GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

इन 5 मुख्य कारणों से जंक फूड आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं

संविदा मिश्रा

1st November 2019

पिछले कुछ दशकों में, वड़ा पाव, समोसा, डोनट्स, पिज्जा, बर्गर, रोल, रैप, फ्रेंकी, फ्रेंच फ्राइज़ आदि हमारे देश के हर कोने में प्रवेश कर चुके हैं। आप अपने घर से बाहर कदम रखते हैं और आप उन्हें मॉल, रेस्तरां और सड़क के किनारे से लेकर ऑफिस और कॉलेज कैंटीन तक हर जगह परोसते हुए देखेंगे।

इन 5 मुख्य कारणों से जंक फूड आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं
लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि उन्हें जंक  क्यों कहा जाता है? जंक 'शब्द का अर्थ ऐसी चीज से है जो अतिरिक्त और बेकार है, और आपके सभी स्वादिष्ट, पसंदीदा खाद्य पदार्थ इस नाम से बुलाए  जाते हैं । आपके स्वास्थ्य पर इन जंक फूड के परिणाम भयानक हैं, भले ही आप उन्हें एक समय में एक बार, सप्ताह में दो बार या फिर हर दिन लेते हों।  आइए एक नज़र डालते हैं  कि कैसे ये जंक आपके स्वास्थ्य को खराब करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

थकान के पीछे का कारण 

हालांकि जंक फूड और फास्ट फूड आपको पूर्ण और संतुष्ट महसूस कराते हैं, लेकिन इनमें आपके शरीर को ऊर्जावान और स्वस्थ रखने के लिए प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट जैसे सभी आवश्यक पोषक तत्वों की कमी होती है।अगर आप हर बार भूख लगने पर जंक फूड खाते हैं, तो आप काफी थकान महसूस कर सकते हैं। यह आपके ऊर्जा स्तर को इस हद तक कम कर सकता है और आपके लिए अपने दैनिक कार्यों को करना भी मुश्किल हो सकता है।

किशोरों में डिप्रेशन  

किशोरों में बहुत सारे हार्मोनल परिवर्तन होते हैं जो उन्हें मूड स्विंग और व्यवहार परिवर्तन के लिए अतिसंवेदनशील बनाते हैं। और स्वस्थ आहार उस हार्मोनल संतुलन को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। क्योंकि जंक फूड में उन आवश्यक पोषक तत्वों की कमी होती है, जिससे किशोरों में डिप्रेशन  से पीड़ित होने की संभावना 58 प्रतिशत बढ़ जाती है।

पाचन को बाधित करता है

जो लोग वसा युक्त जंक फूड के आदी हैं, उन्हें  पाचन समस्याएं हो जाती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि जंक फूड डीप फ्राई होते हैं । जंक फूड से तेल पेट में जमा हो जाता है जिससे एसिडिटी होती है। वे पेट की जलन का कारण बनते हैं क्योंकि वे बहुत मसालेदार होते हैं, और उनमें फाइबर की भी कमी होती है जो उचित पाचन के लिए महत्वपूर्ण है।

ब्लड शुगर के स्तर में उतार-चढ़ाव का कारण  

क्योंकि जंक फूड में पर्याप्त मात्रा में अच्छे कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन की कमी होती है, इसलिए रक्त शर्करा का स्तर आपके खाने के बाद अचानक कम हो जाता है। यह आपको चिड़चिड़ा महसूस कराता है और आपको अधिक जंक फूड खाने के लिए प्रेरित करता है। 

हृदय रोग के जोखिम को बढ़ाता है

जंक फूड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाता है जो हृदय रोगों के विकास के लिए प्रमुख जोखिम कारक हैं। इसके अलावा, जंक फूड से वसा आपके शरीर में समय के साथ जमा हो जाती है जिससे आप मोटे होते हैं। आप जितना अधिक वजन डालेंगे, दिल के दौरे से पीड़ित होने का खतरा उतना ही अधिक होगा।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

जंक फूड गर्भवती महिलाओं के लिए है नुकसानदेह...

default

क्यों होती है फूड पॉइजनिंग?

default

आखिर शरीर में स्टैमिना कम क्यों हो जाता है?...

default

आयुर्वेद की संजीवनी है एलोवेरा