जानें गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के बीच का अंतर

गीतांजली

25th January 2020

हर साल की तरह इस साल भी देशवासी अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रमों से 71वें गणतंत्र दिवस की खुशियों को मनाएंगे।

जानें  गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के बीच का अंतर
लेकिन बहुत से लोग स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) और गणतंत्र दिवस को लेकर कंफ्यूज रहते हैं. इसी कंफ्यूजन को दूर करने के लिए हम आपको बता रहे हैं  गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के बीच के अंतर को-
  • 15 अगस्त को भारत को ब्रिटेन से आजादी मिली थी , वहीं 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के तौर पर मनाया जाता है।
  • इस दिन भारतीय संविधान लागू किया गया था।
  • 26 जनवरी 1950 से भारत एक स्वतंत्र गणराज्य बन गया।  
  • 15 अगस्त को ब्रिटेन की संसद ने भारतीय स्वंत्रता अधिनियम 1947 पारित किया और ब्रिटिश भारत को भारत और पाकिस्तान में विभाजित कर दिया।
  • साथ ही भारत में कानून बनाने का अधिकार भारत की संविधान सभा को सौंप दिए गए थे।
  • 26 जनवरी 1950 से पहले भारत संवैधानिक तौर पर गणराज्य नहीं बल्कि राजतंत्र ही था।
  • 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू किया गया इससे पहले गर्वनमेंट ऑफ इंडिया एक्ट 1935 के तहत भारत में शासन चलाया जाता था।
  • 15 अगस्त 1947 को देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने भारतीय राष्ट्रीय ध्वज को लाल किले पर फहराया था।
  • इसी के बाद से हर साल 15 अगस्त को देश के प्रधानमंत्री लाल किले पर तिरंगा फहराते हैं।
  • गणतंत्र दिवस के मौक पर राजपथ पर परेड आयोजित की जाती है और इस परेड की सलामी देश के राष्ट्रपति लेते हैं।  
  • 1950 से ही भारत दूसरे देश के राष्ट्रप्रमुखों को रिपब्लिक डे परेड में मुख्य अतिथि के तौर पर आमंतित्र करता आ रहा है।
  • 15 अगस्त वाले दिन किसी दूसरे देश के राष्ट्रप्रमुख को नहीं बुलाया जाता है।
  • साल 1955 से राजपथ पर गणतंत्र दिवस की परेड होती आ रही है जबकि 15 अगस्त का जश्न लाल किले पर मनाया जाता है।  
  • गणतंत्र दिवस की संध्या पर राष्ट्रपति पद्म पुरस्कार देते हैं जबकि स्वतंत्रता दिवस वाले दिन पुरस्कार वितरण नहीं किया जाता है।  
  • गणतंत्र दिवस समारोह का समापन 'बीटिंग रिट्रीट' सेरेमनी से 29 जनवरी को किया जाता है. जबिक 15 अगस्त के जश्न का समापन उसी दिन ही किया जाता है.
  • 26 जनवरी 1950 को सुबह 10.18 बजे भारत एक गणतंत्र बना। इस के छह मिनट बाद 10.24 बजे राजेंद्र प्रसाद ने भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी।
  • इस दिन पहली बार बतौर राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद बग्गी पर बैठकर राष्ट्रपति भवन से निकले थे। इस दिन पहली बार उन्होंने भारतीय सैन्य बल की सलामी ली थी। पहली बार उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया था।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

भारतीय संविध...

भारतीय संविधान का प्रतीक गणतंत्र दिवस

देश का भविष्...

देश का भविष्य हैं बच्चे: पंडित नेहरू

जानिए राष्ट्...

जानिए राष्ट्रध्वज 'तिरंगे' से जुड़ी रोचक...

जो लौट के घर...

जो लौट के घर ना आए

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वॉटर...

क्या है वॉटर वेट?...

आपने कुछ खाया और खाते ही अचानक आपको महसूस होने लगा...

विजडम टीथ या...

विजडम टीथ यानी अकल...

पिछले कुछ दिनों से शिल्पा के मुंह में बहुत दर्द हो...

संपादक की पसंद

नारदजी के कि...

नारदजी के किस श्राप...

कहते हैं कि मां लक्ष्मी की पूजा करने से पैसों की कमी...

पहली बार खुद...

पहली बार खुद अपने...

मेहंदी लगाना एक कला है और इस कला को आजमाने की कोशिश...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription