सेहत बनाने के चक्कर में कहीं बीमारी को न्योता न दें बैठे आप

यशोधरा वीरोदय

18th March 2020

पौष्टिक माने जाने वाले खाद्य पदार्थों का अत्याधिक सेवन भी आपको घातक रोगों का शिकार बना सकता है

सेहत बनाने के चक्कर में कहीं बीमारी को न्योता न दें बैठे आप
सेहतमंद रहने के लिए पौष्टिक आहार लेना कितना जरूरी है, उतना ही जरूरी है ये जानना कि आपको कौन से खाद्य पदार्थ का सेवन कितनी मात्रा में करना चाहिए। क्योंकि कुछ पौष्टिक माने जाने वाले खाद्य पदार्थों का अत्याधिक सेवन भी आपको घातक रोगों का शिकार बना सकता है। इस आर्टीकल में हम आपको ऐसे ही कुछ पौष्टिक खाद्य पदार्थों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे आमतौर पर सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है, पर यही खाद्य पदार्थों कई गंभीर बीमारियों के लिए कारण बनती है। ऐसे में इनका सेवन सोच-समझ कर ही करना चाहिए।

पत्ता गोभी

आमतौर पर विटामिन सी और फाइबर्स से भरपूर पत्ता गोभी एक हैल्दी सब्जी मानी जाती है, पर वहीं इसके सेवन से शरीर में टेपवर्म (फीताकृमि) के पहुंचने की आशंका भी बनी रहती है। अगर पत्ता गोभी में पाया जाने वाला टेपवर्म शरीर में पहुंचता है और फिर ये दिमाग में प्रवेश कर जाता है तो जानलेवा बना जाता है। ऐसे में आहार विशेषज्ञ की माने तो कभी भी पत्ता गोभी का सेवन कच्चे रूप में नहीं करना चाहिए, हमेशा इसे उबाल कर या पकाकर ही खाएं।

अंडा 

सेहत बनाने की बात हो तो लोग अंडा खाने की सलाह देते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि अंडे का सेवन भी कई सारी गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है। स्वास्थय आकड़ो की माने तो अंडें का अधिक सेवन प्रोटेस्ट कैंसर का कारण बन सकता है। वहीं इसकी वजह से लकवा और नपुंसकता की समस्या भी हो सकती है। इसके अलावा हाई ब्लडप्रेशर या डायबिटीज के मरीज के लिए अंडे अंडे का पीला भाग आपके लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि अंडे का सेवन करते समय अपनी सेहत को ध्यान में रखें।

टमाटर

 

विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर टमाटर कैंसर और दिल की बीमारियों से जहां सुरक्षा में सहायक है, वहीं दूसरी तरफ ये पथरी की समस्या का भी जन्म देता है। असल में, टमाटर के बीज आपके आपके शरीर में किडनी में पहुंचकर पथरी यानि स्टोन का निर्माण करते हैं। इसलिए जरूरी है कि टमाटर का सेवन सीमित मात्रा में किया जाए।

पालक 

आमतौर पर पालक सबसे पौष्टिक सब्जियों में से एक मानी जाती है, पर वहीं अगर इसका सेवन अत्यधिक मात्रा में किया जाए तो वो गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है। दरअसल, पालक में प्यूरीन अधिक मात्रा में पाई जाती है, जो कि शरीर में मेटाबोलिज्म को बढ़ा देती है और इससे बॉडी में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ा देती है। ऐसे में इसके अत्यधिक सेन से एनीमिया, गठिया और किडनी की समस्या तक हो सकती है।

ये भी पढ़ें -

ये फूड करते हैं स्ट्रेस को दूर

कोरोना से बचाव ही नहीं, नमस्ते करने से मिलते हैं ये स्वास्थ्य लाभ

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

क्या आप जानत...

क्या आप जानते हैं, ये नॉन डेयरी प्रोडक्ट्स...

अच्छी डाइट स...

अच्छी डाइट से बढ़ाएं बालों की खूबसूरती

ये फूड करते ...

ये फूड करते हैं स्ट्रेस को दूर

30 की उम्र क...

30 की उम्र के बाद कैसे रखें त्वचा का ध्यान...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

जन-जन के प्र...

जन-जन के प्रिय तुलसीदास...

भगवान राम के नाम का ऐसा प्रताप है कि जिस व्यक्ति को...

भक्ति एवं शक...

भक्ति एवं शक्ति...

शास्त्रों में नागों के दो खास रूपों का उल्लेख मिलता...

संपादक की पसंद

अभूतपूर्व दा...

अभूतपूर्व दार्शनिक...

श्री अरविन्द एक महान दार्शनिक थे। उनका साहित्य, उनकी...

जब मॉनसून मे...

जब मॉनसून में सताए...

मॉनसून आते ही हमें डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, जैसी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription