाया जाता है। आप एक चम्मच कालीमिर्च का चूर्ण, एक छोटा  चम्मच हल्दी का चूर्ण और एक छोटा चम्मच सौंठ यानीअदरक के पाउडर को एक कप पानी और हल्की सी चीनी डालकर गर्म कर लें। जब यह पानी उबलने के बाद आधा रह जाए तो इसे ठंडा करके पिएं।
 
मेथी का पानी
मेथी कई मायने में हमारे लिए काफी फायदेमंद होती है। साथ ही ये हमारे किचन में बड़ी ही आसानी से मिल जाती है। मेथी के दानों को एक कप में भरकर इसे रातभर के लिए भिगों लें और सुबह के समय इसे छानकर हर एक घंटे में पिएं। वहीं ऐसे करने से ये हमारे डायबिटीज में भी फायदा पहुंचता है। 
 
तुलसी का इस्तेमाल
तुलसी में एंटीबायोटिक गुण होते हैं, जिससे शरीर के अंदर के वायरस खत्म होते हैं। बस आपको करना ये है कि एक चम्मच लौंग के चूर्ण और दस से पंद्रह तुलसी के ताजे पत्तों को एक लीटर पानी में डालकर तब तक उबालना है जब तक वह पानी आधा न हो जाए। फिर इसे ठंडा कर के हर एक घंटे में पिएं।
 
धनिया की चाय
धनिया न सिर्फ हमारे खाने के स्वाद को बढ़ती है बल्कि कई सारी बीमारियों में भी फायदा पहुंचाती है। इसके साथ ही धनिया वायरल बुखार जैसे कई रोगों को खत्म करता है। वायरल के बुखार को खत्म करने के लिए धनिया की चाय बहुत ही असरदार औषधि का काम करती है।