GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

जब बच्चे को लग जाए नशे की लत

संविदा मिश्रा

26th August 2019

आजकल के बदलते परिवेश में जब पैरेंट्स अपने -अपने कार्यस्थल में व्यस्त रहते हैं और बच्चों में फिल्मों का असर कहा जाए या फिर बुरी संगति का परिणाम या फिर पैरेंट्स की नशे की लत जो एक स्टेटस सिंबल बन गई है। जाने अंजाने बढ़ते हुए बच्चे नशे की गिरफ्त में आ जाते हैं जो कि उनके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने के साथ-साथ उनके भविष्य को भी अधम में डाल देता है। 

आजकल बहुत सारे बच्चे पैरेंट्स से चोरी-छिपे तरह-तरह का नशा जैसे स्मोकिंग, ड्रग्स लेना, शराब पीना, तंबाकू-गुटखे जैसे  घातक मादक पदार्थों का सेवन कर रहे हैं। पैरेंट्स अपने आप में इतने ज्यादा उलझे रहते हैं कि उन्हें इस बात का अंदाज़ा भी नहीं लग पाता कि उनका बच्चा किसी नशे की लत में डूब गया है। ऐसे में पैरेंट्स को देखना चाहिए कि आपका वो बच्चा जिसे शायद स्कूल की पढ़ाई और अपने करियर पे ध्यान देना चाहिए था वो नशे का शिकार हो गया है। यदि बच्चे को सही निर्देशन मिले तो वो सारे व्यसनों से दूर रह सकता है। 
 
बच्चों में नशे की लत के कारण 
 
गलत संगत का असर 
 
अक्सर देखा गया है कि बच्चों में नशे की लत गलत संगत यानि कि अपने किसी ऐसे साथी से पड़ जाती है जो नशा करता है। नशा करने वाले लोग दूसरों को भी इसके जाल में फंसा लेते हैं। कभी -कभी एन्जॉयमेंट के लिए शुरू किया गया नशा बच्चों की बुरी लत बन जाता है।  
 
 
घर में पैरेंट्स या किसी बड़े को नशा करते देखकर 
कई बार पैरेंट्स बच्चों के सामने नशा करते हैं जिसको देखकर बच्चे जिज्ञासावश या फिर अपने पैरेंट्स के आदर्शों पर चलने के लिए स्मोकिंग या ड्रिंकिंग शुरू कर देते हैं जो कि बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ होता है। 
 
टीवी सीरियल या फ़िल्में देखकर 
बच्चे अक्सर टीवी सीरियल या फिर मूवीज में किसी को सिगरेट या शराब का सेवन करते हुए देखते हैं और उसका अनुसरण करने का सोचने लगते हैं। जिससे बच्चों में नशे की लत लग जाती है।  
 
पैरेंट्स का बच्चों पर ध्यान न देना 
पेरेंट्स अपनी लाइफ में इतना ज्यादा उलझ जाते हैं कि वो बच्चों पर ध्यान ही नहीं दे पाते जिसकी वजह से उचित निर्देशन न मिलने से बच्चे नशे की लत में पड़ जाते हैं। 
 
कैसे  छुड़ाएं बच्चों में नशे की लत 
 
बच्चों को संयम रखना सिखाएं 
 
संयम किसी भी लत को छुड़ाने का सबसे बेहतर जरिया है। यदि आपका बच्चा नशे के जाल में फंस जाए तो उसे संयम रखना सिखाएं। उसे बताएं कि जब भी उसे नशे का मन करे, तो वह अपने आप पर संयम रखकर अपना ध्यान  दूसरी तरफ लगाए ।
 
नशे से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में बताएं 
सबसे पहले बच्चे की नशे की लत छुड़ाने के लिए उसको नशे के दुष्प्रभावों  के बारे में बताएं। हो सके तो कुछ वीडियो क्लिप्स दिखाकर उसे नशे से होने वाली हानियों के बारे में बताएं।  
 
बच्चे से कभी भी अपने लिए नशे की सामग्री न मंगाएं 
अपने बच्चे से कभी भी अपने व्यसन की कोई सामग्री न मंगाएं। कई बार पैरेंट्स बच्चों को दुकान से उनके नशे की कोई चीज़ मंगवा लेते हैं जो कि बिलकुल गलत है। 
 
बुरी संगत बदलें 
गलत संगत में रहकर बच्चा भी गलत हरकतों में लीन हो जाता है। इसलिए सबसे पहले उसकी संगत बदलना बहुत  जरूरी है। 
 
बच्चों के सामने नशा न करें 
अक्सर पैरेंट्स कोई भी नशा बच्चों के सामने करने लगते हैं और वो भूल जाते हैं कि उनका ऐसा करना गलत है क्योंकि बच्चों के कोमल मन में किसी भी बात का असर बहुत जल्दी होता है। पैरेंट्स को देखकर बच्चे भी नशा करना सीख जाते हैं। 
 
बच्चे को किसी रचनात्मक या घरेलू कार्य में व्यस्त रखें
बच्चे को नशे की लत से छुटकारा दिलाने के लिए उसे किसी क्रिएटिव कार्य में व्यस्त रखें या फिर कभी-कभी घर के काम भी उससे कराएं जिससे उसका मन नशे से हटने लगेगा। 
 
डॉक्टर व काउंसलर से सलाह लें 
यदि बच्चे की नशे की लत हद से ज्यादा बढ़ गयी है तो डॉक्टर और काउंसलर से सलाह ज़रूर लें।