GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

कपिल देव और आशा देवी ने लॉन्च किया VAOO द्वारा सुरक्षा फीचर से लैस ऐप SHOUT

गृहलक्ष्मी टीम

28th January 2020

हाल ही में प्रख्यात क्रिकेटर कपिल देव और निर्भया की मां आशा देवी ने नई दिल्ली के द पार्क होटल में आयोजित एक कार्यक्रम में VAOO के सीईओ अभिनीत पाठक के साथ मिलकर VAOO नामक सुरक्षा फीचर से लैस SHOUT ऐप लॉन्च किया।

कपिल देव और आशा देवी ने लॉन्च किया VAOO द्वारा सुरक्षा फीचर से लैस ऐप SHOUT
इस ऐप की खासियत यह है कि यह सिर्फ महिलाओं के लिए ही नहीं, बल्कि सभी के लिए बनाई गई है। इमरजेंसी होने पर इस ऐप का इस्तेमाल कोई भी कर सकता है। इसी के साथ अगर आप इस ऐप में वालंटियर करना चाहते हैं, तो वह भी संभव है। इस ऐप में रजिस्टर करके आप वालंटियर भी कर सकते हैं। रेजिस्ट्रेशन कर लेने के बाद पुलिस वेरिफिकेशन के लिए आपके पास आएगी। इसके अलावा आपको दिल्ली पुलिस के सेल्फ डिफेन्स प्रोग्राम में ट्रेनिंग भी दी जाएगी। अगर आप दिल्ली के किसी भी क्षेत्र में इमरजेंसी में पड़ते हैं, तो ऐप में मौजूद पैनिक बटन को दबाएं। इसके बाद आपके आस-पास मौजूद 5 वालंटियर को अलर्ट और आपकी लोकेशन की जानकारी चली जाएगी। पैनिक बटन को दबाने से आपकी जानकारी और अलर्ट दिल्ली पुलिस के पास भी जाएगा। इसके साथ ही यह अलर्ट सबसे पास के इमरजेंसी व्हीकल, मोटरसाइकिल पैट्रोल, बीट स्टाफ, क्विक रेस्पॉन्स टीम और पराक्रम वेंस को भी चला जाएगा। इस ऐप की मदद से पुलिस और आम आदमी, दोनों मिलकर किसी की मदद कर सकते हैं।
ऐप लॉन्च के मौके पर कपिल देव ने इस ऐप से जुड़े होने का कारण साझा करते हुए कहा, मैं एक लड़की का पिता भी हूं और मैं चाहता हूं कि वह सुरक्षित रहे। हमें सबसे पहले उठाए जाने वाले कदम के तौर पर अपनी मानसिकता को बदलने का काम करना चाहिए, लेकिन मानवता को नहीं छोड़ना चाहिए। मैं VAOO ऐप को बधाई देता हूं कि वे एक SHOUT सेफ्टी फीचर लेकर आए हैं, जो हर मामले को रिपोर्ट करने में मदद करेगा। साथ ही हमें अपनी लड़कियों और महिलाओं को ऐसे जघन्य अपराधों के खिलाफ लड़ने के लिए मजबूत बनाना चाहिए।
निर्भया की मां आशा देवी ने कहा, मुझे बहुत खुशी है कि VAOO ने महिला सुरक्षा के लिए इस तरह की एक महान सुविधा शुरू की है। लेकिन मेरी अपील है कि सभी माता-पिता अपनी बेटियों को सशक्त बनाएं कि वे ऐसे मामलों की रिपोर्ट करने के लिए पर्याप्त रूप से बहादुर हों। उन्होंने कहा, पुलिस और कानूनी अधिकारियों के पास कई खामियां हैं जिनके कारण न्याय में देरी होती है। कानूनी अधिकारियों, पुलिस को इस मुद्दे की संवेदनशीलता का एहसास करना चाहिए और पीड़ित को पूरी मदद करनी चाहिए। यह ऐप महिलाओं के लिए काफी मददगार साबित होगा, लेकिन मुख्य रूप से हमें बेटियों को बचाने के लिए एक कदम आगे बढ़ाना चाहिए।
कपिल देव और आशा देवी ने VAOO द्वारा सुरक्षा फीचर से लैस ऐप SHOUT

 

हाल ही में प्रख्यात क्रिकेटर पिल देव और निर्भया की मां आशा देवी ने नई दिल्ली के  पार्क होटल में आयोजित एक कार्यक्रम में VAOO के सीईओ अभिनीत पाठक के सा मिलकर VAOO नामक सुरक्षा फीचर से लैस SHOUT ऐप लॉन्च किया।
इस ऐप की खासियत यह है कि यह सिर्फ महिलाओं के लिए ही नहीं, बल्कि सभी के लिए बनाई गई है। इमरजेंसी होने पर इस ऐप का इस्तेमाल को भी कर सकता है। इसी के साथ अग आप इस ऐप में वालंटियर करना चाहते हैं, तो वह भी संभव है। इस ऐप में रजिस्टर करके आप वालंटियर भी कर सकते हैं। रेजिस्ट्रेशन कर लेने के बाद पुलिस वेरिफिकेशन के लिए आपके पास आएगी। इसके अलावा आपको दिल्ली पुलिस के सेल्फ डिफेन्स प्रोग्राम में ट्रेनिंग भी दी जाएगी। अगर आप दिल्ली के किसी भी क्षेत्र में इमरजेंसी में पड़ते हैं, तो ऐप में मौजूद पैनिक बटन को दबाएं। इसके बा आपके आस-पास मौजूद 5 वालंटियर को अलर्ट और आपकी लोकेशन की जानकारी चली जाएगी। पैनिक बटन को दबाने से आपकी जानकारी और अलर्ट दिल्ली पुलिस के पास भी जाएगा। इसके साथ ही यह अलर्ट सबसे पास के इमरजेंसी व्हीकल, मोटरसाइकि पैट्रोल, बीट स्टाफ, क्विक रेस्पॉन्स टीम और पराक्रम वेंस को भी चला जाएगा। इस ऐप की मदद से पुलिस और आम आदमी, दोनों मिलकर किसी की मदद कर सकते हैं।
ऐप लॉन्च के मौके पर कपिल देव ने इस ऐप से जुड़े होने का कारण साझा करते हुए कहा, मैं एक लड़की का पिता भी हूं और मैं चाहता हूं कि वह सुरक्षित रहे। हमें सबसे पहले उठाए जाने वाले कदम के तौर पर अपनी मानसिकता को बदलने का काम करना चाहिएलेकिन मानवता को नहीं छोड़ना चाहिए। मैं VAOO ऐप को बधाई देता हूं कि वे एक SHOUT सेफ्टी फीचर लेकर आए हैं, जो हर मामले को रिपोर्ट करने में मदद करेगा। साथ ही हमें अपनी लड़कियों और महिलाओं को ऐसे जघन्य अपराधों के खिलाफ लड़ने के लिए जबूत बनाना चाहिए।
निर्भया की मां आशा देवी ने कहा, मुझे बहुत खुशी है कि VAOO ने महिला सुरक्षा के लिए इस तरह की एक महान सुविधा शुरू की है। लेकिन मेरी अपील है कि सभी माता-पिता अपनी बेटियों को सशक्त बनाएं कि वे ऐसे मामलों की रिपोर्ट रने के लिए पर्याप्त रूप से बहादुर हों। उन्होंने कहा, पुलिस  कानूनी अधिकारियों के पास कई खामियां हैं जिनके कारण न्याय में देरी होती है। कानूनी अधिकारियों, पुलिस को इस मुद्दे की संवेदनशीलता का एहसास करना चाहिए और पीड़ित को पूरी मदद करनी चाहिए। यह ऐप महिलाओं के लिए काफी मददगार साबित होगा, लेकिन मुख्य रूप से हमें बेटियों को बचाने के लिए एक कदम आगे बढ़ाना चाहिए।
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

आखिर कभी कही...

आखिर कभी कहीं तो रुके बलात्कारियों की यह...

6 गुड हैल्थ ...

6 गुड हैल्थ टेक्नोलॉजी

महिला सुरक्ष...

महिला सुरक्षा का पहला ऐप 'हिम्मत एप्लिकेशन'...

अपराध पीड़ितो...

अपराध पीड़ितों के प्रति नज़रिया बदलें

पोल

सबसे सेक्सी ड्रेस

गृहलक्ष्मी गपशप

रिश्तेदार ही...

रिश्तेदार ही बन...

पांच साल से स्वाति एक ही संस्थान में नौकरी कर रही हैं।...

लीची से बनाए...

लीची से बनाएं सेहत...

गर्मी के मौसम में रसीले फलों की तलब और डिमांड दोनों...

संपादक की पसंद

बच्चे की परव...

बच्चे की परवरिश...

बॉलीवुड की हॉट फेमस एक्ट्रेस करीना कपूर खान कभी अपने...

खाएं इन दालो...

खाएं इन दालों से...

अंकुरित भोजन में मैग्नीशियम, कॉपर, फोलेट, राइबोफ्लेविन,...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription