पहले देखें अपनी सेहत

शीला जैन

12th March 2020

घर और ऑफिस संभालने की भागदौड़ में महिलाएं अपनी सेहत को नज़रअंदाज़ करती रहती हैं। इस लापरवाही की वजह से ही कई बार वो गंभीर बीमारियों का शिकार हो जाती हैं। इसलिए महिलाओं को चाहिए कि स्वास्थ्य संबंधी समस्यओं को अनदेखा न करें-

पहले देखें अपनी सेहत
अक्सर महिलाएं अपने घर और बाहर के कामों में इतना बिजी रहती हैं कि अपनी तरफ ध्यान देने का उन्हें टाइम ही नहीं मिलता। ऐसा नहीं है कि उन्हें हैल्थ से जुड़ी समस्याएं नहीं होती हैं, लेकिन वो इन समस्याओं को देखकर भी अनदेखा कर देती हैं और सोचती हैं कि कोई बड़ी बात तो है नहीं, इसके लिए क्या डॉक्टर के पास जाना। उनका यही रवैया उन्हें बड़ी परेशानी में डालने के लिए जिम्मेवार होता है। 

चक्कर आना

अगर आपने खूब खेलकूद या फिर काफी कड़ी ट्रेनिंग की तो हो सकता है कि इसके बाद आपका सिर थोड़ा घूम जाए। लेकिन अगर आपने पानी पिया है और सामान्य तापमान पर व्यायाम कर रहे थे, लेकिन फिर भी चक्कर आए तो अक्सर महिलाएं इसे थकान या फिर कमजोरी की वजह मानकर टाल देती हैं। लेकिन कई बार यह आम परेशानी कई 
अलग कारणों से भी होती है। चक्कर आना कई तरह की शारीरिक समस्याओं की तरफ इशारा करता है। ये आम बात कई बार जानलेवा भी साबित हो सकती है।

उपाय-

कई बार एंटीबायोटिक के सेवन के दौरान भी चक्‍कर आने जैसी समस्या हो सकती है। इसलिए डॉक्‍टर की सलाह पर ही दवाओं का सेवन करें। अगर किसी के शरीर में पानी की कमी है तो उस अवस्‍था में भी चक्‍कर आ सकता है। ऐसे में अपने साथ हमेशा एक बोतल पानी रखें और समय-समय पर पीते रहें। अगर चक्कर की समस्या अक्सर रहती हो, तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लेकर ट्रीटमेंट शुरू कर दें।

पेट दर्द

कभी-कभार खाने पीने या गैस की वजह से पेट में दर्द होना सामान्य हो सकता है, लेकिन अगर बिना वजह आपके पेट में दर्द हो रहा है, तो यह किसी बीमारी की तरफ इशारा करता है। पेट में राइड साइड की ओर होने वाला दर्द जो अक्सर आपको परेशान करता है, सामान्य नहीं है। यह दर्द सेहत से जुड़ी अनेक समस्याओं की ओर इशारा करता है। पित्त की थैली में पथरी होने पर आमतौर पर पेट के राइट साइड दर्द होता है। यह खास तौर से अपेंडि‍साइटिस के कारण भी हो सकता है। इसके अलावा महिलाओं में नीचे की ओर यह दर्द गर्भाशय की समस्या के कारण भी हो सकता है।

उपाय-

किडनी संबंधी दर्द है या फिर पथरी आदि का दर्द है, तो पानी ज्यादा से ज्यादा पिएं और डॉक्टर की सलाह लें। एसिडिटी के लिए तुरंत दवा लेने के बजाए एक गिलास ठंडा दूध पिएं या फिर एक छोटा टुकड़ा अदरक का मुंह में डालकर चूसें। इसके बाद भी यदि दर्द कम न हो, तो डॉक्टर को जरूर दिखाएं।

पीरियड आने पर हैवी ब्लीडिंग

अगर आपको एक दो घंटे के अंदर पैड बदलना पड़ रहा है या आपके पीरियड एक हफ्ते से ज्यादा समय तक रहते हैं, तो यह हैवी ब्लीडिंग माना जाता है। इसलिए इसे इग्नोर ना करें। बहुत अधिक ब्लीडिंग होने के कई कारण हो सकते हैं।

उपाय-

अगर आपको पीरियड्स के दौरान बहुत अधिक ब्लीडिंग की शिकायत है तो आप अपने साथ एक ठंडा बैग रखें। इससे ब्लीडिंग में कमी आएगी। साथ ही दर्द में भी राहत का एहसास होगा। एक तौलिए में बर्फ के कुछ टुकड़े डालकर उसे अच्छी तरह बांध लीजिए।

अचानक से वजन घटना

यह किसी डिजीज का लक्षण हो सकता है। इस स्थिति में आप जो भी खाएं शरीर उस भोजन के पोषक तत्व को सोख नहीं पाता है। अगर बिना डायटिंग के वजन 5 किलोग्राम से भी कम हो जाए तो यह कैंसर के शुरुआती लक्षण भी हो सकते हैं। यह पैंक्रियाज, पेट, ग्रासनली या फिर फेफड़ों के कैंसर की ओर इशारा करते हैं।थॉयराइड की समस्‍या के कारण भी अचानक से वजन कम होने लगता है।

उपाय-

वजन घटना अगर अचानक हो रहा है तो जरूरी है कि चेतावनी संकेतों तो समझा जाए। जितनी जल्दी बीमारी पकड़ में आती है, उसका इलाज भी उतनी जल्दी हो सकता है।

सिरदर्द

महिलाओं में सिरदर्द की समस्या आम है और इसकी वजह दुख, काम का बोझ, नींद में गड़बड़ी और तनाव माना जाता है। सिरदर्द होने पर महिलाएं अक्सर पेन किलर खा लेती हैं, लेकिन अगर सिर में बार-बार दर्द हो तो इसे हल्के में ना लें। लंबे समय तक सिरदर्द की समस्या है तो विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। यह माइग्रेन, ट्यूमर या नर्वस सिस्टम से जुड़ी दूसरी बीमारी भी हो सकती है।

उपाय-

इस दर्द से निजात के लिए घरेलू उपचार से काम चलाने का प्रयास न करें। अव्वल तो तनाव को कम करें, नींद पूरी लेने का प्रयास करें और सिरदर्द की समस्या कुछ समय तक लगातार बनी रहे तो डॉक्टर के पास जाने से बिल्कुल भी न हिचकें क्योंकि थोड़ी-सी लापरवाही बड़ी समस्या खड़ी कर सकती है।

ब्रेस्ट में होने वाले दर्द

अक्सर महिलाएं ब्रेस्ट में होने वाले दर्द को हल्का-फुल्का दर्द समझ कर नजरअंदाज कर देती हैं। लगभग 70 प्रतिशत महिलाओं को ब्रेस्ट में दर्द की शिकायत होती है महिलाओं के स्तन में यह दर्द एक या फिर दोनों स्तनों में हो सकता है। लेकिन इस दर्द को हल्के में लेने की गलती ना करें क्योंकि यह खतरनाक भी हो सकता है।अपनी सेहत को स्वस्थ रखने के लिए ब्रैस्ट में हुए बदलाव पर ध्यान देना भी बहुत जरूरी है। 

उपाय-

ब्रेस्ट को लेकर किसी भी तरह की कोई समस्या हो, तो तुरंत डॉक्टर पास जाएं और अपने ब्रेस्ट की अच्छी तरह से जांच करवाएं ताकि आप किसी गंभीर बीमारी से बच सकें। अपने आहार में हेल्दी फल और सब्जियों को शामिल करें।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

महिलाओं की स...

महिलाओं की सेक्स में कम होती रुचि

आपके किचन मे...

आपके किचन में ही है आपके दर्द की दवा

हैल्थ को लेक...

हैल्थ को लेकर न दोहराएं 8 गलतियां

टीनएजर्स की ...

टीनएजर्स की 10 प्रॉब्लम्स

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

गृहलक्ष्मी गपशप

पहली बार घर ...

पहली बार घर रहे...

लाॅकडाउन से पहले अक्षय कुमार की फिल्म सूर्यवंशी रीलीज़...

अनलाॅक 2 में...

अनलाॅक 2 में 31...

मिनिस्ट्री आफ होम अफेयर्स ने कहा है कि जो डोमैस्टिक...

संपादक की पसंद

गुरु एक सेतु...

गुरु एक सेतु है,...

गुरु तो एक सेतु है, एक संभावना है। गुरु एक तरह की रिक्तता...

दिल जीत लेंग...

दिल जीत लेंगे जयपुर...

जयपुर को गुलाबी शहर कहा जाता है लेकिन ये महलों का शहर...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription