GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

क्यों होती है फूड पॉइजनिंग?

डॉ.विभा खरे

17th October 2019

फूड पॉइजनिंग विषाक्त भोजन से उपजी एक समस्या है। इस तरह का भोजन ग्रहण करने से शरीर में बैक्टीरिया, परजीवी और विभिन्न तरह के संक्रमण उत्पन्न हो जाते हैं। आइए लेख में इस पर विस्तार से चर्चा करें।

क्यों होती है फूड पॉइजनिंग?

मनुष्य जो खाता-पीता है, वह उसके पेट में और फिर वहां से आंतों में जाकर पचता है। पाचक शक्ति (जठराग्नि) से जो अन्न पच जाता है, वह अमृत के समान होता है।वही अन्न अपच रह जाए तो सिरके के समान अम्ल होकर विषाक्त हो जाता है। इसी को फूड पॉइजनिंग या अन्नविष कहते हैं। अपच आहार से जो अन्नरस तैयार होता है, वह दूषित होता है। उस पर 'कोथजनक जीवाणुओंÓ का प्रभाव होने से विभिन्न अम्ल द्रव्य तैयार होते हैं- जैसे सिरके के समान अम्ल, तक्राम्ल (लेक्टिक एसिड), नवनीताम्ल, पायरूविक अम्ल आदि। विष से जैसे विभिन्न रोग उत्पन्न होते हैं, वैसे ही यह दूषित अन्नरस अम्ल होकर शरीर में अनेक विकार उत्पन्न करने वाला होता है,अत: इसे अन्न विष कहा गया है।

गलत खान-पान 

गलत खान-पान, फूड पॉइजनिंग का सबसे बड़ा कारण है। अगर पुरुष की पाचक अग्नि(जठराग्नि) तथा रसाग्नि दुर्बल हो तो इस आहार को वे पचा नहीं पातीं। इस अपच आहार से जो अन्नरस बनता है,वह अम्ल हो कर विषाक्त हो जाता है। समअग्नि होते हुए भी यदि कोई अधिक भोजन करता है अथवा ऐसा ही अन्य अहित आचरण करता है तो अन्न का अच्छी तरह पाचन नहीं होता और उस अपच आहार से दूषित अन्नरस वैसे यह अम्ल अन्नरस भी सूक्ष्मतर स्रोतों में प्रवेश कर संपूर्ण शरीर में पहुंच जाता है और रोगों को उत्पन्न करने में समर्थ होता है। यह अपच अन्नरस द्रव्य, गुरु, अनेक रंगों वाला, चिकना, कफयुक्त, जीवाणुयुक्त,दुर्गंधवाला तथा निरंतर शूल उत्पन्न करने वाला होता है तथा विष सदृश असरकारक होता है।

आहार संबंधी भूलें

मनुष्य प्राय: आहार संबंधी भूलें करने के परिणामस्वरूप फूड पॉइजनिंग का शिकार होता है। इन भूलों का कारण कुछ तो उनका अज्ञान होता है और कुछ जानकर भी अपनी जीभ के स्वाद में पड़कर गलत चीजें खाते हैं, जिससे अन्नविष से ग्रसित होकर कष्ट उठाते हैं।जब मनुष्य अधिक भोजन करे, भूख रहने पर भी भोजन न करे, विषम आहारों का सेवन करे, अधपका भोजन करता हो, अथवा गरिष्ठ, ठंडा, अति रूखा भोजन, सड़ा हुआ बासी आहार का सेवन करे तो ऐसे आहार को पाचक अग्नि पचा नहीं पाती। इससे जो अन्नरस तैयार होता है, वह अम्लीभाव को प्राप्त हो कर विष बन जाता है।

ये भी पढ़ें -

पिरामिड-चिकित्सा से पाएं स्वास्थ्य लाभ

ध्यान यानी शांत हो जाना

आखिर शरीर में स्टैमिना कम क्यों हो जाता है? जानिए इसकी 3 वजह...

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

सीने की जलन (हार्टबर्न) को कहें अलविदा

default

घर का बाथरूम बदल सकता है आपकी किस्मत, जानें...

default

शेफ से जानें दिल का हाल

default

गरुड़ पुराण के अनुसार ऐसे कर्मों से कम हो...

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

कम हो गया है...

कम हो गया है अब...

‘‘मैंने सुना है कि आजकल एपिसिओटॉमी का चलन नहीं रहा...

सेक्स ना करन...

सेक्स ना करने के...

यूं तो हर इंसान अपने जीवन में सेक्स ज़रूर करता है,...

संपादक की पसंद

केविनकेयर के...

केविनकेयर के "इनोवेटिव...

भारतीय एफएफसीजी ग्रुप केविनकेयर ने अभिनेता अक्षय कुमार...

इन व्यंजनों ...

इन व्यंजनों को बनाकर,...

सभी भारतीय त्यौहारों के उपवास और अनुष्ठानों के बाद...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription