हमसे है ज़माना सारा,हम जमाने से हैं नहीं

दीपाली किरन

18th March 2020

भारत में ऐसी कई महिलाएं हैं, जिनकी काबिलियत को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता और जिन्होंने विश्व पटल पर अपनी विजय का परचम लहराया है।

हमसे है ज़माना सारा,हम जमाने से हैं नहीं
हम आपको बता रहे हैं उन बेशकिमती प्रभावशाली माहिलाओं के बारे मे जो अलग-अलग क्षेत्र में अपने सफलता के झंडे फहरा चुकी हैं। राजनीति, खेल, व्यापार, लेखन, समाजसेवा जैसे क्षेत्रों से जुड़ी कुछ ऐसी प्रभावशाली महिलाएं जो पूरे देश के सामने एक उदाहरण हैं।

1 .निर्मला सीतारमण

निर्मला सीतारमण भारत की प्रथम महिला वित्त मंत्री हैं। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल मे रक्षा मंत्री, वाणिज्य मंत्री तथा वित्त एवं कॉर्पोरेट मामलों की राज्यमंत्री भी रह चुकी हैं। निर्मला सीतारमण भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेताओं में से एक हैं। केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में वित्त मंत्री के तौर पर नियुक्त हैं, निर्मला सीतारमण देश की पहली पूर्णकालिक वित्त मंत्री भी बनी हैं। उनके नाम भारत की पहली पूर्णकालिक रक्षा मंत्री होने की भी उपलब्धि है, उन्होंने अर्थशास्त्र में बीए किया है जबकि एमए की पढ़ाई जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से पूरी की है। निर्मला सीतारमण 2008 में भारतीय जनता पार्टी मे शामिल हुईं और पार्टी की प्रमुख प्रवक्ताओं 
की सूची मे भी शामिल हुईं। 

2 .चंदा कोचर

एक महिला होते हुए भी चंदा कोचर ने कभी हार नहीं मानी और हमेशा अपनी लगन और चाह की बदौलत आगे बढ़ती रही। आज एक महिला देश की सर्वश्रेष्ट बैंक की सीईओ है और सफल रूप से वह आईसीआईसीआई बैंक का संचालन कर रही हैं। उन्होंने दुनिया को दिखा ही दिया कि किसी काम को करने की यदि ठान लें तो आपको उस काम को करने से कोई नही रोक सकता। चन्दा कोचर वर्तमान में प्रबंध निदेशक एमडी आईसीआईसीआई बैंक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी सीईओ हैं। 
आईसीआईसीआई बैंक भारत का सबसे बड़ा निजी और समग्र देश में चौथा सबसे बड़ा बैंक है।

3. रोशनी नादर मल्होत्रा

शिव नादर की एकलौती बेटी रोशनी नादर ने अपने पिता का व्यवसाय बखूबी संभाला। रोशनी नादर मल्होत्रा 2009 में महज 27 साल की उम्र में एचसीएल की सीईओ बन गई थीं। इसके एक साल बाद ही रोशनी कॉरपोरेशन में एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर भी बन गईं। टेक्नोलॉजी, हेल्थकेयर और इन्फोसिस्टम के लिए काम करने वाली मशहूर कंपनी एचसीएल की मार्केट वैल्यू आज करीब 48 हजार करोड़ रुपये (7.5 बिलियन डॉलर) है। रोशनी शिव नादर फाउंडेशन की ट्रस्टी भी हैं। रोशनी नादर मल्होत्रा ने अपने कॅरियर की शुरुआत एक न्यूज चैनल में इन्टर्न के रूप में की थी।

4.एकता कपूर

एकता कपूर बालाजी प्रोडक्शन कंपनी की हेड हैं। उसने 19 वर्ष की आयु में बालाजी प्रोडक्शन में काम करना शुरू कर दिया था। बालाजी प्रोडक्शन पूरे भारत में धारावाहिक टीवी नाटकों का प्रचार-प्रसार करता है। एकता कपूर अपने करियर में कई फिल्मों का भी निर्देशन कर चुकी हैं। एकता ने टीवी की दुनिया ही बदल दी, इसीलिए उन्हें टीवी क्वीन कहा जाता है। टीवी के साथ-साथ एकता अब फिल्मों का निर्माण भी करती हैं। उन्होंने कई सुपरहिट फिल्में भी दी हैं।

5.किरण मजूमदार शॉ

किरण मजूमदार शॉ ने अपनी कंपनी की शुरुआत अपने घर के गेराज, 1978 में सिर्फ 10,000 की लागत से शुरू की। किरण 2004 में भारत की सबसे अमीर महिला भी रह चुकी हैं। उनको सिर्फ बिजनेस वुमन से ही नहीं जाना जाता बल्कि किरण मजूमदार लाखों रुपये भी दान करती हैं। किरण मजूमदार शॉ एक उदार महिला के रूप मे भी जानी जाती हैं, जो अनेकों ट्रस्ट में लाखों रुपये दान भी करती हैं।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

लॉकडाउन में ...

लॉकडाउन में सरकार ने 1.70 लाख करोड़ रुपये...

कुछ न कहो, क...

कुछ न कहो, कुछ भी न कहो...

भारत की ऐसी ...

भारत की ऐसी प्रतिभावान महिलाएं जिन्होनें...

कामकाजी महिल...

कामकाजी महिलाएं कैसे करें बैंक का चुनाव

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription