GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

कृपया फर्श पर न बैठें , मेट्रो में क्यों होता है ऐसा अनाउंसमेंट

Samvida Mishra

6th November 2019

आप सभी ने कभी न कभी मेट्रो में सफर ज़रूर किया होगा। हमारी लंबी यात्रा को आराम और सुविधाजनक बनाने वाली मेट्रो में अक्सर ये अनाउंसमेंट होता है कि कृपया फर्श पर न बैठें। मेट्रो में एक घंटे के अंदर ही ये आवाज़ कई बार गूंज जाती है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ऐसा अनाउंसमेंट क्यों होता है।

कृपया फर्श पर न बैठें , मेट्रो में क्यों होता है ऐसा अनाउंसमेंट
लोग अक्सर थकान की वजह से मेट्रो की फर्श पर बैठ जाते हैं वैसे सोचा जाए तो ये बात समझ में नहीं आती है कि आखिर फर्श पर बैठने में क्या बुराई है। लेकिन जैसे ही आप मेट्रो के फर्श पर बैठते हैं, मेट्रो के नियमों के खिलाफ हो जाते हैं। यही नहीं दिल्ली मेट्रो ने तो अब फर्श पर बैठे हुए लोगों पर फाइन लगाना भी शुरू कर दिया है। आइए आपको बताते हैं इसके पीछे का कारण क्या है कि मेट्रो में ये अनाउंसमेंट होता है कि कृपया फर्श पर न बैठें -

बैलेंस बनाए रखने के लिए 

ऐसा अनाउंसमेंट  ट्रेन के बैलेंस को बनाए रखने के लिए किया जाता है। क्योंकि जब भी मेट्रो किसी पुल के ऊपर होती है और किसी घुमावदार जगह से गुज़र रही होती है तो फर्श पर बैठे लोगों के चलते तकनीकी समस्या होने का खतरा होता है। इसके चक्कर में ट्रेन की स्पीड भी काफी कम करनी पड़ जाती है। जिससे यात्रियों को असुविधा का सामना करना पड़ता है। 

जगह की कमी 

जब को मेट्रो की फर्श पर बैठता है तो वो मेट्रो में खड़े इंसानों से ज़्यादा जगह लेता  है। जबकि दिल्ली मेट्रो में सफर करने वालों की तादाद इतनी है कि आप अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते। ऐसे में फर्श पर बैठे लोगों की वजह से मेट्रो में काफी परेशानियां खड़ी हो जाती हैं। 

यात्रियों को असुविधा 

ट्रेन  की फर्श में बैठे हुए लोगों की वजह से अन्य यात्रियों को दरवाजे तक पहुंचने में परेशानी होती है। जिससे कई बार मेट्रो उनके गंतव्य स्थान से आगे तक निकल जाती है। 

चोट लग सकती है 

जब किसी स्टेशन पर मेट्रो रूकती  है तो ट्रेन के अंदर और बाहर वाले लोग बेहद जल्दी में होते हैं। इस जल्दबाजी में फर्श पर बैठे लोगों को चोट भी लग सकती है।

सेहत  के लिए नुकसानदेह 

नीचे बैठना इस लिहाज से भी अच्छा  नहीं होता कि आपके बैठने से पहले न जाने कौन व्यक्ति वहां खड़ा था और उसके जूतों में क्या लगा था। हो सकता है कभी इससे मेट्रो के फर्श पर बैठने वाले की सेहत को कोई खतरा पैदा हो जाए।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

कुछ यूं बदलें अपना आने वाला कल...

default

क्या आपकी 'पाद' में है दम, तो आप जीत सकते...

default

जहां दर्शन के लिए पुरुषों को करने होते हैं...

default

कोरोना से बचने के लिए सफ़र के दौरान इन बातों...

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

कम हो गया है...

कम हो गया है अब...

‘‘मैंने सुना है कि आजकल एपिसिओटॉमी का चलन नहीं रहा...

सेक्स ना करन...

सेक्स ना करने के...

यूं तो हर इंसान अपने जीवन में सेक्स ज़रूर करता है,...

संपादक की पसंद

केविनकेयर के...

केविनकेयर के "इनोवेटिव...

भारतीय एफएफसीजी ग्रुप केविनकेयर ने अभिनेता अक्षय कुमार...

इन व्यंजनों ...

इन व्यंजनों को बनाकर,...

सभी भारतीय त्यौहारों के उपवास और अनुष्ठानों के बाद...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription