GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

पांच लड़कों के रोमांचक पलों की साहसिक दास्तान

संविदा मिश्रा

6th February 2020

लौंडे शेर होते हैं : करियर तलाशने आए पांच लड़कों की एडवेंचर से भरी कहानियों का संकलन

पांच लड़कों के  रोमांचक पलों की  साहसिक दास्तान
क्या होगा जब करियर की चाह में घर से दूर आए युवा कभी प्रेम प्रसंग में पड़ जाएंगे? क्या होगा जब वो मन में डर और घबराहट होने के बावजूद भी पारलौकिक शक्तियों का सामना करने भानगढ़ के किले में पहुंच जाएंगे? क्या होगा जब वो न चाहकर भी रोड ट्रिप करते हुए कई रोमांचकारी पलों का सामना करेंगे? क्या होगा जब अपनी जवानी के जोश में पूरी तरह से सराबोर पांच लड़के कई परेशानियों से लड़कर आगे बढ़ेंगे? जीवन की आपाधापी में अपना अस्तित्व तलाशने न जाने कितने युवा बड़े शहर की ओर रुख करते हैं। उनमें से कुछ भविष्य संवारने की उधेड़बुन में अपने जीवन का कितना समय बिता देते हैं, तो न जाने कितने एक खूबसूरत नौकरी का सपना अपनी आंखों में पाले बैठे रहते हैं। न जाने कितने युवा करियर की चिंता लिए प्रेम की नदी में बहने लगते हैं। अस्तित्व बनाने की दौड़ कभी खत्म नहीं होती और जीवन का संघर्ष निरंतर जारी रहता है। कुछ ऐसे ही युवाओं की चुलबुली कहानियों का संग्रह है कुशल सिंह की ये पुस्तक 'लौंडे शेर होते हैं '। 
 
इस किताब में ऐसे पांच युवाओं के बारे में बताया गया है जो किसी न किस वजह से अपना घर छोड़कर दिल्ली आए हैं। इनमें से कोई सिविल सर्विसेज की तैयारी करने आया है तो कोई अपने पिता के कठोर व्यवहार को नकारते हुए अपने करियर की तलाश में घर छोड़ कर निकल पड़ा है, वहीं तीन और ऐसे युवा हैं जो किसी न किसी वजह से करियर बनाने की चाह में दिल्ली आए हैं। दिल्ली शहर के मालवीय नगर की एक खोली उन पांचों का अड्डा है। इस खोली में उनकी सुबह और शामें कभी एक दूसरे का दुख-दर्द बांटते 
हुए गुजरती हैं, तो कभी वो एक ही लड़की की ओर आकर्षित होकर धोखा खा बैठते हैं। ये पांचों दोस्त अपना $गम कम करने और अपने मूड को बदलने एक साथ कभी किसी एडवेंचरस ट्रिप पर निकल पड़ते हैं। ऐसी ही ट्रिप में से एक ट्रिप भानगढ़ के किले की भी शामिल है, जिसमें थोड़ा एडवेंचर है और थ्रिलर भी है। भानगढ़ से तो वो पांचों सही सलामत वापस आ जाते हैं लेकिन अभी उनका एडवेंचर खत्म नहीं होता है। वो फिर से एक रोड ट्रिप पर निकल पड़ते हैं, जिसमें उन्हे कई उतार चढ़ावों का सामना करना 
पड़ता है। 
ये किताब किसी सत्य घटना पर आधारित नहीं है लेकिन आजकल के युवाओं की सोच से मिलती-जुलती ऐसी कहानियों का संग्रह है जो कहीं न कहीं हर एक युवा की कहानी से मेल खाती नज़र आती है। इस किताब को पढ़कर ऐसा लगता है मानो ये लेखक का अपना कोई अनुभव है जबकि ये एक कल्पना मात्र है। इस किताब में कहीं-कहीं पर ऐसे शब्दों का इस्तेमाल भी किया गया है जो आमतौर पर बोलचाल की भाषा का अंश नहीं होते हैं लेकिन जब युवाओं की बात की जाती है तो आपस में वो ऐसे कुछ अशोभनीय शब्दों का प्रयोग भी करते हैं और ये भाषा कहीं न कहीं युवाओं की गर्मजोशी को दिखाती है। किताब में उन पांच युवाओं का जिक्र है जिनके मन में डर भी है लेकिन लड़के होने का गुमान भी है और इसी सोच के चलते कि लौंडे तो शेर होते हैं, वो कई बार बड़े कदम उठाते हैं। वो बहुत सी मुसीबतों का सामना भी करते हैं लेकिन मन में एक ही सोच को लिए हुए कि वो लड़के हैं और कुछ भी कर सकते हैं कई मुसीबतों से डटकर लड़ते हैं। वो जहां एक ओर अपने मन को हल्का करने रोड ट्रिप पर निकल पड़ते हैं, वहीं अपने युवा होने को पहचान देने एक कोठे पर भी पहुंच जाते हैं लेकिन वहां भी मुसीबत ही हाथ लगती है और वहां से बच के निकल कर भी वो आसानी से परेशानियों से बाहर नहीं आ पाते हैं, बल्कि दूसरी मुसीबत में फंस जाते हैं। वो लड़के हैं तो कभी साथ में बैठकर उनकी मह$िफल भी जम जाती है लेकिन चरित्र के साफ होने की वजह से एक लड़की की मदद के लिए अपने सारे दांव आजमा लेते हैं और वो लड़की ही धोखा देकर उन्हें फंसाने की कोशिश करती है। लेकिन फिर भी वो पांचों दोस्त पूरी किताब की कहानियों में बहुत सी परेशानियों से लड़ते हुए अंत में सफल हो जाते हैं और ये साबित कर ही देते हैं कि लौंडे शेर होते हैं, बब्बर शेर। 
कुल मिलाकर 'लौंडे शेर होते हैं ऐसे ही पांच युवाओं की कहानियों का संग्रह है जो व्यवहार से थोड़े सख्त हैं। जिनकी आंखों में भी बहुत से खूबसूरत सपने हैं और जो न चाहते हुए भी कई बार मुसीबतों के जाल में फंस जाते हैं। इन कहानियों में कोई साहित्य नहीं है, कोई विचार-विमर्श नहीं हैं। ये उम्र के उस दौर की कहानियों का संकलन है जब ऊर्जा अपने चरम पर होती है और मन में रोमांच का सामना करने का जज्बा और साहस होता है। ये किताब आपके टेंशन के लम्हों को काफी हद तक कम करने के लिए हंसी के हल्के फुल्के पलों को अपने अंदर समेटे हुए है और युवाओं के लिए कुछ संदेश लिए हुए उनके युवा होने पर गर्व को दिखाती है। इसका हर एक पन्ना आपको गुदगुदाते हुए और हंसाते हुए एक नई एडवेंचरस यात्रा पर ले जाता नज़र आएगा। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

लेखिका सरीता माथुर की लेखनी में प्रकृति का...

default

लेखिका रश्मि बंसल का मानना है कि महिलाओं...

default

टीनएजर्स की 10 प्रॉब्लम्स

default

हर चीज़ सोशल मीडिया से नहीं सीखनी चाहिए

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

कम हो गया है...

कम हो गया है अब...

‘‘मैंने सुना है कि आजकल एपिसिओटॉमी का चलन नहीं रहा...

सेक्स ना करन...

सेक्स ना करने के...

यूं तो हर इंसान अपने जीवन में सेक्स ज़रूर करता है,...

संपादक की पसंद

केविनकेयर के...

केविनकेयर के "इनोवेटिव...

भारतीय एफएफसीजी ग्रुप केविनकेयर ने अभिनेता अक्षय कुमार...

इन व्यंजनों ...

इन व्यंजनों को बनाकर,...

सभी भारतीय त्यौहारों के उपवास और अनुष्ठानों के बाद...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription