GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

देवउठनी एकादशी के दिन भूलकर भी ना करें ये काम

यशोधरा वीरोदय

6th November 2019

देवउठनी एकादशी के दिन भूलकर भी ना करें ये काम
हिंदू धर्म में एकादशी का विशेष महत्व माना जाता है और वर्ष के सभी 24 एकादशी में कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तो विशेष कल्याणकारी मानी जाती है। जिसे देवोत्थान एकादशी या देवउठनी एकादशी के रूप में जाना जाता है। इस बार यह दिन शुक्रवार, यानी 8 नवंबर को पड़ रहा है।मान्यता है कि इस दिन 4 महीनो से क्षीर सागर में सोए हुए भगवान विष्णु जागृत अवस्था में आते हैं, ऐसे में इस दिन किए गए व्रत और पूजा पाठ कल्याणकारी सिद्ध होती है। हालांकि देवउठनी एकादशी व्रत का पूरा लाभ पाने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। चलिए जानते हैं कि देवउठनी एकादशी के दिन कौन कौन सी बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

चावल का सेवन न करें

जी हां, देवउठनी एकादशी के दिन चावल खाना निषेध माना गया है, मान्यता है कि इस दिन चावल का सेवन करने से व्यक्ति अगला जन्म रेंगने वाले जीव के योनि में होता है। इसलिए अस दिन भूलकर भी चावल का सेवन नहीं करना चाहिए।

व्यवहार में सात्विकता बनाएं रखें

एकादशी का व्रत बेहद कठीन और संयम वाला होता है, ऐसे में इस दिन आहार-व्यवहार में सात्विकता बनाएं रखने की कोशिश करें। भूलकर भी इस दिन मन-वचन और कर्म से कोई गलत कार्य ना करें।

तामसिक भोजन न करें

इस दिन मांस-मछली और दूसरे तामसिक भोजन का भूल कर भी सेवन ना करें। 

आलस न करें

देवउठनी एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठें और स्नान आदी दैनिक कार्यों से निवृत होकर अपना मन भगवान की स्तुति में लगाएं। व्रत को दौरान दिन में ना सोएं।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

इस विधि से प...

इस विधि से पूजा और व्रत कर पाएं देवउठनी एकादशी...

जानिए देवउठन...

जानिए देवउठनी एकादशी पर क्या है तुलसी-शालिग्राम...

आज है उत्पन्...

आज है उत्पन्ना एकादशी, जानिए इसका महत्व और...

जया एकादशी 2...

जया एकादशी 2020: जानिए पूजा विधि और शुभ मुहूर्त...

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

गृहलक्ष्मी गपशप

पहली बार घर ...

पहली बार घर रहे...

लाॅकडाउन से पहले अक्षय कुमार की फिल्म सूर्यवंशी रीलीज़...

अनलाॅक 2 में...

अनलाॅक 2 में 31...

मिनिस्ट्री आफ होम अफेयर्स ने कहा है कि जो डोमैस्टिक...

संपादक की पसंद

गुरु एक सेतु...

गुरु एक सेतु है,...

गुरु तो एक सेतु है, एक संभावना है। गुरु एक तरह की रिक्तता...

दिल जीत लेंग...

दिल जीत लेंगे जयपुर...

जयपुर को गुलाबी शहर कहा जाता है लेकिन ये महलों का शहर...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription